September 30, 2019

अक्टूबर ला रहा है कई नए बदलाव

अक्टूबर ला रहा है कई नए बदलाव
इस माह की शुरुआत कई चीजों में बदलाब लेकर आ रही है ।1 अक्टूबर से कई काम काज में बदलाब आने वाला है ।

एक अक्टूबर यानी मंगलवार से कई चीजों के नियम बदल जाएंगे ।

नए ट्रैफिक नियम के साथ साथ अब सबसे पहले तो आपको अपना ड्राइविंग लाइसेंस अपडेट करवाना होगा ।

इसके लिए आपको आरटीओ ऑफिस के चक्कर काटने की जरूरत नहीं पड़ेगी यह प्रक्रिया ऑनलाइन पूरी की जाएगी।

इस नियम के बाद ड्राइविंग लाइसेंस और रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट एक ही रंग का हो जाएगा साथ ही ड्राइविंग लाइसेंस और आरसी में माइक्रोचिप के अलावा क्यूआर कोड भी दिए जाएंगे ।

इसके साथ ही RBI भी नया नियम लागू करने जा रही है और जिसका असर उसके करोड़ों ग्राहकों पर पड़ने जा रहा है।

पेट्रोल-डीजल को ऑनलाइन खरीदने पर मिलने वाला कैशबैक अब नहीं मिलेगा। क्रेडिट कार्ड से पेट्रोल-डीजल खरीदने पर अब आपको 0.75 फीसदी कैशबैक नहीं मिलेगा ।

एचपीसीएल, बीपीसीएल और आईओसी ने कैशबैक स्कीम को वापस लेने का निर्देश दिया है।

कई चीजों पर कम की गई जीएसटी की दरें लागू हो जाएंगी। होटलों में 1000 रुपए तक किराए वाले कमरों पर अब टैक्स नहीं लगेगा. इसके बाद 7500 रुपए तक टैरिफ वाले रूम के लिए 12 प्रतिशत GST लगेगा ।

अक्टूबर में ही देश में सिंगल यूज प्लास्टिक पर पूरी तरह से बैन लग जाएगा ।

सरकारी कर्मचारियों की पेंशन पॉलिसी भी बदल जाएगी. किसी कर्मचारी की सर्विस को 7 साल पूरे हो गए हैं और उसकी मौत हो जाती है तो उसके परिवार को बढ़े हुए पेंशन का लाभ मिलेगा ।


स्टेट बैंक ऑफ इंडिया एक अक्टूबर से मंथली एवरेज बैलेंस को मेंटेन नहीं करने  पर जुर्माने में 80 प्रतिशत तक की कमी कर देगा ।मेट्रो सिटी में हैं एवरेज बैलेंस घटकर तीन हजार रुपये हो जायेगा ।

गुजरात में यात्रियों से भरी बस पलटी 20 लोगों की मौत

गुजरात में यात्रियों से भरी बस पलटी 20 लोगों की मौत
गुजरात के बनासकांठा जिले में करीब 70 यात्रियों को लेकर जा रही एक निजी लग्जरी बस के पलटने से लगभग 20 लोगों की मौत हो गई ।

बनासकांठा जिले के अंबाजी शहर में अंबाजी-दांता मार्ग के पहाड़ी रास्ते में त्रिशुलिया घाट में यह भयानक दुर्घटना हुई। 20 लोगों की मौत के साथ साथ और 50 अन्य घायल हो गए ।

इस निजी बस में करीब 70 यात्री सवार थे। क्षेत्र में भारी बारिश की वजह से बस चालक नियंत्रण खो बैठा। और बस पलट गई जिससे यह भीषण हादसे में बदल गई ।

पीएम मोदी ने दुर्घटना पर दुख जताया है पीएम मोदी ने ट्वीट कर कहा , 'बनासकांठा से एक दर्दनाक हादसे की खबर मिली है।

मैं इस हादसे में हुई लोगों की मौत से बहुत दुखी हूं। दुख की घड़ी में मेरी संवेदनाएं पीड़ित परिवारों के साथ हैं।

