December 13, 2018

दो हजार, पांचसौ , दो सौ के नोट बन्द ?

दो हजार, पांचसौ , दो सौ के नोट बन्द ?
अब तक जहाँ चल रहे थे सभी भारतीय नॉट वहाँ अब भारत में 2016 में हुई नोटबंदी के बाद लाए गए दो हज़ार, पांच सौ और दो सौ रुपए के नए भारतीय नोटों को अवैध घोषित कर दिया गया है ।

जी हाँ नेपाल की सरकार ने भारतीय मुद्रा के सौ से ऊपर के नोटों पर पाबंदी लगा दी है।


मतलब अब नेपाल में सौ से ऊपर के भारतीय नोट नहीं चलेंगे , अब आप सौ या उससे नीचे के नोट लेकर नेपाल घूम सकेंगे ।

पाबंदी के पहले तक नेपाल में स्थानीय मुद्रा के साथ भारत के सभी नोट भी चलन में थे ।

सूत्रों के मुताबिक नेपाल कैबिनेट में इसका फ़ैसला बीते सोमवार को ही ले लिया गया था लेकिन पत्रकारों को इसकी जानकारी गुरुवार दी गई है ।

नेपाल में अब दो हज़ार, पांच सौ और दो सौ रुपए के भारतीय नोट को रखना, उनके बदले किसी सामान को लेना या भारत से उन्हें नेपाल में लाना ग़ैरकानूनी हो गया है ।

हाल ही में नेपाल के मंत्रियों की एक बैठक हुई थी और इसी बैठक में यह फ़ैसला लेकर एक नोटिस जारी किया गया कि 200, 500 और 2,000 के भारतीय नोट नेपाल में अवैध होंगे।

इसका असर लोगों पर पड़ेगा, पर्यटन क्षेत्र में मुसीबत बढ़ेगी, सीमाई इलाक़ों में भारतीय व्यापारियों को समस्या होगी।

दोनों देशों के उन लोगों को दिक़्क़त होगी जो एक दूसरे के देश में काम या व्यापार करते हैं ।

इस फैसले को लेने की कोई वजह अभी तक सार्वजनिक नहीं की गई है , पर ऐसा माना जा रहा है कि नोट बंदी के दौरान नेपाल में फंसे पाँच सौ और हजार के नोट नहीं बदले जा सके इस वजह से ये फैसला लिया गया होगा ।

December 12, 2018

शिवजी की आरती

शिवजी की आरती

शिवजी की आरती


ॐ जय शिव ओंकारा, स्वामी जय शिव ओंकारा।


ब्रह्मा, विष्णु, सदाशिव, अर्द्धांगी धारा॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



एकानन चतुरानन पञ्चानन राजे।


हंसासन गरूड़ासन वृषवाहन साजे॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



दो भुज चार चतुर्भुज दसभुज अति सोहे।


त्रिगुण रूप निरखते त्रिभुवन जन मोहे॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



अक्षमाला वनमाला मुण्डमाला धारी।


त्रिपुरारी कंसारी कर माला धारी॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



श्वेताम्बर पीताम्बर बाघम्बर अंगे।


सनकादिक गरुणादिक भूतादिक संगे॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



कर के मध्य कमण्डलु चक्र त्रिशूलधारी।


सुखकारी दुखहारी जगपालन कारी॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



ब्रह्मा विष्णु सदाशिव जानत अविवेका।


मधु-कैटभ दो‌उ मारे, सुर भयहीन करे॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



लक्ष्मी व सावित्री पार्वती संगा।


पार्वती अर्द्धांगी, शिवलहरी गंगा॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



पर्वत सोहैं पार्वती, शंकर कैलासा।


भांग धतूर का भोजन, भस्मी में वासा॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



जटा में गंग बहत है, गल मुण्डन माला।


शेष नाग लिपटावत, ओढ़त मृगछाला॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



काशी में विराजे विश्वनाथ, नन्दी ब्रह्मचारी।


नित उठ दर्शन पावत, महिमा अति भारी॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥



त्रिगुणस्वामी जी की आरति जो कोइ नर गावे।


कहत शिवानन्द स्वामी, मनवान्छित फल पावे॥


ॐ जय शिव ओंकारा॥


लक्ष्मी जी की आरती

लक्ष्मी जी की आरती

आरती श्री लक्ष्मी जी


 

ॐ जय लक्ष्मी माता, मैया जय लक्ष्मी माता।


तुमको निशिदिन सेवत, हरि विष्णु विधाता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



उमा, रमा, ब्रह्माणी, तुम ही जग-माता।


सूर्य-चन्द्रमा ध्यावत, नारद ऋषि गाता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



दुर्गा रुप निरंजनी, सुख सम्पत्ति दाता।


जो कोई तुमको ध्यावत, ऋद्धि-सिद्धि धन पाता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



तुम पाताल-निवासिनि, तुम ही शुभदाता।


कर्म-प्रभाव-प्रकाशिनी, भवनिधि की त्राता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



जिस घर में तुम रहतीं, सब सद्गुण आता।


सब सम्भव हो जाता, मन नहीं घबराता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



तुम बिन यज्ञ न होते, वस्त्र न कोई पाता।


खान-पान का वैभव, सब तुमसे आता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



शुभ-गुण मन्दिर सुन्दर, क्षीरोदधि-जाता।


रत्न चतुर्दश तुम बिन, कोई नहीं पाता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥



महालक्ष्मीजी की आरती, जो कोई जन गाता।


उर आनन्द समाता, पाप उतर जाता॥


ॐ जय लक्ष्मी माता॥


आरती श्री हनुमान जी

आरती श्री हनुमान जी

आरती श्री हनुमानजी


आरती कीजै हनुमान लला की।


दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥



जाके बल से गिरिवर कांपे।


रोग दोष जाके निकट न झांके॥


अंजनि पुत्र महा बलदाई।


सन्तन के प्रभु सदा सहाई॥


आरती कीजै हनुमान लला की।




दे बीरा रघुनाथ पठाए।


लंका जारि सिया सुधि लाए॥


लंका सो कोट समुद्र-सी खाई।


जात पवनसुत बार न लाई॥


आरती कीजै हनुमान लला की।




लंका जारि असुर संहारे।


सियारामजी के काज सवारे॥


लक्ष्मण मूर्छित पड़े सकारे।


आनि संजीवन प्राण उबारे॥


आरती कीजै हनुमान लला की।




पैठि पाताल तोरि जम-कारे।


अहिरावण की भुजा उखारे॥


बाएं भुजा असुरदल मारे।


 दाहिने भुजा संतजन तारे॥


आरती कीजै हनुमान लला की।




सुर नर मुनि आरती उतारें।


जय जय जय हनुमान उचारें॥


कंचन थार कपूर लौ छाई।


आरती करत अंजना माई॥


आरती कीजै हनुमान लला की।




जो हनुमानजी की आरती गावे।


 बसि बैकुण्ठ परम पद पावे॥


आरती कीजै हनुमान लला की।


दुष्ट दलन रघुनाथ कला की॥


आरती कुंजबिहारी की

आरती कुंजबिहारी की

आरती कुंजबिहारी की


 

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की


गले में बैजंती माला, बजावै मुरली मधुर बाला।


श्रवण में कुण्डल झलकाला, नंद के आनंद नंदलाला।


 

गगन सम अंग कांति काली, राधिका चमक रही आली।


लतन में ठाढ़े बनमाली


भ्रमर सी अलक, कस्तूरी तिलक, चंद्र सी झलक;


ललित छवि श्यामा प्यारी की॥


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥



आरती कुंजबिहारी की


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥



कनकमय मोर मुकुट बिलसै, देवता दरसन को तरसैं।


गगन सों सुमन रासि बरसै;


बजे मुरचंग, मधुर मिरदंग, ग्वालिन संग;


अतुल रति गोप कुमारी की॥


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥


 

आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥



जहां ते प्रकट भई गंगा, कलुष कलि हारिणि श्रीगंगा।


स्मरन ते होत मोह भंगा;


बसी सिव सीस, जटा के बीच, हरै अघ कीच;


चरन छवि श्रीबनवारी की॥


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥


आरती कुंजबिहारी की


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥




चमकती उज्ज्वल तट रेनू, बज रही वृंदावन बेनू।


चहुं दिसि गोपि ग्वाल धेनू;


हंसत मृदु मंद,चांदनी चंद, कटत भव फंद;


टेर सुन दीन भिखारी की॥,


श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥


आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्णमुरारी की॥



आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


आरती कुंजबिहारी की, श्री गिरिधर कृष्ण मुरारी की॥


गणेशजी की आरती

गणेशजी की आरती

श्री गणेश जी की आरती


जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।


माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥



एक दन्त दयावन्त चारभुजाधारी


माथे पर तिलक सोहे मूसे की सवारी।


पान चढ़े फूल चढ़े और चढ़े मेवा


लड्डुअन का भोग लगे सन्त करें सेवा॥



जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।


माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥



अन्धे को आँख देत, कोढ़िन को काया।
बाँझन को पुत्र देत, निर्धन को माया ।।



'सूर' श्याम शरण आए सफल कीजे सेवा


माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥


जय गणेश जय गणेश जय गणेश देवा।


माता जाकी पार्वती पिता महादेवा॥


ओम जय जगदीश हरे

ओम जय जगदीश हरे

ॐ जय जगदीश हरे


ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी जय जगदीश हरे।

भक्त जनों के संकट, क्षण में दूर करे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

जो ध्यावे फल पावे, दुःख विनसे मन का।

स्वामी दुःख विनसे मन का।

सुख सम्पत्ति घर आवे, कष्ट मिटे तन का॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

मात-पिता तुम मेरे, शरण गहूँ मैं किसकी।

स्वामी शरण गहूँ मैं किसकी।

तुम बिन और न दूजा, आस करूँ जिसकी॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

तुम पूरण परमात्मा, तुम अन्तर्यामी।

स्वामी तुम अन्तर्यामी।

पारब्रह्म परमेश्वर, तुम सबके स्वामी॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

तुम करुणा के सागर, तुम पालन-कर्ता।

स्वामी तुम पालन-कर्ता।

मैं मूरख खल कामी, कृपा करो भर्ता॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

तुम हो एक अगोचर, सबके प्राणपति।

स्वामी सबके प्राणपति।

किस विधि मिलूँ दयामय, तुमको मैं कुमति॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

दीनबन्धु दुखहर्ता, तुम ठाकुर मेरे।

स्वामी तुम ठाकुर मेरे।

अपने हाथ उठा‌ओ, द्वार पड़ा तेरे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

विषय-विकार मिटा‌ओ, पाप हरो देवा।

स्वमी पाप हरो देवा।

श्रद्धा-भक्ति बढ़ा‌ओ, सन्तन की सेवा॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

श्री जगदीशजी की आरती, जो कोई नर गावे।

स्वामी जो कोई नर गावे।

कहत शिवानन्द स्वामी, सुख संपत्ति पावे॥

ॐ जय जगदीश हरे।

 

December 04, 2018

ठीक नहीं बैंकों का हाल

ठीक नहीं बैंकों का हाल
बुधवार को रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की समीक्षा होनी है l इससे पहले ही अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों मूडीज और फिच ने सरकारी बैंकों की सेहत पर प्रश्न चिन्ह लगाए हैं l

सोमवार को मूडीज ने और उसके तुरंत बाद मंगलवार को फिच ने सरकारी क्षेत्र के बैंकों की माली हालत में हाल फिलहाल कोई सुधार नहीं दिखने के आसार जताए हैं।

दोनो एजेंसियों ने कहा है कि अगले वित्त वर्ष सरकारी बैंकों में एनपीए की समस्या और बढ़ सकती है ।

इस दौरान बुधवार को रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की समीक्षा में ब्याज दरों को लेकर रिजर्व बैंक क्या फैसला करता है इस पर सभी की नजर रहेगी l

साथ साथ सरकारी बैंकों की हालात को सुधारने के लिए केंद्रीय बैंक क्या कदम उठाएगा वो भी देखने वाली बात है ।

मौद्रिक नीति की समीक्षा से पहले अंतरराष्ट्रीय रेटिंग एजेंसियों ने भारतीय बैंकिंग की वित्तीय स्थिति पर जो विचार व्यक्त किया है वह बेहद चिंताजनक है।

फिच की रिपोर्ट में एक तरह से चेतावनी दी गई है कि एनपीए की समस्या अभी खत्म होती नहीं दिख रही है ।

हालाँकि मूडीज ने यह जरुर कहा है कि अर्थव्यवस्था की स्थिति में सुधार होने का सकारात्मक असर बैंकों पर पड़ेगा लेकिन अभी भी बैंकों पर संकट बरक़रार है l

काफी समय से दोनो एजेंसियां भारतीय बैंकों के बारे में जो रिपोर्ट दे रही हैं वो बैंकिंग व्यवस्था के लिए चिंताजनक है ।

बैंकिंग व्यवस्था को लेकर फिच और मूडीज की सालाना रिपोर्ट को उध्योग जगत में काफी तवज्जो दी जाती है।

सूत्रों के मुताबिक केंद्र सरकार की तरफ से सरकारी बैंकों को 20 हजार करोड़ रुपये की अतिरिक्त मदद  मुहैया कराई जा सकती है ।

पहले भी सरकार जनवरी 2018 में और जुलाई, 2018 में कुछ सरकारी बैंकों को मदद की राशि दी थी , बैंकों की जरुरत को देखते हुए यह काफी कम साबित हुई l 

रिजर्व बैंक की मौद्रिक नीति की समीक्षा के दौरान आरबीआइ की तरफ से बैंकों में वैधानिक पूंजी स्तर रखने के मौजूदा नियमों में कुछ बदलाव किया जा सकता है।

बैंकिंग सिस्टम में फंड की उपलब्धता बढ़ाने को लेकर भी आरबीआइ की तरफ से नई योजनाएं बन सकती है।

बुलंदशहर घटना पर पूरी ख़बर

बुलंदशहर घटना पर पूरी ख़बर

ऐसा क्या हुआ जो जान के दुश्मन हो गए ?