स्थानीय प्रशासन मौके पर हर प्रकार की संभव मदद देने के लिए काम कर रहा है। मैं प्रार्थना करता हूं कि हादसे में घायल लोग जल्द स्वस्थ हों।'

प्रशाशन के साथ स्थानीय लोगों ने भी मदद की है । घायलों को अस्पताल पहुँचाया गया है ।

चतुर्थ : देवी कुष्मांडा

चतुर्थ : देवी कुष्मांडा
नवरात्रि के चौथे दिन कुष्माण्डा देवी के स्वरूप की उपासना की जाती है। इस दिन साधक का मन 'अनाहत' चक्र में अवस्थित होता है।

अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और अचंचल मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा-उपासना के कार्य में लगना चाहिए।

जब सृष्टि का अस्तित्व नहीं था, तब इन्हीं देवी ने ब्रह्मांड की रचना की थी। अतः ये ही सृष्टि की आदि-स्वरूपा, आदिशक्ति हैं। इनका निवास सूर्यमंडल के भीतर के लोक में है।

वहाँ निवास कर सकने की क्षमता और शक्ति केवल इन्हीं में है। इनके शरीर की कांति और प्रभा भी सूर्य के समान ही दैदीप्यमान हैं।

अपने उदर से अंड अर्थात् ब्रह्मांड को उत्पन्न करने के कारण इन्हें कूष्मांडा देवी के नाम से पुकारा जाता है। नवरात्रि के चतुर्थ दिन इनकी पूजा और आराधना की जाती है।

श्री कूष्मांडा के पूजन से अनाहत चक्र जाग्रति की सिद्धियां प्राप्त होती हैं। श्री कूष्मांडा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक नष्ट हो जाते हैं। इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है।

अतः इस दिन उसे अत्यंत पवित्र और शांत मन से कूष्माण्डा देवी के स्वरूप को ध्यान में रखकर पूजा करनी चाहिए ।

इनके तेज और प्रकाश से दसों दिशाएँ प्रकाशित हो रही हैं। ब्रह्मांड की सभी वस्तुओं और प्राणियों में अवस्थित तेज इन्हीं की छाया है। माँ की आठ भुजाएँ हैं। अतः ये अष्टभुजा देवी के नाम से भी विख्यात हैं।

इनके हाथों में क्रमशः कमंडल, धनुष, बाण, कमल-पुष्प, अमृतपूर्ण कलश, चक्र तथा गदा है। आठवें हाथ में सभी सिद्धियों और निधियों को देने वाली जपमाला है। इनका वाहन सिंह है।

माँ कूष्माण्डा की उपासना से भक्तों के समस्त रोग-शोक मिट जाते हैं। इनकी भक्ति से आयु, यश, बल और आरोग्य की वृद्धि होती है।

माँ कूष्माण्डा अत्यल्प सेवा और भक्ति से प्रसन्न होने वाली हैं। यदि मनुष्य सच्चे हृदय से इनका शरणागत बन जाए तो फिर उसे अत्यन्त सुगमता से परम पद की प्राप्ति हो सकती है।

विधि-विधान से माँ के भक्ति-मार्ग पर कुछ ही कदम आगे बढ़ने पर भक्त साधक को उनकी कृपा का सूक्ष्म अनुभव होने लगता है। यह दुःख स्वरूप संसार उसके लिए अत्यंत सुखद और सुगम बन जाता है।

माँ कूष्माण्डा की उपासना मनुष्य को आधियों-व्याधियों से सर्वथा विमुक्त करके उसे सुख, समृद्धि और उन्नति की ओर ले जाने वाली है। अतः अपनी लौकिक, पारलौकिक उन्नति चाहने वालों को इनकी उपासना में सदैव तत्पर रहना चाहिए।

कथा :-

जब सृष्टि की रचना नहीं हुई थी उस समय अंधकार का साम्राज्य था देवी कुष्मांडा जिनका मुखमंड सैकड़ों सूर्य की प्रभा से प्रदिप्त है उस समय प्रकट हुई ।