बुलंदशहर ज़िले के महाव गांव के राजकुमार नाम के शख्स के खेत में गाय के अवेशष मिले थे जिन्हें देख काफी लोग इकठ्ठा हो गए l

लोगों का कहना है कि उन्होंने अपने खेतों में कम से कम एक दर्जन गायों के कंकाल देखे थे l

खबर फैलते ही  लगभग दो सौ से ज़्यादा हिंदू खेत में जमा हो गए और इस बात को लेकर आपस में विचार विमर्श करने लगे कि आगे क्या करना है l

राजकुमार की पत्नी रेनू का कहना है कि हम गाय के अवशेष खेतों में ही गाड़ना चाह रहे थे, लेकिन भीड़ नहीं मानी l

गाय का कंकाल मिलने के बाद कई गांव वाले बहुत ग़ुस्से में थे और उन्होंने फ़ैसला किया कि वो इसे लेकर थाने जाएंगे और पुलिस से फ़ौरन कार्रवाई की मांग करेंगे l

पुलिस के मुताबिक महाव गांव के जंगल में गोकशी की घटना की जानकारी मिलते ही पुलिस घटनास्थल पर पहुंची तो वहां काफ़ी भीड़ जमा थी l समझाने पर भी भीड़ कुछ सुनने को तैयार नहीं थी और पथराव शुरू कर दिया l

इसके बाद योगेश राज नामक व्यक्ति आदि लोगों के नेतृत्व में दोपहर में चौकी चिंगरावठी के सामने सड़क पर लगे जाम लगाए खड़े लोग और उग्र होने लगे l

लोगों ने हाईवे पर स्थित चिंगरावाटी पुलिस चौकी को घेर लिया, उस समय थाने में केवल छह लोग थे और वे घबराहट में पुलिस मुख्यालय बार-बार फ़ोन करने लगे l

पुलिस मुख्यालय से फ़ौरन ही अतिरिक्त पुलिस भेजने का आदेश दिया गया l

पुलिस इंस्पेक्टर सुबोध को जैसे ही उन्हें ख़बर मिली वो अपनी गाड़ी में बैठे और ड्राइवर राम आसरे को लेकर स्थल की ओर रवाना हुए l वह घटनास्थल पर पहुंच गए और ग़ुस्से से भरी भारी भीड़ के बीच चले गए l

मौके पर पहुंचे एसडीएम स्याना और क्षेत्राधिकारी स्याना ने भीड़ को समझाने की कोशिश की, दोषियों के ख़िलाफ़ कार्रवाई का आश्वासन  भी दिया l  और कुछ लोगों को कोतवाली, स्याना चलकर एफ़आईआर की कॉपी लेने को भी कहा l

प्रभारी निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह ने भी वहां लोगों को समझाने-बुझाने की कोशिश की लेकिन कोई कामयाबी नहीं मिली l

उन्होंने बुलेटप्रूफ़ जैकेट नहीं पहना था और उनके हाथ में पिस्तौल भी नहीं थी l

जैसे-जैसे भीड़ का आकार बढ़ा वह आक्रामक होती चली गई जिससे और अधिकारी भी मौक़े पर पहुंच गए l इसी हालात में पुलिस ने बल प्रयोग करने का फ़ैसला ले लिया l

पुलिस के अनुसार नाराज़ भीड़ के पास देसी कट्टे थे और वह पुलिस टीम पर फ़ायरिंग कर रही थी l हालात हाथ से निकले जब पुलिस ने भीड़ को तितर-बितर करने के इरादे से हवा में गोली चलाई l

खबर के मुताबिक इसके बाद दोनों तरफ से फायरिंग होने लगी और गोलियों की आवाज सुनाई देने लगीं l

कुछ वरिष्ठ अधिकारियों ने ख़ुद को पुलिस स्टेशन के छोटे से गंदे से कमरे में बंद कर लिया l उधर सुबोध कुमार सिंह हमलावरों की ओर से फेंकी गई ईंट लगने से ज़ख़्मी हो गए l

गोहत्या को बंद करने की मांग कर रही हिंसक भीड़ के आगे अब पुलिसकर्मियों की संख्या बहुत कम रह गई ,

ड्राइवर रामआसरे के मुताबिक ईंट से चोट लगने के बाद उन्हें गाड़ी की पिछली सीट पर बिठाया और जीप को दूसरी ओर घुमाया भीड़ ने उनका पीछा किया और फिर से हमला कर दिया l

गाडी फंसने के बाद वहां से भाग निकले , मगर घायल प्रभारी निरीक्षक सुबोध कुमार सिंह को गोली मार दी गई और उनकी लाइसेंसी पिस्तौल, तीन मोबाइल फ़ोन छीनकर ले गए l

इसके बाद वो लगातार फ़ायरिंग करते रहे और वायरलेस सेट तोड़ दिए l

पोस्टमॉर्टम रिपोर्ट बताती है कि सुबोध कुमार सिंह की बायीं भौंह के ठीक ऊपर गोली लगी l

जब सुबोध कुमार सिंह को नज़दीकी अस्पताल ले जाया गया तो डॉक्टरों ने उन्हें मृत घोषित कर दिया l

भीड़ के साथ प्रदर्शन कर रहे सुमित नाम के एक अन्य युवक को भी गोली लगी थी जिसकी बाद में मेरठ के एक अस्पताल में मौत हो गई l

इस घटना के बाद पूरा गांव वीरान पड़ा हुआ है लोग गांव छोड़कर भाग गए हैं कुछ को गाय का कंकाल मिलने के बाद उनपर शक के बदले का डर है तो कुछ को पुलिस की कार्यवाही का डरl

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिवंगत इंस्पेक्टर की पत्नी को 40 लाख रुपए और उनके माता-पिता को 10 लाख रुपए की आर्थिक सहायता देने व आश्रित परिवार को पेंशन और परिवार के एक सदस्य को नौकरी देने का भी आश्वासन दिया है l

गोकशी के शक में हिंसा भड़काने के आरोप में पुलिस ने चार लोगों को गिरफ्तार किया। हिंसा और इस दौरान मारे गए इंस्पेक्टर सुबोध सिंह की हत्या में मुख्य आरोपी बजरंग दल नेता योगेश राज अभी भी फरार है।

इसी ने सोमवार को गोकशी होने की शिकायत दर्ज कराई थी। पुलिस इस मामले में 4 लोगों को हिरासत में लिया है ।

पुलिस ने मामले में दो एफआईआर दर्ज की हैं। पहली एफआईआर स्लॉटर हाउस पर और दूसरी हिंसा को लेकर दर्ज हुई है। एफआईआर में 27 नामजद और 60 अज्ञात आरोपी हैं। इनमें बजरंग दल का नेता योगेश राज, भाजपा युवा अध्यक्ष शिखर अग्रवाल, विहिप कार्यकर्ता उपेंद्र राघव भी नामजद है ।

घटना के बाद विभिन्न दलों के नेताओ ने अलग अलग प्रकार से प्रतिक्रिया जाहिर की है

आजम खान ने योगी सरकार पर निशाना साधा है l

विपक्ष ने कहा है कि प्रदेश जल रहा है और मुख्यमंत्री चुनावी रैलियों में व्यस्त हैं l

डॉ. कुमार विश्वास ने लिखा :
"लुटे सियासत की मंडी में और झूठी रुसवाई में ,
जाने कितना वक़्त लगेगा रिश्तों की तुरपाई में...!"
सत्ता के लिए ये नेता कुछ भी कर सकते हैं !
अंधभक्तो जाग जाओ, देश के सौहार्द्र को आग मत लगाओ !
नहीं तो कुछ नहीं बचेगा इन नरभक्षियों की दुकानों के अलावा “

माननीयों पर लंबित 4 हजार से अधिक केस

माननीयों पर लंबित 4 हजार से अधिक केस
देश की शीर्ष अदालत ने राज्य  तथा विभिन्न उच्च न्यायालयों से वर्तमान और पूर्व विधायकों के खिलाफ लंबित आपराधिक मामलों की विस्तृत जानकारी मांगी थी l

 

जानकारी मांगने के पीछे उद्देश्य है कि ऐसे मामलों में जल्द सुनवाई के लिए पर्याप्त संख्या में विशेष अदालतों का गठन हो सके सके ।

 

इसी संदर्भ में उच्चतम न्यायालय को सोमवार को सूचित किया गया था। जिसमें बताया गया था कि संसद और विधानसभाओं के वर्तमान और कुछ पूर्व सदस्यों के खिलाफ तीन दशक से भी अधिक समय से 4,122 आपराधिक मामले लंबित हैं।

 

वरिष्ठ अधिवक्ता विजय हंसारिया और अधिवक्ता स्नेहा कालिता ने राज्यों और उच्च न्यायालयों से प्राप्त डेटा शीर्ष अदालत में पेश किया ।

 

 

आज 4 दिसंबर उच्चतम न्यायालय ने पूर्व और वर्तमान सांसदों और विधायकों के खिलाफ मामलों की सुनवाई के लिए बिहार और केरल में सत्र अदालतों के गठन का निर्देश दिया है।

 

प्रधान न्यायाधीश रंजन गोगोई की अध्यक्षता वाली पीठ एक जनहित याचिका पर वर्तमान और पूर्व विधायकों के खिलाफ आपराधिक मामलों से संबंधित मुद्दों पर विचार कर रही है ।

राज्यों और उच्च न्यायालयों से प्राप्त डेटा से पता चलता है कि 264 मामलों में उच्च न्यायालयों ने सुनवाई पर रोक लगा दी गई l

 वर्ष 1991 से लंबित कई मामलों में तो आरोप तक तय नहीं किए गए हैं।


अधिवक्ता एवं भाजपा नेता अश्चिनी उपाध्याय की एक याचिका में आपराधिक मामलों में दोषी सिद्ध नेताओं पर ताउम्र प्रतिबंध लगाने की मांग की गई है l

अदालत इस याचिका पर जल्द सुनवाई करेगी ।

शीर्ष अदालत निर्वाचित प्रतिनिधियों से जुड़े इस तरह के मामलों में सुनवाई में तेजी लाने  के लिए विशेष अदालतें गठित करने पर भी विचार करेगी ।

 

संसद और विधानसभाओं के वर्तमान और कुछ पूर्व सदस्यों के खिलाफ काफी समय से आपराधिक मामले जो 4 हजार से भी अधिक हैं लंबित हैं, जिससे आमजन का विश्वास डगमगा जाता है ।

 

 

December 01, 2018

भारत को मिली जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी

भारत को मिली जी-20 शिखर सम्मेलन की मेजबानी

साल 2022 में भारत जी-20 शिखर सम्मेलन ( G20 Summit) की मेजबानी करेगा


अर्जेंटीना के ब्यूनस आयर्स में चल रहे जी20 शिखर सम्मेलन के दौरान भारत के प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने इटली से गुजारिश की थी कि वह 2021 में इस सम्मेलन की मेजबानी करे, ताकि 2022 का मौका भारत को मिले l

पीएम मोदी ने कहा कि इटली समेत दूसरे देश इसपर राजी हो गए हैं, बता दें कि इसी साल भारत अपनी आजादी की 75वीं सालगिरह मनाएगा l

 

इटली ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की उस गुजारिश को स्वीकार कर लिया है जिसमें उन्होंने 2022 का जी-20 शिखर सम्मेलन भारत में आयोजित करने का आग्रह किया था।

साल 2022 में भारत जी-20 शिखर सम्मेलन ( G20 Summit) की मेजबानी करेगा l

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को यहां यूरोपीय परिषद के अध्यक्ष डोनाल्ड टस्क, यूरोपीय आयोग के अध्यक्ष जीन क्लॉड जंकर और जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल से मुलाकात की।

 

इस महत्वपूर्ण समूह की बैठक की मेजबानी मिलने को एक बड़ी सफलता माना जा रहा है. पीएम मोदी ने कहा कि मैं आभारी हूं और 2022 में दुनियाभर की लीडरशिप को भारत आने के लिए आमंत्रित करता हूं l

बता दें कि इससे पहले पीएम नरेंद्र मोदी, अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप और जापानी प्रधानमंत्री शिंजो आबे ने वैश्विक और बहुपक्षीय हितों के बड़े मुद्दों पर चर्चा करने के लिए अपनी पहली त्रिपक्षीय बैठक को लेकर जी-20 शिखर सम्मेलन से इतर मुलाकात की l

 

रणनीतिक महत्व के हिंद - प्रशांत क्षेत्र में चीन के अपनी शक्ति प्रदर्शित करने के मद्देनजर यह बैठक काफी मायने रखती है.

 

पीएम मोदी ने कहा, '2022 में भारत की आजादी की 75वीं सालगिरह है। हमने इटली से अनुरोध किया था कि यदि वह 2022 की जगह 2021 में अपने यहां जी-20 सम्मेलन का आयोजन कर ले तो 22 की मेजबानी हमें मिल सकती है। उन्होंने हमारी गुजारिश को स्वीकार कर लिया है। मैं उनका आभारी हूंl

 

अब जी-20 सम्मेलन का आयोजन 2022 में भारत करेगा l

November 28, 2018

10th Bank Bipartite Settlement

10th Bank Bipartite Settlement

Highlights of 10th Bank Bipartite Settlement


Here are the main HIGHLIGHTS of pay AND other details finalized in 10th Bipartite Settlement

Settled as : Proposed hike of 15% ‘Pay Slip Components’ which will be distributed among various components of monthly pay such as Basic Pay, Special Pay, FPP, PQP, Dearness Allowance, HRA, CCA, and Other Allowance.

1. A step towards 5 Days Banking


Holiday for 2nd and 4th Saturdays of each month

It was a good news for bankers in 10th BPS that by agreeing to work for full time on 1st 3rd and 5th Saturdays in months Holiday for 2nd and 4th Saturdays approved by IBA. Only disappointment is in a month having 5 Saturdays, there will be full working days on 3 Saturdays (first, third and fifth).