उनके मुख पर बिखरी मुस्कुराहट से सृष्टि की पलकें झपकनी शुरू हो गयी और जिस प्रकार फूल में अण्ड का जन्म होता है उसी प्रकार कुसुम अर्थात फूल के समान मां की हंसी से सृष्टि में ब्रह्मण्ड का जन्म हुआ ।

अत: यह देवी कूष्माण्डा के रूप में विख्यात हुई। इस देवी का निवास सूर्यमण्डल के मध्य में है और यह सूर्य मंडल को अपने संकेत से नियंत्रित रखती हैं ।

देवी कूष्मांडा अष्टभुजा से युक्त हैं अत: इन्हें देवी अष्टभुजा के नाम से भी जाना जाता है । देवी अपने इन हाथों में क्रमश: कमण्डलु, धनुष, बाण, कमल का फूल, अमृत से भरा कलश, चक्र तथा गदा है।

देवी के आठवें हाथ में कमल फूल का माला है , यह माला भक्तों को सभी प्रकार की ऋद्धि सिद्धि देने वाला है । देवी अपने प्रिय वाहन सिंह पर सवार हैं।

जो भक्त श्रद्धा पूर्वक इस देवी की उपासना दुर्गा पूजा के चौथे दिन करता है उसके सभी प्रकार के कष्ट रोग, शोक का अंत होता है और आयु एवं यश की प्राप्ति होती है।

जो साधक कुण्डलिनी जागृत करने की इच्छा से देवी अराधना में समर्पित हैं उन्हें दुर्गा पूजा के चौथे दिन माता कूष्माण्डा की सभी प्रकार से विधिवत पूजा अर्चना करनी चाहिए फिर मन को अनहत चक्र में स्थापित करने हेतु मां का आशीर्वाद लेना चाहिए और साधना में बैठना चाहिए।

इस प्रकार जो साधक प्रयास करते हैं उन्हें भगवती कूष्माण्डा सफलता प्रदान करती हैं जिससे व्यक्ति सभी प्रकार के भय से मुक्त हो जाता है और मां का अनुग्रह प्राप्त करता है।

दुर्गा पूजा के चौथे दिन देवी कूष्माण्डा की पूजा का विधान उसी प्रकार है जिस प्रकार देवी ब्रह्मचारिणी और चन्द्रघंटा की पूजा की जाती है ।

इस दिन भी आप सबसे पहले कलश और उसमें उपस्थित देवी देवता की पूजा करें फिर माता के परिवार में शामिल देवी देवता की पूजा करें जो देवी की प्रतिमा के दोनों तरफ विरजामन हैं।

इनकी पूजा के पश्चात देवी कूष्माण्डा की पूजा करे पूजा की विधि शुरू करने से पहले हाथों में फूल लेकर देवी को प्रणाम कर इस मंत्र का ध्यान करें “सुरासम्पूर्णकलशं रूधिराप्लुतमेव च. दधाना हस्तपद्माभ्यां कूष्माण्डा शुभदास्तु मे..”

नवरात्रि में इन नौ देवियों का पूजन
: पहले दिन- शैलपुत्री
: दूसरे दिन- ब्रह्मचारिणी
: तीसरे दिन- चंद्रघंटा
: चौथे दिन- कुष्मांडा
: पांचवें दिन- स्कंदमाता
: छठे दिन- कात्यायनी
: सातवें दिन- कालरात्रि
: आठवें दिन- महागौरी
: नवें दिन- सिद्धिदात्री

जय माता दी

September 29, 2019

जम्मू-कश्मीर 5 साल में देश का सबसे विकसित क्षेत्र होगा

जम्मू-कश्मीर 5 साल में देश का सबसे विकसित क्षेत्र होगा
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने रविवार को कहा कि कश्मीर घाटी में अब कोई प्रतिबंध नहीं है । उन्होंने कहा, 'कुछ दिनों से मोबाइल कनेक्शन नहीं चलने को लेकर लोग हल्ला कर रहे हैं।फोन की कमी से मानवाधिकार उल्लंघन नहीं होता है।