2.Special Allowance (New Allowance)


7.75% of Basic Pay. D A is payable on this allowance.

3.Leave Fare Concession


Officer shall be entitled to receive an amount equivalent to the eligible fare for the class of travel of which he is entitled up to a distance of 4500 kms (one way) for officers in JMG-Scale-I and MMG – Scale II & III and 5500 kms (one way) for officers in SMG- Scale IV & above.

Subordinate staff - 2 Year Block 2500 kms.(one way), 4 Year Block 5000 kms.(one way),

Class of fare -AC III Tier for the journey by mail/express train. By Steamer - II Class Cabin

Non Subordinate staff - 2 Year Block 2000 kms.(one way), 4 Year Block 4000 kms.(one way),

Class of fare -II AC for the journey by mail/express train. By Steamer - I Class Cabin

4.D.A. Rates (%) per slab


0.10% per slab over 4440 points

5. Halting Allowance


Halting Allowance Officers (w.e.f. 1.6.2015)

Scale 6 and above

Metro- 1800, Class A Cities- 1300, Area 1-1100 , others -950

Scale 4 and 5

Metro- 1500, Class A Cities- 1300, Area 1-1100 , others -950

Scale 1 , 2 , 3

Metro- 1300, Class A Cities- 1100, Area 1-950 , others - 800

click to Know About : 9th Bipartite Settlement



Halting Allowance Workmen


Clerical

Places with population of 12 lakhs and above and States of Goa --- Rs.700

Places with population of 5 lakhs and above, State Capitals/ Capitals of Union Territories not covered in column (A) -Rs.600

Other Places- Rs. 450

Substaff

Places with population of 12 lakhs and above and States of Goa --- Rs.500

Places with population of 5 lakhs and above, State Capitals/ Capitals of Union Territories not covered in column (A) -Rs.400

Other Places- Rs. 250

6.House Rent Allowance


 



























45 lacs
& Abv.
12-45
lacs
Below 12 lacs4th Area
abolished
%%%
Clerks10.009.007.50
Sub-staff10.009.007.50

 

7. Medical Aid


Medical Aid for Oficers  Rs. 8000 up to Scale III & 9050 above Scale III

Medical Aid for Workmen Rs. 2200 .

8. Leave


Paternity Leave – 15 days twice in service.

Spl. Leave for hysterectamy – 60 days

 

9.Officer Pay Scales (Basic)


Basic Pay 23700 – 85000

Special allowance
Up to Scale III @ 7.75% + DA
Scale IV and V 10% + DA
Scale Vi and VII 11% + DA

HRA @ 7 8 9 %

CCA @ 600 and 870> 3% and 4% subject to maximum

Officer Scale I     Rs. 23700-980/7-30560-1145/2-32850-1310/7-42020

Officer Scale-II    Rs. 31705-1145/1-32850-1310/10-45950. Rs. 48800

Officer Scale III  Rs. 42020-1310/5-48570-1460/2-51490. Rs. 64600


10 . Workmen Pay Scales

















Pay Scales
Clerks11765 – 655/3 – 13730 – 815/3 – 16175 – 980/4 – 20095 – 1145/7 – 28110 – 2120/1 – 30230 – 1310/1 – 31540
Sub-staff9560 – 325/4 – 10860 – 410/5 – 12910 – 490/4 – 14870 – 570/3 – 16580 – 655/3 – 18545

 

10. Special Pay – Clerks / Substaff


 



































Single Window Operator820
Head Cashier II1280
Special Assistant1930
Bill Collector/Armed Guard390
Daftary560
Head Peon740
Electrician/AC Plant Helper2040
Driver2370

Other allowances

Washing Allowance – Rs.150/- p.m.
Cycle Allowance – Rs.100/- p.m.
Split Duty Allowance – Rs.150/- p.m.
Hill &; Fuel – 8% Max. 1500, 4% Max. 600, 3% Max. 500
Proj Area Comp Allow. – Clerk – 250, 200 – SS – 200, 175

 

LFC/Hospitalisation – Dependent income Rs.10,000/-  

Normal Delivery Charges Rs.50,000/-

For Part time empl Actual Service to be reckoned for Pension.

New Cashless Medical Scheme:

All employees/retires will be covered by a New Scheme which provides for full reimbursement of Hospitalization Expenses.

click to Know About : 9th Bipartite Settlement


 

November 21, 2018

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग
जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग कर दी है ।

पीडीपी की महबूबा मुफ़्ती के बाद पीपुल्स कांफ्रेंस के लीडर सज्जाद लोन ने भी बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया था ।
इसके बाद राज्यपाल ने विधानसभा भंग कर दी ।

अब राज्य में नए सिरे से चुनाव होंगे.

आज पहले पीडीपी ने जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया , इसके लिए 56 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी राज्यपाल को भेज दी गई थी ।

कांग्रेस, पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस के बीच गठबंधन हो रहा था ऐसी खबर आई थी ।

अब विधानसभा भंग कर दी गई है और राज्य में किसी को सरकार बनाने का मौका नहीं मिलेगा ।

पीडीपी नेता अल्ताफ बुखारी ने कहा था कि कश्मीर के स्पेशल स्टेटस, धारा 370 और 35 (ए) को बचाने के लिए सभी साथ आए हैं।

जम्मू कश्मीर में कुल 87 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 44 है । जिसमें सीटों की स्थिति कुछ इस प्रकार है

पीडीपी- 28
बीजेपी-25
नेशनल कॉन्फ्रेंस-15
कांग्रेस-12
जेकेपीसी-2
सीपीएम-1
जेकेपीडीएफ़-1
निर्दलीय-3

विधानसभा भंग के बाद उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया कि नेशनल कॉन्फ्रेंस 5 महीने से विधानसभा भंग करने को कह रही थी और महबूबा मुफ़्ती साहिबा की दावे की चिट्ठी के चंद मिनट में विधान सभा को भंग करने का आदेश आ गया यह कोई संयोग नहीं है ।

बता दें जम्मू एवं कश्मीर की 87-सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 25 सीटें जीतीं और मुफ्ती मोहम्मद सईद की PDP को समर्थन देकर सरकार बनाई थी ।
जो सरकार भाजपा के समर्थन वापसी से गिर गई थी ।

November 20, 2018

महानदी में गिरी बस 15 की मौत

महानदी में गिरी बस 15 की मौत
उड़ीसा के कटक शहर में जगतपुर के निकट मंगलवार की शाम एक बस के पुल से महानदी नदी में गिर गई जिससे लगभग 15 लोगों की मौत हो गई।

चालक ने जानवर को बचाने के लिए बस को मोड़ दिया और इस वजह से यह हादसा हुआ ।

एक भैंस के अचानक से बस के सामने आ जाने के कारण बस के ड्राइवर ने बस से नियंत्रण खो दिया और फिर बस सीधे महानदी में जा गिरी ।

15 लोगों की मौत के साथ साथ 49 अन्य घायल बताए जा रहे हैं ।

खबर के अनुसार तालचर से कटक जा रही यह निजी बस नियंत्रण बिगड़ने के बाद पुल की रेलिंग से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई और 30 फुट नीचे सूखी नदी में गिर गई।

बस के अंदर फंसे घायल यात्रियों को बचा लिया गया और उन्हें इलाज के लिए एससीबी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया है।

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मारे गए लोगों के लिए 2 लाख रुपए के मुआवजे का एलान किया है।

लोन माफ

लोन माफ
बिहार के जिले दरभंगा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिले के गाँव विशनपुर में प्रोफेसर स्वर्गीय उमाकांत चौधरी की प्रतिमा के अनावरण करने पहुंचे ।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस दौरान छात्रों के लिए बहुत बड़ा एलान कर दिया ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को पढ़ाई के लिए बैंक से मिलने वाले चार लाख रुपये तक के लोन को बच्चे को नहीं चुकाना होगा यदि पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद उसे कहीं नौकरी नहीं मिलती है।

बच्चे पढ़ाई पर ध्यान दें यदि उन्हें नौकरी न मिली तो बैंक से लिया हुआ पूरा लोन माफ़ हो जाएगा ।

जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनाई और बिना नाम लिए विरोधियों पर तीर भी चलाए ।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा जल्द ही दरभंगा से हवाई सेवा शुरू होने वाली है जिसके लिए जमीन अधिग्रहण का काम किया जा रहा है।

हवाई सेवा शुरू होने से उन मिथिलावासी को फायदा पहुंचेगा जो बाहर रहते हैं हवाई सेवा शुरू होने से वे बिना पटना आये सीधे सफर कर सकेंगे ।


आरजेडी और लालू परिवार का बिना नाम लिए कटाक्ष करते हुए कहा कि पहले लालटेन युग था, लोग अंधेरे में रहते थे अब बिजली मिल गई तो लालटेन भी समाप्त हो गया ।

मुख्यमंत्री ने कहा दूसरे लोगों को जब मौका मिला तो वे पाप करने लगे, हमें मौका मिला तो हम काम कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री के लोन माफी के फरमान से लोगों को खुशी है कि नौकरी न मिली तो कम से कम लोन तो न चुकाना पड़ेगा ।

केजरीवाल पर हमला

केजरीवाल पर हमला
दिल्ली के सचिवालय में मुख्यमंत्री चेम्बर के बाहर की घटना है जब एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री पर अचानक से हमला बोल दिया ।

नारायणा दिल्ली के रहने वाले एक सख्स अनिल शर्मा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के पैर छूते समय पहले उनका चश्मा खींचा जिससे वह टूट गया , और साथ ही मुख्यमंत्री की आंखों में मिर्ची पाउडर से हमला कर दिया ।

ये सब कुछ ही सेकेंडों में हुआ कि किसी को भी कुछ सोचने देखने तक का समय नहीं मिला ।

मुख्यमंत्री लंच के लिए अपने चेंबर से निकल कर घर जा रहे थे, इसी दौरान हमला करने वाला शख्स बात करने के बहाने करीब आया।

 

इसे मुख्यमंत्री की सुरक्षा में एक बड़ी चूक के रूप में देखा जा रहा है । हमला मुख्यमंत्री के कार्यालय के बाहर हुआ जो एक 'उच्च सुरक्षा' वाला क्षेत्र है ।

अधिकारियों के मुताबिक केजरीवाल का चश्मा तो टूटा मगर उनकी आंखों को कोई नुकसान नहीं हुआ है । आरोपी खैनी के पैकेटों में मिर्च का पाउडर लेकर सचिवालय आया था।



फोटो : हमले में फैला हुआ मिर्च पाउडर

सुनने में आया कि मिर्च पाउडर फेंकने के बाद आरोपी ने धमकी भी दी कि अभी तो उसे जेल होगी मगर जेल से बाहर आकर वह उन्हें गोली मार देगा।

केजरीवाल के करीबी अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस पर उन्हें कम सुरक्षा देने का आरोप लगाया और कहा कि एक महीने में तीसरी बार केजरीवाल को नुकसान पहुंचाने की कोशिश हुई है।

आरोपी को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और पूछताछ जारी है , अभी तक हमले का कारण सामने नहीं आया है ।

उधर 'आप' प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने हमले के लिए भाजपा पर आरोप लगाया , इसे एक गंभीर मामला और हमले को 'राजनीति से प्रेरित' करार दिया ।

भाजपा के नेता मनोज तिवारी ने हमले की निंदा की और घटना की 'उच्च स्तरीय' जांच की मांग की है ।

MICR CODE क्या है

MICR CODE क्या है

What is MICR Code?


MICR code is a code printed on cheques using MICR (Magnetic Ink Character Recognition) technology. This enables identification of the cheques and which in turns means faster processing of cheques in clearing system.


An MICR code is a 9-digit code that uniquely identifies the bank and branch participating in an Electronic Clearing System (ECS).

MICR 9 Digits comprises of 3 parts:

  • The first three digits of MICR represent  the city (City Code). They are aligned with the PIN.

  • The next 3 digits of MICR CODE represent the bank (Bank Code).

  • The last 3 digits of MICR CODE represent the branch (Branch Code).


The MICR code is located on the bottom of a cheque leaf, next to the cheque number. You can also find it printed on the first page of a bank savings account passbook.

What is MICR code used for?


One is required to mention the MICR code while filing up various financial transaction forms such as investment forms or SIP form.

 

GET IFSC/MICR CODE: CLICK HERE

IFSC/MICR CODE प्राप्त करने : यहाँ क्लिक करें

MICR कोड क्या है?


MICR कोड MICR (मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉग्निशन) तकनीक का उपयोग कर चेक पर छपा हुआ कोड है। यह चेक की पहचान करने में सक्षम बनाता है और जिसका उपयोग क्लियरिंग सिस्टम में चेक का तेजी से खाता में भुगतान हेतु प्रयोग होता है।

यदि आपने अपने Account की Cheque Book बनवाई है और आपके पास Cheque है तो अपने देखा होगा की Cheque के नीचे लाइन पर 9 अंकों का एक नंबर लिखा होता और ये विशेष मैगनेटिक इंक से लिखा जाता है जिसे हम MICR Code कहते है।

MICR कोड एक 9-अंकीय कोड होता है, जो इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सिस्टम (ECS) में भाग लेने वाले बैंक और शाखा की विशिष्ट पहचान करता है।

 

MICR 9 अंकों में 3 भाग होते हैं



  • MICR के पहले तीन अंक शहर (सिटी कोड) को दर्शाते हैं। वे उस शहर का पिन नम्बर होते हैं।

  • MICR कोड के अगले 3 अंक बैंक (बैंक कोड) को दर्शाते हैं।

  • MICR कोड के अंतिम 3 अंक शाखा (शाखा कोड) को दर्शाते हैं।


MICR कोड चेक के निचले भाग पर स्थित होता है, जो चेक नंबर के आगे लिखा होता है। आपकी बैंक सेविंग अकाउंट पासबुक के पहले पेज पर भी प्रिंट होता हैं।

 

MICR कोड किस लिए उपयोग किया जाता है?


किसी को विभिन्न वित्तीय लेनदेन प्रपत्र जैसे कि निवेश फॉर्म या SIP फॉर्म दाखिल करते समय MICR कोड का उल्लेख करना होता है।

MICR Code आपके चेक को क्लीयर करने की विधि को आसान और Fast बनाता है इस Code का इस्तेमाल Bank द्वारा एक Account से दूसरे Account में पैसे Transfer करने के दौरान Account से जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

MICR Code में Iron Oxide Based Ink का उपयोग किया जाता है इसीलिए MICR Code के अंक को मशीन द्वारा पढने में आसानी होती है MICR Scanner बहुत ही अच्छे से Characters को पढ़ते है जिससे बहुत कम ग़लतियाँ होती है।

IFSC code क्या है?

IFSC code क्या है?
The Full Form of IFSC Code is Indian Financial System Code Basically it is used for NEFT & RTGS money transfer.You can find IFSC Code on your cheque leaf and also printed on the first page of pass book along with account number.

RBI is the central banking institution of India which controls Indian rupee and all banks. It controls inter-bank money transfer all over the banks in India through RTGS and NEFT.

It means IFSC Code refers to Indian Financial System Code, which is an eleven-character code assigned by RBI to identify every bank branches uniquely, that are participating in NEFT system in India.

This code is used by electronic payment system applications such as RTGS and NEFT.

 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

 

Understanding 11 Digit IFSC Code:


The code is of 11 characters. Which is composed of alpha numeric entities (number & alphabets).

 

  • The first part is the first four alphabet characters (First 4 Digits) representing the Bank name Like SBIN For STATE BANK OF INDIA, BKDN for DENA BANK , MAHB for BANK OF MAHARASHTRA.


 

  • Next character or FIFTH digit is left as 0 (ZERO), which is reserved for future use.


 

  • The last six characters (6 Digits) are the branch code Represent The specific Branch of that Particular BANK.


So it is very clear that if you want To find the desired branch IFSC code with details , you have to first know the bank code (4 Digit) then add 0 (zero) & in last add branch code (6 Digit).

 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

 

जब हम एक बैंक से दूसरी बैंक में फण्ड ट्रांसफर करते है तो हमें कुछ जानकारियो की आवश्यकता होती है। जैसे IFSC Code। IFSC code का उपयोग NEFT (एनईएफटी), RTGS (आरटीजीएस) की सुविधा का प्रयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) और हमारी बैंकिंग प्रणाली Source और Destination शाखाओं की पहचान करने के लिए IFSC CODE का इस्तेमाल करते हैं ।

 

IFSC कोड का पूर्ण रूप (Indian Financial System Code ) भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड है मूल रूप से इसका उपयोग NEFT और RTGS मनी ट्रांसफर के लिए किया जाता है। आपको यह कोड अपने चेक बुक लीफ पर मिल सकता हैं और खाता संख्या के साथ पासबुक के पहले पृष्ठ पर भी मुद्रित होता हैं।

 

आरबीआई भारत का केंद्रीय बैंकिंग संस्थान है जो भारतीय रुपये और सभी बैंकों को नियंत्रित करता है। यह आरटीजीएस और एनईएफटी के माध्यम से पूरे भारत में बैंकों में अंतर-बैंक मनी ट्रांसफर को नियंत्रित करता है।

 

IFSC कोड भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड को संदर्भित करता है, जो RBI द्वारा प्रत्येक बैंक शाखाओं की विशिष्ट पहचान करने के लिए एक ग्यारह-वर्ण (11 DIGIT) का कोड है ।

 

आइये IFSC CODE को समझें:


 

यह कोड 11 DIGIT का होता है। जो अल्फा न्यूमेरिक एंटिटीज (संख्या और अक्षर) से बना है।

 

  • पहला भाग पहले चार अक्षर का है, जिसमें बैंक नाम जैसे SBIN स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के लिए, DENA बैंक के लिए BKDN, MAHARASHTRA बैंक के लिए MAHB का प्रयोग होता है।


 

  • IFSC CODE का अगला भाग या पांचवां अंक 0 (ZERO) के रूप में छोड़ा गया है।, जो भविष्य के उपयोग के लिए आरक्षित है।


 

  • IFSC CODE के अंतिम छह अक्षर (अंतिम 6 अंक या अक्षर) शाखा कोड के हैं, जो उस विशिष्ट बैंक की विशिष्ट शाखा के होते है।


 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

यदि आप विवरण के साथ किसी शाखा का IFSC कोड खोजना चाहते हैं, तो आपको पहले बैंक कोड जानना होगा (4 अक्षर का) फिर 0 (शून्य) और अंत में शाखा कोड (6 अंक या अक्षर) साथ में जोड़ें और IFSC CODE तैयार हो जाएगा।

November 10, 2018

प्लेन हाईजैक की खबर से हड़कंप

प्लेन हाईजैक की खबर से हड़कंप
दिल्ली से कंधार जाने वाली एक फ्लाइट FG312 के हाई जैक की खबर से एयरपोर्ट पर हड़कंप मच गया । वहीं विमान में बैठे यात्री सकते में आ गए कि ये हुआ क्या ?

वहीं खबर लगते ही सुरक्षा एजेंसिया अलर्ट हो गईं ।

खबर के अनुसार दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे पर दिल्ली से कंधार जाने वाली एरियाना अफगान एयरलाइंस में फ्लाइट के ही पायलेट से गलती से हाइजैक बटन दब गया ।

हाईजैक बटन दबते ही एंटी टेरर फोर्स और नेशनल सिक्‍योरिटी गार्ड (एनएसजी) एक्‍शन में आ गईं । एनएसजी के कमांडो व अन्‍य एजेंसियों ने विमान को घेर लिया ।

दरअसल जब हाईजैक बटन दबता है या दबाया जाता है तो बटन दबते ही सिग्नल कंट्रोल रूम में पहुँच जाते हैं ।

और वही हुआ बटन भले ही गलती से दबा परन्तु बटन दबते ही सुरक्षा एजेंसिया अलर्ट हो गईं जिसके बाद फ्लाइट को रोका गया और सीआईएसएफ और दिल्ली पुलिस द्वारा पूरी फ्लाइट की चेकिंग की गई ।

विमान में क्रू के 9 सदस्‍य और 125 यात्री सवार बताए गए ।

सभी सुरक्षा जांच पूरी होने पर करीब दो घंटे बाद अफगान एयरलाइन का यह विमान उड़ान भर सका ।

विमान में सवार यात्री इस दौरान घबराहट और तनावपूर्ण माहौल में रहे । जब यह सुनिश्चित हो गया कि क्रू की गलती थी जब जाकर विमान को उड़ान भरने की इजाजत मिली ।

November 08, 2018

गोवर्धन पूजा

गोवर्धन पूजा
गोवर्धन पूजा Goverdhan Pooja दीपावली के दूसरे दिन कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा को की जाती है।

इस त्यौहार का भारतीय लोकजीवन में काफी महत्व है।

गोवर्धन पूजा में गोधन यानी गायों (गौ वंश ) की पूजा की जाती है। शास्त्रों में गाय को नदियों के समान पवित्र बताया गया है ।

गाय को देवी लक्ष्मी का स्वरूप भी कहा गया है। देवी लक्ष्मी जिस प्रकार सुख समृद्धि प्रदान करती हैं उसी प्रकार गौ माता भी अपने दूध से स्वास्थ्य रूपी धन प्रदान करती हैं।

ग़ोवर्धन के संबंध में कहानी :


एक बार इंद्र देव को बहुत घमंड हो गया , तब श्रीकृष्ण भगवान ने लीला रची और इंद्र देव की जगह गौ वंश की पूजा कराई ।

एक दिन उन्होंने देखा के सभी बृजवासी उत्तम पकवान बना रहे हैं और किसी पूजा की तैयारी में जुटे। श्री कृष्ण ने प्रश्न किया " ये आप लोग किनकी पूजा की तैयारी कर रहे हैं" कृष्ण की बातें सुनकर उन्होंने कहा कि हम देवराज इन्द्र की पूजा के लिए अन्नकूट की तैयारी कर रहे हैं।

ऐसा कहने पर श्री कृष्ण बोले हम इन्द्र की पूजा क्यों करते हैं? हमें तो गोर्वधन पर्वत की पूजा करनी चाहिए क्योंकि हमारी गाये वहीं चरती हैं, इस दृष्टि से गोर्वधन पर्वत ही पूजनीय है ।

तब ग़ोवर्धन पर्वत और गौ पूजा से इंद्र नाराज हो गए और इंद्र देव ने क्रोध में आकर मूसलाधार बारिश की ।

कृष्ण ने ब्रजवासियों को मूसलधार वर्षा से बचने के लिए मुरली कमर में डाली और अपनी कनिष्ठा उंगली पर पूरा गोवर्घन पर्वत उठा लिया और सभी बृजवासियों को उसमें अपने गाय और बछडे़ समेत शरण लेने के लिए बुलाया।



इन्द्र का मान मर्दन के लिए तब श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से पर्वत के ऊपर रहकर वर्षा की गति को नियत्रित करने और शेषनाग को मेड़ बनाकर पानी को पर्वत की ओर आने से रोकने को कहा ।

सात दिन तक गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उँगली पर उठाकर रखा और गोप-गोपिकाएँ उसकी छाया में सुखपूर्वक रहे।

इन्द्र लगातार मूसलाधार वर्षा करते रहे जब कामयाब न हुए तब वे ब्रह्मा जी के पास पहुंचे । ब्रह्मा जी ने इन्द्र से कहा कि आप जिस कृष्ण से हठ कर रहे हैं वह भगवान विष्णु के अवतार हैं।

यह सुनकर इन्द्र अत्यंत लज्जित हुए और श्री कृष्ण के पास जाकर बोले प्रभु मैं आपको पहचान न सका आप दयालु हैं मेरी भूल क्षमा करें।

सातवें दिन जब इंद्र देव का घमंड चूर चूर हो गया तब भगवान ने गोवर्धन पर्वत को नीचे रखा और हर वर्ष गोवर्धन पूजा करके अन्नकूट उत्सव मनाने की आज्ञा दी। तभी से यह उत्सव अन्नकूट के नाम से भी जाना जाता है ।

अभिमान चूर होने के बाद इन्द्र ने श्रीकृष्ण से क्षमा मांगी। तब कृष्ण ने उन्हें क्षमा करते हुए गोवर्धन पूजा में इंद्र की आराधना करने का भी कहा ।

पूजा विधि :


गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाया जाता है। गाँव में गाय बैल आदि को सजाया जाता है । गाय गोबर से बनाए गए गोवर्धन की पूजा अर्चना की जाती है और परिक्रमा भी ।



बृजवासी इस दिन गोवर्घन पर्वत की पूजा करते हैं। गाय बैल को इस दिन स्नान कराकर उन्हें रंग लगाया जाता है व उनके गले में नई रस्सी डाली जाती है। गाय और बैलों को गुड़ और चावल मिलाकर खिलाया जाता है



शाम को गोबर से बने ग़ोवर्धन पर कई जगह बैलों से भी परिक्रमा करने का प्रचलन है ।



स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं।भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए भजन कीर्तन भी करते हैं।

अन्नकूट :


 



अन्नकूट बनाने में सभी तरह की सब्जियां लौकी, कद्दू, भिंडी, गोभी , मूली, शिमला मिर्च, व अन्य सब्जियों के साथ साथ सूखे मेवे और चावल का प्रयोग किया जाता है। यह बहुत ही स्वादिष्ठ तैयार किया जाता है । साथ ही ताजे फल और मिष्ठान से भगवान को भोग लाया जाता है।


ब्रज में अन्नकूट का प्रसाद ग्रहण करने दूर दूर से लोग आते हैं ।
जो नहीं आ पाते वे घर में ही इसे बनाते हैं ।

November 06, 2018

दिवाली या दीपावली

दिवाली या दीपावली
दीपावली या दिवाली Diwali भारत वर्ष का सबसे बड़ा त्योहार या कहें त्योहारों का राजा ।

असत्य पर सत्य की विजय , अंधकार पर प्रकाश की विजय का त्योहार दिवाली भारत में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाए जाने वाला यह पर्व पूरे देश के लिए खुशहाली लेकर आता है ।

दिवाली आई खुशियाँ लाई :


कहते हैं न हर आदमी का दिन आता है , कुछ ऐसा ही है यह त्योहार इसमें हर व्यक्ति का अच्छा समय आता है , अब आप पूछेंगे कैसे ? तो आइए बताते हैं ।

माना जाता है इस पर्व में घर पर लक्ष्मी माँ स्वयं आती हैं तो शुरुआत होती है साफ सफाई से जिससे कबाड़ वालों का इस समय सीजन माना जाता है ।

रंग रोगन की की दुकानों पर अच्छी खासी बिक्री होती है , दिवाली से पहले ही ग्रह प्रवेश शुभ माना जाता है ऐसे में एक माह पूर्व से ही घर संबंधी सभी वस्तुओं की बिक्री जोर पकड़ती है ।

त्योहारों की श्रृंखला है दिवाली :


दीपावली कोई एक दिवसीय त्योहार नहीं बल्कि एक त्योहारों की श्रृंखला है । करवाचौथकरवाचौथ पर सुहाग के समान , साड़ी , कपड़े, मेकअप आदि की दुकानें ग्राहकों से भरी रहती हैं ।

उसके बाद आता है धनतेरसधनतेरस यानि धनत्रियोदशी इस दिन बर्तन, सोना ,चाँदी, गाड़ियाँ ,कार ,मोटरसाइकिल ,साइकिल व अन्य व्यवसाय अपने उच्च स्तर पर होते हैं ।

धनतेरस के अगले दिन और दिवाली से एक दिन पहले वाला दिन छोटी दिवालीछोटी दिवाली के नाम से जाना जाता है इसे नरकचतुर्दशीनरकचतुर्दशी भी कहा जाता है ।
इस दिन को यदि गिफ्ट डे या उपहार दिवस बोला जाए तो गलत नहीं होगा , दिवाली की छुट्टी से पूर्व का यह दिन कार्यरत कर्मचारियों के साथ साथ व्यापारियों के बीच आपसी उपहार वितरण में सबसे श्रेष्ठ समझिए ।