शाह ने कहा कि जम्मू-कश्मीर में 10,000 नए लैंडलाइन कनेक्शन दिए गए हैं, जबकि बीते दो महीने में छह हजार पीसीओ दिए गए हैं।

उन्होंने कहा, 'अनुच्छेद 370 पर फैसला भारत की एकता और अखंडता को मजबूत करेगा , कश्मीर में 196 थाना-क्षेत्रों में से हर जगह से कर्फ्यू हटा लिया गया है ।

सिर्फ आठ थाना-क्षेत्रों में सीआरपीसी की धारा 144 के तहत पाबंदियां लगाई गई हैं । इस धारा के तहत पांच या इससे ज्यादा लोग एक साथ इकट्ठा नहीं हो सकते हैं ।

उन्होंने कहा हाल में न्यूयार्क में संपन्न सात दिनों के लिए हुए UN सम्मेलन में जमा हुए किसी भी एक नेता ने जम्मू-कश्मीर का मुद्दा नहीं उठाया । यह प्रधानमंत्री की बड़ी कूटनीतिक जीत है।

शाह ने कहा कि जम्मू कश्मीर में दशकों से आ रहे आतंकवाद ने 41,800 लोगों की जान ली है लेकिन किसी ने भी जवानों, उनकी विधवाओं या उनके अनाथ बच्चों के मानवाधिकार का मुद्दा नहीं उठाया ।

कश्मीर घाटी में अब कोई प्रतिबंध नहीं है और समूचे विश्व ने जम्मू कश्मीर को विशेष राज्य का दर्जा देने वाले भारतीय संविधान के अनुच्छेद 370 के अधिकतर प्रावधानों को हटाने का समर्थन किया है।

शाह ने यह भी कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा पांच अगस्त को लिए गए साहसिक कदम की वजह से जम्मू-कश्मीर अगले 5-7 साल में देश का सबसे विकसित क्षेत्र होगा ।

राष्ट्रीय सुरक्षा पर एक संगोष्ठी को संबोधित करते हुए शाह ने कहा, 'प्रतिबंध कहा हैं? यह सिर्फ आपके दिमाग में है. कोई प्रतिबंध नहीं हैं, सिर्फ दुष्प्रचार किया जा रहा है। '

भारी बारिश का अलर्ट यातायात के हालात खराब

भारी बारिश का अलर्ट यातायात के हालात खराब
इस बार बारिश से देश में कुछ ज्यादा ही तबाही का माहौल है । खेती के साथ साथ यातायात की व्यवस्था भी बुरी तरह प्रभावित हो रही है ।

उत्तर-प्रदेश और बिहार के कई जिलों में हो रही भारी बारिश की वजह से जनजीवन खासा प्रभावित हुआ है, कई जगहों पर ट्रेने रद्द की गई हैं तो कई जगह ट्रेनों का रूट डायवर्ट किया गया है।

मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के मद्देनजर अगले कुछ दिनों में दोनों ही राज्यों में भारी बारिश होने की संभावना बताई गई है ।

बारिश और बारिश के बाद बने बाढ़ जैसे हालात की वजह से अभी तक अकेले इन दोनों राज्यों में लगभग 100 लोगों की मौत हो गई है ।

बिहार में लगातार बारिश से राजधानी पटना की सड़कों और आसपास के इलाकों में जलभराव हो गया है, उत्तर प्रदेश में बीते चार दिनों में ही कई लोगों की मौत हुई है ।

उत्तर प्रदेश के प्रयागराज और बनारस समेत आसपास के जिलों में भारी बारिश का अलर्ट जारी किया गया है, यूपी सरकार की तरफ से जारी बयान के अनुसार बारिश के कारण घर गिरने, पेड़ गिरने व सांप के काटने के चलते लोगों की मौत हुई ।

बिहार के कई जिलों में बारिश की वजह से बाढ़ जैसे हालात हैं, मौसम विभाग ने राज्य में अगले कुछ दिनों तक बारिश का रेड अलर्ट जारी किया है ।