कार्य करने वाले लेबर, मजदूर वर्ग, कर्मचारी और व्यवसायी सभी को वे जहां भी काम कर रहे हैं उनके मालिक कुछ न कुछ उपहार देते हैं । जिससे उपहार की दुकानों के साथ मिष्ठान की दुकानें भी जमकर चलती हैं ।

फिर आता है मुख्य दिवस दिवाली इस दिन तो पूजा पाठ , सुबह से शाम , फूलों की बिक्री से लेकर पूजा सामग्री, मिट्टी से बनी मूर्तियां , दिए ( दीपक) की बिकवाली वर्ष की सबसे अधिक होती है ।

दिवाली के अगले दिन आता है ग़ोवर्धन पूजा जिसे बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है , ये त्योहार गोधन का होने के कारण शहरों की अपेक्षा गाँव में बड़े स्तर पर होता है ।

उसके अगले दिन भाई दूज इस दिन बहनें अपने भाइयों का टीका करती हैं , इस दिन भी मिष्ठान वितरण बहुत अधिक रहता है ।

लक्ष्मी और गणेश की पूजा


शुभ महूर्त में धन की देवी लक्ष्मी और रिद्धि सिद्धि के प्रभु श्री गणेश का पूजन विधिवत किया जाता है , इसमें मिट्टी के बने लक्ष्मी गणेश शुभ माने जाते हैं ।

दीपक जलाना, घर की सजावट, खरीददारी, आतिशबाज़ी, पूजा, उपहार, दावत और मिठाइयाँ पूजा में चार चाँद लगाती हैं ।

दीपावली के पीछे मान्यता :


माना जाता है कि दीपावली के दिन भगवान राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात घर अयोध्या लौटे थे। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए।

कार्तिक मास की अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से अयोध्या जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
यह पर्व अक्टूबर या नवंबर माह में ही पड़ता है ।

नरक चतुर्दशी (छोटी दिवाली)

नरक चतुर्दशी (छोटी दिवाली)
छोटी दिवाली , दीवाली या दीपावली से एक दिन पहले का त्योहार ।

यह त्यौहार नरक चौदस या नर्क चतुर्दशी या नर्का पूजा के नाम से भी प्रसिद्ध है।

इसे छोटी दीपावली इसलिए कहा जाता है क्योंकि दीपावली से एक दिन पहले, रात के वक्त उसी प्रकार दीए जलाए जाते हैं जैसे दीपावली की रात को ।

दीपावली की पांच पर्वों की श्रृंखला के मध्य में रहने वाला त्यौहार है दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस फिर नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली फिर दीपावली और ग़ोवर्धन पूजा, भाईदूज।

ऐसा कार्तिक महीने में कृष्ण चतुर्दशी के दिन प्रातःकाल तेल लगाकर स्नान करने से नरक से मुक्ति मिलती है। विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति सभी पापों से मुक्त हो स्वर्ग को प्राप्त करते हैं।

कहानी है कि इस दिन ही भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी नरकासुर का वध कर सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कराया था ।

इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में एक अन्य कथा यह है कि रन्ति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे।

उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके सामने यमदूत आ खड़े हुए।

यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा।

आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है।

पुण्यात्मा राजा की अनुनय भरी वाणी सुनकर यमदूत ने कहा हे राजन् एक बार आपके द्वार से एक भूखा ब्राह्मण लौट गया यह उसी पापकर्म का फल है।

दूतों की इस प्रकार कहने पर राजा ने यमदूतों से कहा कि मैं आपसे विनती करता हूं कि मुझे वर्ष का और समय दे दे।

यमदूतों ने राजा को एक वर्ष की मोहलत दे दी। राजा अपनी परेशानी लेकर ऋषियों के पास पहुंचा और उन्हें सब वृतान्त कहकर उनसे पूछा कि कृपया इस पाप से मुक्ति का क्या उपाय है।

ऋषि बोले हे राजन् आप कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें और ब्रह्मणों को भोजन करवा कर उनसे अनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें।

राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया। इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ।

उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।

इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर तेल लगाकर स्नान करने का बड़ा महत्व है। स्नान के पश्चात विष्णु मंदिर और कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन करना अत्यंत पुण्यदायक कहा गया है। इससे पाप कटता है और रूप सौन्दर्य की प्राप्ति होती है।

सूर्योदय से पूर्व उठकर, स्नानादि से निपट कर यमराज का तर्पण करके तीन अंजलि जल अर्पित करने का विधान है।

शाम को यमराज के लिए दीप दान किया जाता है।

November 05, 2018

टी 20 से पहले बदला स्टेडियम

टी 20 से पहले बदला स्टेडियम

अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल स्टेडियम


जी हाँ यदि आपको नहीं पता कि ये स्टेडियम कहाँ है यो आपको बता दें कि इसी स्टेडियम में आज भारत और वेस्टइंडीज के बीच पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर का टी-20 मैच होने जा रहा है ।

पचास हजार दर्शकों की क्षमता रखने वाला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के इकाना स्टेडियम में मंगलवार ,6 नवंबर 2018 को पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला जाएगा ।

इससे पहले ही योगी सरकार ने इस स्टेडियम का नाम बदल दिया है, अब इसका नाम 'इकाना' नहीं बल्कि, अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल स्टेडियम होगा ।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल ने राम नाईक ने स्टेडियम के नाम बदले जाने की स्वीकृति दे दी है।

स्टेडियम में 9 पिच हैं, शानदार ड्रेसिंग रूम है और दूधिया रोशनी का शानदार इंतजाम है।

स्टेडियम में पहले अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच को देखने के लिए प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई कैबिनेट मंत्रियों के आने की संभावना है ।

राज्यपाल व मुख्यमंत्री के मैच देखने आने के कारण स्टेडियम में हर तरह की सुविधा, सुरक्षा और तैयारी का कार्य जोरों पर हैं।

November 03, 2018

बनेगा राम मंदिर

बनेगा राम मंदिर
ज्यों ज्यों चुनाव नजदीक आ रहे हैं राम मंदिर का मुद्दा दिन पर दिन जोर पकड़ता जा रहा है ।

राम मंदिर मुद्दे पर आज बाबा रामदेव ने कहा है कि यदि न्यायालय के निर्णय में देर हुई तो संसद में इसका बिल आएगा।

इससे पहले आरएसएस ने भी सरकार से मांग की है कि वह संसद में कानून बनाकर जमीन का अधिग्रहण करे और मंदिर बनाने का रास्ता साफ करे ।

बाबा रामदेव ने कहा है कि राम जन्मभूमि पर राम मंदिर नहीं बनेगा तो किसका बनेगा? संतो और रामभक्तों ने संकल्प किया है अब राम मंदिर में और देर नहीं चाहिए ।

जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष राम विलास वेदांती का दावा है कि राम मंदिर का निर्माण दिसंबर में शुरू हो जाएगा । जिसका रास्ता आपसी सुलह से बनेगा ।

बाबा राम देव के अनुसार भी इसी वर्ष शुभ देश को राम मंदिर पर कोई न कोई शुभ समाचार अवश्य मिलेगा।

इसके पूर्व भी संघ की ओर से भैया जोशी ने प्रेस कांन्फ्रेंस की थी और कहा था कि अगर जरूरत पड़ी तो राम मंदिर के लिए 1992 जैसा आंदोलन करेंगे ।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में सुनवाई को टाल दिया है और हाल फिलहाल कोर्ट से इस संबंध में जल्द ही निर्णय की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती ।

हालांकि विपक्ष के अनुसार राम मंदिर के मुद्दे को चुनाव की वजह से ज्यादा हवा दी जा रही है ।

विपक्ष के अनुसार पूर्ण बहुमत और यूपी सहित कई राज्यों में भाजपा सरकार होने के बाबजूद सिर्फ चुनावी समय में राम मंदिर की बात सिर्फ वोट की राजनीति है ।

भाजपा के तमाम नेता मंदिर न बनने का ठीकरा विपक्ष पर फोड़ देते हैं ।

वहीं एससीएसटी एक्ट कानून के बाद सवर्ण समाज का कहना है कि जब कोर्ट के फैसले के खिलाफ ये कानून आ सकता है तो मंदिर पर कोर्ट का इंतजार क्यो ?

इन्ही सब बातों के बीच राम को उनका मंदिर जल्द ही मिलने के आसार तो कम ही नजर आ रहे हैं क्योंकि सरकार की तरफ से अभी तक कोई रुख साफ नहीं किया गया है ।

ऐश्वर्या का तेज से तलाक

ऐश्वर्या का तेज से तलाक
आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप की विवाहित जिंदगी दांव पर लगी है ।

तेजप्रताप ने पत्नी से तलाक के लिए कोर्ट में अर्जी डाली है।

तेजप्रताप की शादी इसी साल 12 मई 2018 को आरजेडी विधायक चंद्रिका राय की बेटी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा राय की पोती ऐश्वर्या से से हुई थी ।

शादी को बचाने के लिए सुलह की कोशिशों में परिजन जुटे हुए हैं लेकिन लालू यादव के पुत्र तेज प्रताप यादव का कहना है कि घुट घुट कर जीने से क्या फायदा ।

तेज प्रताप के अनुसार अब तीर कमान से निकल चुका है और सुलह की कोई भी गुंजाइश नहीं है ।

छह महीने में ही तेज प्रताप ने पटना के फैमिली कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दी है जिस पर कोर्ट की सुनवाई की तारीख 29 नवंबर है।

गौरतलब है कि अब कुछ ही महीनों में 2019 का चुनाव होने को है ऐसे में लालू के परिवार के सदस्यों की राजनीतिक कैरियर पर इसका प्रतिकूल असर पड़ सकता है ।

लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने मीडिया से कहा कि घर के झगड़े का तमाशा ना बनाया जाए , उन्होंने मीडिया से कहा वे देश की परवाह करें उनके घर की नहीं ।

तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय ने तलाक के विषय मे अभी तक किसी तरह की सहमति नहीं दी है ।

परिवार व परिवार के हितैषी अभी भी रिश्तों को साधने में जुटे हुए हैं लेकिन तेज प्रताप के रुख के अनुसार सुलह के आसार कम ही नजर आ रहे हैं ।

तेज प्रताप ने एक तरफा तलाक की अर्जी तो लगा दी और मीडिया में बयानबाजी भी कर रहे हैं लेकिन अभी तक ऐश्वर्या और उनके परिवार की ओर से किसी ने कुछ नहीं कहा है ।

तेज प्रताप यादव ने कहा है कि सुलह कराने प्रधानमंत्री भी आ जाएं तो भी वह अपने फैसले से पीछे नहीं हटेंगे ।

October 23, 2018

सिंहासन बत्तीसी

सिंहासन बत्तीसी

एक दिन राजा भोज को दरबार मे खबर मिलती है कि एक साधारण सा चरवाहा अपने न्याय के लिए दिन प्रतिदिन विख्यात होता जा रहा है ।





लोगों ने बताया कि वो बालक एकदम जाहिल और अनपढ़ है तथा भैंस बकरियाँ चराने का काम करता है।





तब राजा भोज को सच जानने की इच्छा हुई और उन्होंने पता लगाने को गुप्तचर भेजे तो पता चला कि वह चरवाहा सारे फ़ैसले एक मिट्टी के टीले पर चढ़कर करता है।





राजा भोज की जिज्ञासा बढ़ी और उन्होंने खुद भेष बदलकर उस चरवाहे को आत्मविश्वास से एक जटिल मामले में फैसला करते देखा।





उन्होंने चरवाहे से मिलकर उसकी इस क्षमता के बारे में पूछा तो चरवाहे ने बताया कि उसमें यह शक्ति मिट्टी के इस टीले पर बैठने के बाद स्वत: ही आती है ।





राजा भोज ने सोचविचार कर टीले को खुदवाकर देखने का फैसला किया। खुदाई में एक राजसिंहासन मिट्टी में दबा दिखा।





इसमें बत्तीस पुतलियाँ लगी थीं तथा कीमती रत्न जड़े हुए थे। सिंहासन को उठाकर महल लाया गया तथा शुभ मुहूर्त में राजा का बैठना निश्चित किया गया।





जैसे ही राजा भोज ने बैठने का प्रयास किया सारी पुतलियाँ राजा का उपहास कर खिलखिलाने लगीं ।





कारण पूछने पर सारी पुतलियाँ बोली कि यह सिंहासन राजा विक्रमादित्य का है, इस पर बैठने वाला उनकी तरह योग्य, पराक्रमी, दानवीर तथा विवेकशील होना चाहिए।





ज्यादा पूछने पर एक-एक कर सभी 32 पुतलियों ने महाराजा विक्रमादित्य की कहानी सुनाना शुरू किया ।





यही सिंहासन बत्तीसी ३२ कथाओं का संग्रह मानी जाती है ।










October 19, 2018

और कट गए कई लोग एक साथ

और कट गए कई लोग एक साथ

अमृतसर में हुआ भयंकर ट्रेन हादसा


अमृतसर में रावण दहन देख रहे लोग अचानक तेज रफ्तार ट्रेन की चपेट में आ गए, जिससे सरकारी रिकॉर्ड के अनुसार कम से कम 60 लोगों की मौत हो गई और 75 से अधिक लोगों के घायल होने की खबर है।

जबकि प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक हादसा दिल दहलादेने वाला है और 100 से अधिक की मौत की आशंका और लगभग उतने ही घायल हुए हैं ।

वायरल हुई वीडियो से साफ समझ आ रहा है कि ट्रेन के हॉर्न की आवाज रावण दहन की आतिशबाजी में सुनाई नहीं दी लोग रेलवे लाइन पर खड़े होकर आतिशबाजी देखते रहे ।

ये है वायरल वीडियो:

[video width="640" height="352" mp4="http://www.dekhoyaar.com/wp-content/uploads/2018/10/VID-20181019-WA0213.mp4"][/video]

 

हादसे के बाद भयंकर चीख पुकार मच गई और हर तरफ मृत शरीर और घायल लोग दिखाई पड़ रहे थे ।

कृपया नीचे दिए गए वीडियो को कमजोर दिल के लोग न देंखें

[video width="640" height="352" mp4="http://www.dekhoyaar.com/wp-content/uploads/2018/10/VID-20181019-WA0212.mp4"][/video]

 

October 18, 2018

नहीं रहे एन डी तिवारी

नहीं रहे एन डी तिवारी
तीन बार मुख्यमंत्री रहे एन डी तिवारी जी अब इस दुनियाँ में नहीं रहे उनका निधन हो गया है।


कुछ समय से उनकी तबीयत खराब थी । उन्हें दिल्ली के एक अस्पताल में भर्ती भी किया गया था ।  आज ही उनका जन्मदिन भी है ।


वह अकेले राजनेता थे जो दो राज्यों के मुख्यमंत्री रह चुके हैं। उत्तर प्रदेश के विभाजन के बाद वे उत्तरांचल के भी मुख्यमंत्री बने।


एनडी तिवारी पहली बार 1952 में विधायक बने।


एनडी तिवारी पहली बार 1976 में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री बने ।


वे पाँच बार विधायक रहे और तीन बार यूपी के सीएम


1980 में इंदिरा गांधी शाशन में न उन्हें योजना मंत्री बनाया गया  उसके बाद में वित्त, विदेश जैसे कई बड़े मंत्रालय संभाले ।


2002 में उत्तराखंड का मुख्यमंत्री बन एनडी तिवारी ने इतिहास रच दिया और दो राज्यों के मुख्यमंत्री बनने वाले इकलौते राजनेता बन गए ।


2007 में एनडी तिवारी आंध्र प्रदेश के राज्यपाल भी बने ।


2009 में एक सेक्स स्कैंडल में फंसने व एक तेलगू चैनल ने तीन लड़कियों के साथ उनकी तस्वीर वायरल होने के बाद उन्हें राज्यपाल पद से इस्तीफा देना पड़ा ।


नारायण दत्त तिवारी का जन्म 1925 में नैनीताल जिले के बलूती गांव में हुआ था।


तिवारी के पिता पूर्णानंद तिवारी वन विभाग में अधिकारी थे।


 नारायण दत्त तिवारी की शुरुआती शिक्षा हल्द्वानी, बरेली और नैनीताल में हुई।


इलाहाबाद विश्वविद्यालय से उन्होंने राजनीतिशास्त्र में एमए किया। इसी विश्वविद्यालय से एलएलबी की डिग्री भी हासिल की।



1951-52 में उत्तर प्रदेश के पहले विधानसभा चुनाव में तिवारी ने नैनीताल (उत्तर) सीट से सोशलिस्ट पार्टी के उम्मीदवार के तौर पर हिस्सा लिया और  चुनाव जीत गए ।


कांग्रेस के साथ तिवारी का रिश्ता 1963 से शुरू हुआ।


1965 में वह कांग्रेस के टिकट पर काशीपुर विधानसभा क्षेत्र से चुने गए और पहली बार मंत्रिपरिषद में उन्हें जगह मिली।


राजीव गांधी की हत्या के बाद प्रधानमंत्री के तौर पर उनकी दावेदारी की चर्चा भी हुई।


बाद में तिवारी आंध्रप्रदेश के राज्यपाल बनाए गए लेकिन यहां उनका कार्यकाल बेहद विवादास्पद रहा।

बंद हो जाएगा मोबाइल नंबर ?

बंद हो जाएगा मोबाइल नंबर ?
क्या आपने आधार नंबर के जरिए नया मोबाइल नंबर लिया है ?

क्या अपने पुराने नंबर पर सिर्फ आधार की जानकारी अपडेट कराई है अन्य दस्तावेज नहीं ?

तो अब आपका नंबर बंद हो सकता है। ये नया खतरा आधार से जुड़ी केवाईसी को लेकर है।

खबर के मुताबिक, जिन ग्राहकों ने टेलीकॉम कंपनियों को आधार के साथ कोई दूसरा दस्तावेज नहीं दिया है, उनका नंबर बंद हो सकता है।

क्यों होगा बंद ?


 

सुप्रीम कोर्ट  ने आधार मामले में सुनवाई करते हुए कहा था कि मोबाइल कंपनियां ग्राहकों से आधार नंबर नहीं मांग सकती हैं।

कोर्ट के आदेश के बाद टेलीकॉम कंपनियों को ग्राहकों के आधार से संबंधित डेटा को हटाना होगा।

इसलिए आपके द्वारा कोई दूसरा वैध्य दस्तावेज जमा न कराने पर आधार की जानकारी हटी तो आपका मोबाइल नंबर बंद हो जाएगा।

ग्राहकों को परेशानी ना हो इसलिए टेलीकॉम विभाग इस मुद्दे पर विचार कर रहा है। और मामले में बीच का समाधान निकालने के लिए कोशिश की जा रही है।

कहीं अफवाह तो नहीं ?


इन वायरल हो रही खबरों के बाद दूरसंचार विभाग और यूआईडीएआई की तरफ से संयुक्त बयान जारी किया गया है जिसमें बताया गया है कि मीडिया में चल रही मोबाइल नंबर बंद होने की खबरें पूरी तरह झूठी और काल्पनिक हैं।

भारतीय दूरसंचार विनियामक प्राधिकरण (ट्राई)  के मुताबिक केवल मार्च 2018 में ही देश में करीब 1.67 करोड़ नए उपभोक्ता जुड़े l

जिनमें एयरटेल, आइडिया, रिलायंस जियो, और वोडाफोन के ही 90 प्रतिशत ग्राहक हैं। डाटा के मुताबिक मार्च 2018 तक करीब 99 करोड़ एक्टिव यूजर्स थे ।

दलबदल शुरू

दलबदल शुरू
जब दलबदल की ख़बरें बढ़ने लगें समझ लीजिए चुनाव आ रहे हैं l

चुनाव सिर पर आने के बाद दलबदल प्रक्रिया जोर पकड़ने लगी है l

एक तरफ गोवा में दो विधायकों ने कोंग्रेस को तो दूसरी ओर राजस्थान में एक विधायक ने भाजपा को जबरदस्त झटका दिया है l

भाजपा से कांग्रेस में गए:


बाड़मेर की शिव विधानसभा से 2013 में भाजपा के टिकट पर विधायक बने  भाजपा के संस्थापक सदस्य और पूर्व केंद्रीय मंत्री पुराने भाजपा नेता जसवन्त सिंह के पुत्र मानवेंद्र सिंह ने कांग्रेस ज्वाइन कर ली है।

(जसवंत सिंह दिल्ली स्थित अपने आवास के बाथरूम में फिसल कर  गिर गए थे। उनके सिर में आई गंभीर चोट के कारण वे तब से कोमा में हैं।)

मानवेंद्र ने 22 सितंबर को स्वाभिमान रैली की थी । इसी रैली में उन्होंने भाजपा से इस्तीफा दे दिया था। मानवेन्द्र ने रैली में कहा था- कमल का फूल, हमारी भूल।

कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी की मौजूदगी में मानवेंद्र, उनकी पत्नी चित्रा और भाई भूपेंद्र सिंह कांग्रेस में शामिल हुए।  

लोकसभा चुनाव में टिकट न मिलने के बाद क्षेत्र से निर्दलीय चुनाव लड़ने के बाद भाजपा ने मानवेन्द्र के पिता जसवंत सिंह को पार्टी से निकाल दिया था।

राजस्थान कांग्रेस के अध्यक्ष सचिन पायलट ने मानवेंद्र को कांग्रेस की सदस्यता दिलाई।

इस दौरान राजस्थान के पूर्व मुख्यमंत्री अशोक गहलोत और अन्य पदाधिकारी मौजूद थे।

भाजपा से तवज्जो ना मिलने को मानवेंद्र के कांग्रेस में शामिल होने की बड़ी वजह बताया जा रहा है।

एससीएसटी एक्ट पर राजपूत समाज और राज्य की भाजपा सरकार के बीच मतभेद भी सामने आए।

राजस्थान में राजपूत समाज भाजपा का परम्परागत वोट बैंक रहा है। लेकिन, मानवेन्द्र के कांग्रेस में आने से भाजपा को नुकसान हो सकता है।

पिछले विधानसभा चुनाव में राजपूत और जाट समाज ने भाजपा के पक्ष में वोट डाले थे।

कांग्रेस से भाजपा में गए:


उधर गोवा कोंग्रेस के दो विधायकों दयानंद सोप्ते और सुभाष शिरोडकर ने भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से मुलाकात कर कांग्रेस  पार्टी और गोवा विधानसभा से इस्तीफा दे दिया ।

दोनों नेता दयानंद सोप्ते और सुभाष शिरोडकर भाजपा में शामिल हो गए हैं।

यह कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है। इससे कांग्रेस का राज्य की सबसे बड़ी पार्टी होने का दावा खत्म हो गया है।

चुनाव आते आते और भी कई नेताओं के इधर से उधर होने की अटकलें जारी हैं जिनमें शत्रुघन सिन्हा को लेकर भी अटकलें लगाई जा रही हैं l

सबरीमाला फिर सुर्खियों में

सबरीमाला फिर सुर्खियों में

सबरीमाला मंदिर में बंद , धारा 144 लागू


केरल का सबरीमाला मंदिर एक बार फिर से सुर्खियों में है l

सुप्रीम कोर्ट के फ़ैसले के बाद भी केरल के सबरीमला मंदिर में 10 से 50 साल की उम्र की महिलाओं को प्रवेश नहीं दिया जा रहा l

सुप्रीम कोर्ट ने 10 से 50 साल की महिलाओं को मंदिर में प्रवेश से रोकने की सदियों पुरानी परंपरा को गलत बताते हुए उसे खत्म कर दिया था l

 प्रदर्शन व बबाल


प्रदर्शनकारियों के विरोध की वजह से महिलाएं मंदिर के अंदर नहीं जा सकीं l

महिलाओं को प्रदर्शनकारियों ने धमकाया और बस से घसीट कर निकाला, महिलाओं के प्रवेश का विरोध कर रहे कुछ लोगों ने महिला पत्रकारों पर हमला कर दिया l

टीवी पर प्रदर्शनकारी काले और भगवा कपड़े पहने दिख रहे हैं, उन्होंने निलक्कल से पम्बा जाने वाली महिला पत्रकारों को रोकने के लिए उनके वाहनों को क्षतिग्रस्त कर दिया l

पुलिस पर पथराव किया, जिसमें कई पुलिसकर्मी घायल हो गए, प्रदर्शनकारियों को खदेड़ने के लिए पुलिस ने लाठीचार्ज किया और कुछ प्रदर्शनकारी गिरफ़्तार भी किए गए l

सबरीमाला मंदिर में सभी उम्र की महिलाओँ के प्रवेश के विरोध में 24 घंटे बंद का एलान है l

मंदिर में तनाव का माहौल है और आसपास के इलाक़ों में धारा 144 लागू कर दी गई है l

10-50 साल की महिलाओं के मंदिर में प्रवेश को वर्जित रखने के पैरोकार कार्यकर्ता राहुल ईश्वर को गिरफ्तार किया गया है l

सबरीमाला मुद्दे पर मोहन भागवत ने कहा कि स्त्री पुरुष समानता अच्छी बात है, लेकिन इतने सालों से चली आ रही परंपरा और उसका पालन करने वालों लोगों की भावना का सम्मान भी जरुरी है l

उच्चतम न्यायालय के फैसले पर पुनर्विचार याचिका दायर नहीं करने के केरल सरकार के फैसले के बाद इस मंदिर के आस पास तनाव का माहौल बना हुआ है l निलक्कल में बेहद तनावपूर्ण माहौल है l

पम्बा और आसपास के क्षेत्रों में बड़ी संख्या में पुलिस बल की तैनाती के बावजूद महिलाओं को बिना दर्शन किए लौटना पड़ा l

#MeToo ने ली मंत्री जी की कुर्सी

#MeToo ने ली मंत्री जी की कुर्सी

जी हाँ चली गई विदेश राज्य मंत्री जी की कुर्सी l


जानें क्या है #MeTooयहाँ क्लिक करें


मी टू को मिली भारी सफलता , किसी का काम जा रहा तो किसी की कुर्सी l कोई महिलाओं के साथ तो किसी का समर्थन पुरुषों को भी l डरे हुए पुरुष , और आरोप लगाती महिलाऐं l

विदेश राज्य मंत्री एमजेअकबर का पद से त्यागपत्र l

अभी तक 20 महिला पत्रकार एमजेअकबर के ऊपर यौन शोषण का आरोप लगा चुकी  है l



अकबर पर ये सभी मामले 10 से 20 साल पुराने हैं, जब अकबर मीडिया जगत से जुड़े हुए थेl

एमजे अकबर ने मामले में सबसे पहले आरोप लगाने वाली प्रिया रमानी के खिलाफ मानहानि का मुकदमा दर्ज किया है l उन्होंने निजी तौर पर कानून की अदालत में न्याय पाने का फैसला किया है l

राष्ट्रपति राम नाथ कोविंद ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सलाह पर बुधवार को केन्द्रीय मंत्रिपरिषद से एमजे अकबर का इस्तीफा स्वीकार कर लिया है l

महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) के मुखिया राज ठाकरे ने मीटू अभियान को गंभीर मुद्दों से ध्यान भटकाने वाला , पेट्रोल-डीजल की कीमतों, बेरोजगारी और रुपये की गिरती कीमतों से ध्यान भटकाने के लिए किया बताया है l

 

आम लोगों के कथन  :


अचानक से ऐसा लगने लगा है कि दुनिया के सारे पुरुष गलत हो गए हैं l और औरतें सीधी, सच्ची और शालीन l

इतने साल बाद ही सहसा साहस क्यों जाग उठा ? क्योंकि अब वे मंत्री थे ?

मामला सही हो सकता है पर आवाज उठाने में उनके उच्च पद तक पहुँचने का इंतजार कर रही थी क्या ?

कमाई और शोहरत पाने का स्टंट है l

जिन हेरोइनों को किस सीन और अश्लील सीन करने में जाने कितने हीरो कहाँ कहाँ टच करते हैं तो अब उन्हें दिक्कत का मतलब साफ़ है पैसा ऐंठना या सामने वाले से लड़ाई l

अब तो कोई भी औरत किसी से भी बिना सबूत खुन्नस निकाल सकती है l

जानें क्या है #MeTooयहाँ क्लिक करें



 

October 15, 2018

शराब के शौक़ीन मराठी खुश

शराब के शौक़ीन मराठी खुश
महाराष्ट्र में जल्द ही शराब पीने वालों के चेहरे खिल उठेंगे क्योंकि वहां सरकार एक फैसला लेने वाली है जो उन लोगों के लिए खुशखबरी होगी l

शराब की ऑनलाइन बिक्री की हो सकती है शुरुआत l

महाराष्ट्र में आबकारी मंत्री चंद्रशेखर बावनकुले ने रविवार को मीड़िया को बताया  कि  नशे में धुत्त होकर गाड़ी चलाने की घटनाओं को रोकने को ध्यान में रखते हुए शराब को घर तक पहुंचाने से इसमें मदद मिलेगी।

 

महाराष्ट्र सरकार ने राज्य में शराब की ऑनलाइन बिक्री एवं होम डिलिवरी की अनुमति देने का निर्णय लिया है। सरकार का कहना है कि इससे नशे में धुत्त होकर गाड़ी चलाने के मामलों पर लगाम लग सकेगी।

 

हालांकि उन्होंने इस बारे में विस्तार से नहीं बताया कि यह निर्णय कब से प्रभावी होगा।

सूत्रों के अनुसार आबकारी विभाग के एक वरिष्ठ अधिकारी ने अपना नाम ना उछाले जाने की शर्त रखते हुए बताया कि इस फैसले के पीछे राजस्व बढ़ाना मुख्य लक्ष्य है ।

अधिकारी ने बताया कि प्रतिष्ठित ई-कॉमर्स कंपनियां इस क्षेत्र में प्रवेश कर सकती हैं।

सुप्रीम कोर्ट के आदेश के चलते राजमार्ग के पास स्थित करीब 3,000 शराब की दुकानों के बंद होने के चलते सरकार को अच्छे खासे राज्य कर का नुकसान उठाना पड़ रहा है.

राज्य के 2017-18 के राजस्व में उत्पाद शुल्क से 15,343 करोड़ रुपये आए थे

हालाँकि चुनाव का समय है तो इस विषय पर कोई भी खुलकर बोलने से डर रहा है l

क्या है मी टू #MeToo

क्या है मी टू #MeToo

क्या है Me Too:


इसका मतलब है मै भी या मेरे साथ भी , इसके अंतर्गत काम काजी महिलाऐं अपने साथ कार्य स्थल या कार्य के समय हुए शोषण को लेकर सालों बाद अपनी बात बता रही हैं कि किस पुरुष ने उनके साथ क्या गलत किया ,क्या फायदा उठाया इत्यादि l

यह महिलाओं पर होने वाले यौन उत्पीड़न, शोषण के खिलाफ आंदोलन है l

#MeToo हैशटैग के साथ अपने साथ घटी घटनाएँ साझा कर रही हैं।

#MeToo  में बीसियों साल पुराने मामले सामने लाए जा रहे हैं कि किस तरह उन्हें प्रभाव या शारीरिक ताकत से मजबूर करके उनका यौन उत्पीड़न किया गया।

#MeToo यानि कि मेरे साथ भी हुआ l

कैसे बना हैश टैग #MeToo :


सोशल ऐक्टिविस्ट तराना बर्क ने सबसे पहले 2006 में  'माइस्पेस' नाम के सोशल नेटवर्क पर #MeToo  का इस्तेमाल किया था। ऐसा उन्होंने महिलाओं के साथ यौन उत्पीड़न की कहानी बयां करते हुए लिखा था।

सन 2017 अमेरिकी एक्ट्रेस एलिसा मिलानो ने यौन उत्पीड़न को लेकर में एक ट्वीट किया,  जिसमें उन्होंने #MeToo का इस्तेमाल किया । इस ट्वीट पर एक ही दिन में #MeToo  लिखकर दो लाख से ज़्यादा ट्वीट किए गए। और ये हैश टैग प्रसिद्धि पा गया

#MeToo भारत में:


मशहूर अभिनेत्री तनुश्री दत्ता द्वारा अभिनेता नाना पाटेकर पर लगाए गए आरोपों से इसकी शुरुआत हुई और आज इसकी चपेट में कई अन्य महिलाओं द्वारा अपने पुरुष सहकर्मी या साथियों पर आरोप दर्ज करे जा चुके हैं जो लगातार जारी हैं l

एक चैनल को दिए इंटरव्यू में तनुश्री दत्ता ने कहा कि साल 2008 में फिल्म 'हॉर्न ओके प्लीज़' की शूटिंग के दौरान नाना पाटेकर ने उनका यौन उत्पीड़न किया था l

अब तक आलोक नाथ , रजत कपूर ,साजिद खान , सुभाष घई,  चेतन भगत, विकास बहल, कैलाश खैर , अभिजित भट्टाचार्या , क्रिकेटर लाशिथ मलिंगा, अर्जुन रणतुंगा सहित कई बॉलीवुड क्रिकेट व अन्य क्षेत्रों  से जुडी कई प्रसिद्ध हस्तियों पर आरोप दर्ज हो चुके हैंl

चपेट में मोदी सरकार के विदेश राज्य मंत्री:


हाल ही में मोदी सरकार में विदेश राज्य मंत्री भाजपा नेता एम् जे अकबर पर भी इसी तरह के आरोप सामने आए हैं l  महिला पत्रकारों द्वारा उनके अख़बार संपादक रहने के दौरान गलत व्यव्हार का आरोप लगाया है l

पत्रकार प्रिया रमानी ने आरोप लगाया है कि एम् जे अकबर ने उन्हें एक होटल के कमरे में बुलाया था उनके अनुसार तब अकबर 43 साल कजे थे और वो 23 की l इसके आलावा कुछ अन्य पत्रकार महिलाओं ने भी इसी तरह ऑफिस कार्य के दौरान अश्लील हरकत करने के आरोप लगाए हैं l

 

मामला बहुत ही पेचीदा है क्योंकि सभी ने खुद पर लगे आरोपों को सिरे से नकार दिया है

और बीसियों साल पुराने मामले आज उठाने को लेकर आम जन में कुछ इसे सही मान रहे तो कुछ इसे खुद को हाई लाइट करने की वजह करार दे रहे हैं l

हालाँकि कई फिल्म निर्माताओ ने आरोपितों के साथ काम ण करने की भी कहा हैl

 

 

October 13, 2018

प्लान 2021 हुआ नहीं 2031 आ गया

प्लान 2021 हुआ नहीं 2031 आ गया

आगरा मास्टर प्लान 2031


एन आर एस सी , हैदराबाद आगरा के लिए एक महायोजना 2031 का विस्तृत मैप प्लान तैयार करने जा रहा है ।

इसमें सेटेलाइट इमेज  का इस्तेमाल किया जाएगा, इसके लिए एक कंपनी को टेंडर के आधार पर चुना जाएगा जो 2019 अंत तक महायोजना तैयार करके देगी ।

यहाँ सोचने वाली बात ये है कि मास्टर प्लान 2021 की प्लानिंग के सभी कार्य अधूरे पड़े हुए हैं ।

आगरा मास्टर प्लान 2021 के नक्शे पर दिखाई देने वाले सेक्टर पार्क कहीं भी दिखाई नहीं देते , प्लान की मुख्य सड़कें कई जगह से बंद हैं और बनी ही नहीं हैं ।

जोनल पार्क , सेक्टर पार्को की जमीनों पर कई जगह बिल्डिंग खड़ी हो चुकी हैं या बन रही हैं ।

ऐसे में जबकि 2021 में महज 3 साल बचे हैं इस मास्टर प्लान को पूरा किए बगैर एक नया प्लान बना देना कार्य की जगह दिखावा करना जैसा प्रतीत होता है ।

माना जा रहा है कि आगरा में बने नए एक्सप्रेस वे , इनर रिंग रोड और बाईपास को ध्यान में रखते हुए ये नया प्लान बनाया जा रहा है ।

इस नए प्लान के आने से पुरानी जोनल प्लान 2021 में बनी कई कॉलोनियों के निवासी थोड़े चिंतित हैं।

कॉलोनी निवासियों का मानना है कि एडीए ने कॉलोनी अप्रूव तो कर दी हैं पर अभी तक कई अप्रूव कॉलोनियों तक जाने वाले मार्ग मास्टर प्लान 2021 के नक्शे के अनुसार नहीं बन पाए ।

कॉलोनी निवासियों का मानना है अब अगर प्लान 2031 आ जाता है तो सारा ध्यान हटकर सिर्फ एक्सप्रेस वे व मुख्य बाईपास और रिंग रोड पर अप्रूव होने वाली नई कॉलोनियों की तरफ चला जाएगा और अभी तक अटकी सभी मास्टर प्लान रोड जो प्लान 2021 में शामिल थीं वे 2031 के बाद भी लटकी रह जाएँगी ।

दूसरी तरफ आगरा में किसी भी प्रकार का उद्योग जिससे जरा भी प्रदूषण होता है वो प्रतिबंधित है ।

ऐसे में मन मे कई सवाल उठते हैं जैसे :


1. अब नए प्लान में क्या आई टी सिटी बनाने जैसी योजनाओं को प्राथमिकता मिल सकेगी ?

2. क्या मास्टर प्लान 2021 के मैप पर दिखाए सेक्टर और जोनल पार्कों को विकसित किया जाएगा ?

3. क्या मास्टरप्लान 2021 के सभी जोन की प्रमुख सड़कें जो बाधित हैं उन पर कार्य किया जाएगा ?

4. क्या सारा ध्यान हटकर  पुरानी एप्रूव कॉलोनी के विकास के वजाय रिंग रोड , एक्सप्रेस वे और बाईपास पर आने वाली नई योजनाओं की तरफ चला जाएगा ?

इन सभी बातों के जबाब तो समय ही देगा किंतु  आगरा स्मार्ट सिटी और ताज सिटी में प्रदूषण के साथ साथ गंदगी अभी भी कायम है , और ट्रैफिक तो दम तोड़ता ही है , बीच सड़क जगह जगह आवारा जानवर बैठे मिलेंगे , इन गाय और सांडों की वजह से कई दुर्घटनाएं यहाँ होती ही रहती हैं ।

फिलहाल आगरा स्मार्ट के आसपास भी नहीं दिखाई देता ।

October 10, 2018

तितली से होशियार

तितली से होशियार
 

होशियार तितली आ रहा है


समुद्र में उठ रहीं ऊँची ऊँची लहरें बता रही हैं कि ये आहट है किसी बड़े नुकसान की ।


जी हाँ उड़ीसा राज्य के तटीय इलाकों से तितली नाम का तूफान जल्द ही दो दो हाथ करने जा रहा है ।


सरकार ने तूफान का अलर्ट जारी किया है ।


तूफान के अलर्ट के बाद समंदर में मछुआरों को जाने से रोका जा रहा है, क्योंकि तूफान मछुआरों के लिए मुसीबत खड़ी कर सकता है ।


तूफान की वजह से ओडिशा के तटीय शहरों में स्कूलों को  बंद रखने के आदेश दिए गए हैं ।


कई ट्रेनें ऐहतियात के तौर पर कैंसिल कर दी गई है । और कई ट्रेनों के रूट में परिवर्तन किया गया है ये अब डाइवर्ट रूट से होकर जाएँगी ।


रेलवे ने भुवनेश्वर में होने वाली भर्ती परीक्षा को टाल दिया है ।


तितली तूफान को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री नवीन पटनायक  ने प्रशाशन को अलर्ट रहने के आदेश दिए हैं ।


प्रशाशन द्वारा चक्रवाती तूफान ‘तितली’ के पहुंचने से पहले उड़ीसा में लोग सुरक्षित स्थान पर पहुंचाये जा रहे हैं ।




उड़ीसा के गजपति, गंजाम, पुरी, बालासोर,खुरदा,जाझपुर, नयागढ़, आदि जिलों में भारी बारिश होने की संभावना है ।


इन जिलों में तितली तूफान से भारी नुकसान की आशंका जताई जा रही है ।




क्या होता है साइक्लोन :



साइक्लोन यानि कि चक्रवात हवाओं के दबाब (वायुदाब) कम अधिक होने के कारण वायु का एक चक्र ( सर्किल) के रूप में घूमना चक्रवात कहलाता है ।


ये बहुत ही विकराल रूप धारण कर बड़ी तबाही को भी अंजाम दे सकता है ।


रास्ते मे आने वाली हर चीज को उखाड़कर अपने दायरे में आसमान छुलाने की ताकत होती है इसमें । तितली एक समुद्री चक्रवाती तूफान है ।

Why Sensex Lost almost 11%

Why Sensex Lost almost 11%

Why Sensex Lost almost 11% In sept and first week of Oct 2018:


 

Here are few reasons

 

1. Cruid Prices are increasing day by day .

2. As cruid prices are going up hence Rupee is at lowest level.

3. FII are selling Shares as US treasury yield increased specially for 10 year bucket and it is expected that federal reserve will increase rate further in December 2018.

4. RBI may tight NBFC norms .

5. RBI did not made any change in crucial rates as expected .

6. Sensex was at higher level compare to different stock markets .

7. Poor Performance of Indian Banks may result in adverse economic conditions.

8. Political Instability due to upcoming elections .

October 09, 2018

Rupee Hits All-time Low

Rupee Hits All-time Low
 

The Indian rupee hit its fresh all-time low against the US dollar.

it fell to 74.27 level against the US currency in afternoon trade today.

The rupee has fallen 16.64% to an all-time low of 74.27 level intra day (October 9) .

Look at factors Why Rupee is at its lowest level :

1. Rising oil prices  is major reason for low value of Rupee . Due to increase in cruid prices  current account deficit is also increased .  brent crude oil prices rose back above the $84 per barrel in the international oil market.

2. Broader emerging market concerns: Sell off in market . FIIs have withdrawn Rs 13,778 crore from the Indian market.

3. Dollar demand: Strong Demand for USD in market .

4. High US treasury yields and it is expected that it will increase further.

5. Sanction On Iran :  Iran is also a point of concern being the biggest exporter to India for crude oil.

6. Trade Deficit hits a 5 year high .
Current account deficit (CAD) has become a big worry for the home currency.

--- SK Sharma, CM, BOI

Choose Insurance Carefully

Choose Insurance Carefully
If you are going to select an insurance plan then be careful. Read full plan details before selection.

Mistake we make while choosing Insurance Product:


In India most of the people take Insurance product for saving Tax.

It is one of the option for saving tax but purpose of Insurance is totally different.

Government give tax benefit to promote insurance product.

Actual purpose of insurance is to spread the risk .

It means that the premium paid by different people will be paid to the person in event of death or loss.

In other words we can say that we should take insurance keeping in the mind our family members .

Although insurance is one of tool for tax saving and wealth creation .

But actual purpose is to protect the family in event of death or protection against loss.

It is observed from the insurance data that most of people in India are not insured or under insured .

Example : If a person earns Rs. 50000.00 per month and family expenditures are Rs. 40000.00 per month then he should take theinsurance for the amount which can give returns equivalent to Rs. 40000.00 per month to family in event of death .

Here returns in aforementioned example refers to interest earned on claim settlement  amount ( Sum Assured payable on death ).

Hence anything below this amount will be under insured.

There are lot of Insurance product in the market like money back plans,
ULIP plans etc . These are non actual insurance product . In actual these
are wealth creation product .

We should choose Term Plans to achieve objective of Insurance .

In Term Plans Sum Assured is at very high side and you will get nothing in return except in event of death .

But in term plan your family will get sufficient fund in case of death and
it will help family survival .

Now we come to another point .

If you still interested in wealth creation
then we suggest to go for term plan along with any investment product like SIP , NSC , RD , Fixed Deposit etc.

If you will combine both then you will be perfectly insured and return will be higher as compare to money back and other policies as premium for these policies is at
higher side .

If you are looking for ULIP then you are advised to take SIP and term Insurance
product.

As SIP + Term Insurance is better and suitable option than ULIP .

 

-- SK Sharma, CM, BOI

October 08, 2018

क्यों पिट रहे यूपी बिहार वाले

क्यों पिट रहे यूपी बिहार वाले
आजकल गुजरात में उत्तर भारतीयों खास कर बिहारी और उत्तर प्रदेश के लोगों पर लगातार हमले हो रहे हैं। 

उनको गुजरात छोड़ने की धमकी मिल रही हैं, कई लोग डर से गुजरात से पलायन भी कर चुके हैं ।

पर क्या है पूरा मामला ? -


गुजरात के साबरकांठा के हिम्मतनगर कस्बे के पास एक गांव में 28 सितंबर को 14 माह की बच्ची से अपहरण कर रेप किया गया ।

पुलिस ने रेप के आरोप में बिहार के रहने वाले रविंद्र साहू नाम के एक मजदूर को घटना वाले दिन गिरफ्तार किया ।

पीड़ित नाबालिग ठाकोर समुदाय से है ।

रेप की घटना के बाद से स्थानीय संगठनों ने बिहार, यूपी और मध्य प्रदेश के लोगों को निशाना बनाना शुरू कर दिया।

कई जगहों पर धमकियां दी गई और हमले किये गए। डर से हजारों लोग गुजरात छोड़ चुके है।

इस मामले में केंद्रीय गृह मंत्रालय ने गुजरात के विजय रुपाणी सरकार से रिपोर्ट मांगी है।

गुजरात सरकार ने केंद्र से कहा है कि दोषियों की पहचान कर कार्रवाई की जा रही है। गुजरात के डीजीपी ने बताया था कि हमला करने के मामलों में अब तक 342 लोगों को गिरफ्तार किया गया है ।

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने गुजरात के सीएम विजय रुपाणी से बात की और कहा है कि इस पर विशेष ध्यान दिया जाना चाहिए।

बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने भी विजय रूपाणी से बात की ।

कांग्रेस नेता अहमद पटेल ने कहा कि एक दो लोग अपराध करते हैं तो सभी को निशाना नहीं बनाया जाना चाहिए।

गुजरात में बिहार, उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश (उत्तर भारत ) के लोगों पर हुए हमलों के बाद लोग पलायन के लिए मजबूर हो रहे हैं।

गुजरात के सीएम विजय रूपाणी ने कहा है कि रेप के आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है, निर्दोष लोगों पर हमले बर्दाश्त नहीं किए जाएँगे ।

जो दोषी है उस पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी ।

October 06, 2018

पाँच राज्यों में चुनावी बिगुल

पाँच राज्यों में चुनावी बिगुल

5 राज्यों के विधानसभा चुनावों का खाका तैयार 


चुनाव आय़ोग ने आज पांच राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम के विधानसभा चुनावों की तारीखों की घोषणा कर दी l

छत्तीसगढ़ में दो चरणों में 12 नवंबर और 20 नवंबर को वोट डाले जाएंगे l

मध्य प्रदेश और मिजोरम में एक साथ 28 नवंबर को वोट डाले जाएंगे ।

राजस्थान और तेलंगाना में 7 दिसंबर को वोट डाले जाएंगे ।

सभी पांच राज्यों के नतीजे 11 दिसंबर को घोषित किए जाएंगे ।

चुनावों के एलान के साथ ही मध्य प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, मिजोरम और तेलंगाना में आचार संहिता लागू कर दी गई है ।

पांचों राज्यों के विधानसभा चुनाव में वीवीपैट मशीन का इस्तेमाल किया जाएगा ।

छत्तीसगढ़ में पहले चरण में 12 नवम्बर को मतदान के लिए 16 अक्तूबर को अधिसूचना जारी होगी, नामांकन की अंतिम तारीख 23 अक्तूबर होगी , नामांकन वापसी की अंतिम तारीख 26 अक्तूबर तय की गयी है ।

दूसरे चरण की 72 सीटों के लिए अधिसूचना 26 अक्तूबर को जारी होगी, नामांकन की अंतिम तिथि 2 नवंबर, नामांकन वापसी की अंतिम तिथि 5 नवंबर तय की गयी है।

मध्य प्रदेश और मिजोरम चुनाव के लिये दो नवंबर को अधिसूचना जारी होगी, नामांकन की अंतिम तारीख 9 नवंबर, नामांकन वापसी की अंतिम तारीख 14 नवंबर तय की गयी है।

राजस्थान और तेलंगाना विधानसभा चुनाव के लिये 12 नवंबर को अधिसूचना जारी की जायेगी, नामांकन की अंतिम तिथि 19 नवंबर, नामांकन वापसी की तिथि 22 नवंबर तय की गयी है।

इन विधानसभा चुनाव से पहले 3 नवंबर को कर्नाटक में लोकसभा की तीन और विधानसभा की दो सीटों के लिये उपचुनाव कराया जायेगा।

उपचुनाव के लिये मतगणना छह नवंबर को होगी ।

सभी राज्यों में शतप्रतिशत वीवीपेट युक्त ईवीएम से मतदान कराया जायेगा।

किसने उठाए चुनाव आयोग पर सवाल

किसने उठाए चुनाव आयोग पर सवाल
 

 चुनाव आयोग ने आज पांच राज्यों मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, राजस्थान, तेलंगाना और मिजोरम चुनाव की तारीखों की घोषणा के लिए 12 बजे प्रेस कांफ्रेंस बुलाई थी l


परन्तु बाद में यह समय बदलकर बाद में 3 बजे कर दिया गया l


और इसकी टाइमिंग को लेकर विवाद शुरू हो गया l


समय बदलने को लेकर कांग्रेस ने आयोग की स्वतंत्रता पर सवाल उठाए हैंl





कांग्रेस के आरोपों का जबाब देते हुए चुनाव आयोग ने कहा है कि प्रेस कॉन्फ्रेंस के  इंतजाम पूरे न हो पाने के कारण कॉन्फ्रेंस के  वक्त में बदलाव किया गया है l





ऐसा पहली बार नहीं है जब चुनाव की तारीखों को लेकर विवाद हुआ हो l


इससे पहले भी कर्नाटक विधानसभा चुनाव की घोषणा के वक्त कांग्रेस ने  चुनाव आयोग की आधिकारिक घोषणा से पहले ही बीजेपी आईटी सेल के प्रमुख अमित मालवीय को तारीख के बारे में जानकारी कैसे मिली ये पूछा था ?


क्योंकि अमित मालवीय ने चुनाव की तारीख घोषणा से पहले ही ट्वीट कर दी थीं l






कांग्रेस प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने कहा, ''चुनाव आयोग ने 5 राज्यों के चुनाव कार्यक्रम का एलान करने के लिए 12:30 बजे प्रेस कॉन्फ्रेंस बुलाई और मोदी जी राजस्थान के अजमेर में दोपहर 1 बजे रैली करने वाले हैं तो चुनाव आयोग ने अचानक प्रेस कांफ्रेंस का समय बदलकर 3 बजे कर दिया l क्या चुनाव आयोग स्वतंत्र है?''



October 03, 2018

किसान आंदोलन की माँगें

किसान आंदोलन की माँगें

किसान आंदोलन से दिल्ली बेहाल , राहत


किसानों के आंदोलन के चलते पिछले दो दिनों तक जाम और रूट डायवर्जन की समस्या से दिल्ली-एनसीआर में आमजन भी परेशान दिखे , आखिर दो दिन बाद आंदोलन में शांति आई

आंदोलन के बाद किसानों की माँगो को मान लिया गया जिससे आन्दोलन की समाप्ति हुई हालांकि जितनी माँग किसान नेताओं ने रखीं उन सभी पर गौर नहीं किया जा सका है

इन माँगों को मान लिया गया है :-


कुल सात मांगें मान ली गई हैं

1. दस वर्ष से पुराने डीजल वाहनों के संचालन पर एनजीटी की रोक के खिलाफ सरकार पुनर्विचार याचिका दाखिल करेगी। जिससे किसानों के पुराने वाहन की एंट्री दिल्ली में हो सके ।

2. मनरेगा को खेती से जोड़ने के लिए अब इसमें किसानों के प्रतिनिधि को भी शामिल किया जाएगा।

3. खेती में उपयोगी सामान पर 5 फीसदी जीएसटी करने के लिए को जीएसटी काउंसिल में प्रस्ताव रखा जाएगा।

4. उत्पादन लागत पर 50 प्रतिशत अधिक एमएसपी घोषित करने के निर्णय का रबी फसलों पर लागू । सरकार ने नई एमएसपी की घोषणा भी कर दी ।

5. जिन फसलों की पर्याप्त पैदावार होती है उनके आयात को रोकने के लिए कानून बनाने का भरोसा ।

6. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के कार्यान्वयन के संबंध में एक समिति बनेगी। यह फसल बीमा योजना व किसान क्रेडिट कार्ड योजना में आ रही परेशानियों पर किसान संगठनों से बातचीत के बाद अपनी संस्तुति देगी।

7. जंगली व आवारा पशुओं द्वारा फसलों को हो रहे नुकसान की भरपाई अब प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना के तहत की जाएगी।

ये थीं किसान संगठनों की माँगे :-


1. न्यूनतम समर्थन मूल्य एमएसपी को वैधानिक दर्जा देने और देश भर के किसानों की सभी फसलों और सब्जियों का न्यूनतम समर्थन मूल्य और लाभकारी न्यूनतम समर्थन मूल्य स्वामीनाथन द्वारा सुझाए गए फार्मूले के अनुसार घोषित किया जाए।

2. किसानों के सभी तरह के कर्ज माफ किए जाएं।

3. एनजीटी द्वारा पुराने डीजल वाहनों जो 10 वर्ष से अधिक पुराने हैं के संचालन पर रोक लगा दी है। इसे हटाया जाए।

4. प्रधानमंत्री फसल बीमा योजना से बीमा कंपनियों को लाभ मिल रहा है किसानों के हितों के अनुसार बदलाव किया जाए। प्रीमियम सरकार द्वारा दी जाए ।

5. किसानों की न्यूनतम आमदनी सुनिश्चित की जाए। लघु व सीमांत किसानों को 60 वर्ष की आयु के बाद कम से कम 5,000 रुपये मासिक पेंशन दी जाए।

6. नीलगाय, जंगली सुअर व अन्य आवारा पशुओं के लिए एक नीति बनाई जाए,इनसे फसलों को हो रहे नुकसान की भरपाई हो ।

7. बकाया गन्ना भुगतान ब्याज सहित बिना देरी किया जाए। चीनी का न्यूनतम मूल्य 40 रुपये प्रति किलो तय किया जाए।

8. किसानों को सिंचाई हेतु नलकूप की बिजली मुफ्त उपलब्ध कराई जाए।

9. आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार का पुनर्वास  और आश्रितों को सरकारी नौकरी दी जाए। मनरेगा को खेती से जोड़ा जाए।

10. खेती में काम आने वाली सभी वस्तुओं को जीएसटी से मुक्त किया जाए।

11. देश में पर्याप्त मात्रा में पैदा होने वाली फसलों के आयात पर रोक लगे ।

12. भूमि अधिग्रहण को केंद्रीय सूची में रखते हुए राज्यों को किसान विरोधी कानून बनाने से रोका जाए।
इनमें से आवारा पशुओं वाली समस्या आजकल शहरों की रोड़ों पर देखा जाना आम बात है । फसलों को बचाने के लिए किसान कटीले तारों का भी उपयोग करते हैं जो नाकाफी साबित हो रहे हैं ।