ऐहतियातन पटना समेत आसपास के जिलों स्कूलों और कॉलेजों को बंद कर दिया गया है, भारी बारिश और बाढ़ जैसे हालात की वजह से ट्रेनों के परिचालन पर भी असर पड़ा है ।

भारतीय रेल ने मौसम विभाग द्वारा जारी अलर्ट के बाद बारिश प्रभावित जिलों से होकर जाने वाली ट्रेने के रूट में बदलाव के साथ बड़ी संख्या में ट्रेनों को रद्द भी किया है।

आज रद्द ट्रेनें इस प्रकार हैं - 

1. 12317 कोलकाता अमृतसर एक्सप्रेस
2. 13401 भागलपुर- दानापुर एक्सप्रेस 
3. 18622 हटिया पटना एक्सप्रेस
4. 18183 टाटा -दानापुर एक्सप्रेस
5. 13249 पटना -भभुआ रोड एक्सप्रेस
6. 15126 पटना-मंडुआडीह एक्सप्रेस 
7. 15125 मंडुआडीह-पटना एक्सप्रेस
8. 11105 कोलकाता-झांसी एक्सप्रेस 
9. 13007 हावड़ा -श्री गंगानगर तूफान एक्सप्रेस
10. 18184 दानापुर- टाटा एक्सप्रेस
11. 13402 दानापुर- भागलपुर एक्सप्रेस 
12. 18621 पटना -हटिया एक्सप्रेस
13. 13250 भभुआ रोड- पटना एक्सप्रेस

आज परिवर्तित मार्ग से चलाई जाने वाली ट्रेने- 

1. 13005 हावड़ा -अमृतसर एक्सप्रेस का परिचालन आसनसोल -प्रधानखूंटा-गया- पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के रास्ते ।

2.12333 हावड़ा- इलाहाबाद सिटी विभूति एक्सप्रेस व 12331 हावड़ा-जम्मूतवी एक्सप्रेस का परिचालन आसनसोल- प्रधानखूंटा-गया -पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के रास्ते ।

3. 13413 मालदा टाउन- दिल्ली फरक्का एक्सप्रेस का परिचालन क्यूल- गया -पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के रास्ते ।

4. 14055 डिब्रूगढ़ -दिल्ली ब्रह्मपुत्र मेल व 12335 भागलपुर- लोकमान्य तिलक टर्मिनल का परिचालन क्यूल-गया -पंडित दीनदयाल उपाध्याय के रास्ते ।

5. 12367 भागलपुर-आनंद विहार विक्रमशिला एक्सप्रेस का परिचालन क्यूल -गया -पंडित दीनदयाल उपाध्याय के रास्ते ।

6. 15483 अलीपुरद्वार-दिल्ली महानंदा एक्सप्रेस का परिचालन सोनपुर- -पाटलिपुत्र-पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के रास्ते किया जाएगा.
7. 15632 गुवाहाटी-बाड़मेर एक्सप्रेस का परिचालन सोनपुर -पाटलिपुत्र -पंडित दीनदयाल उपाध्याय जंक्शन के रास्ते ।


बिहार में शुक्रवार से हो रही लगातार भारी बारिश ने राज्य के कई हिस्सों में सामान्य जनजीवन को प्रभावित कर दिया है मौसम विभाग ने 30 सितंबर तक पटना शहर में भारी बारिश होने का अनुमान जताया जाता है।

बारिश के अलर्ट को देखते हुए पटना जिला प्रशासन ने मंगलवार तक सभी स्कूलों को बंद रखने का आदेश दिया है।

नालंदा मेडिकल कॉलेज अस्पताल परिसर और गर्दनीबाग अस्पताल के परिसर में जलजमाव हो गया राजेंद्र नगर और एस के पुरी जैसे इलाके सबसे ज्यादा प्रभावित हुए हैं।

September 26, 2019

अयोध्या: पहले बोला मस्जिद वाली जगह खाली अब बताया ईदगाह

अयोध्या: पहले बोला मस्जिद वाली जगह खाली अब बताया ईदगाह
सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि अयोध्या मामले पर 18 अक्टूबर तक ही सुनवाई होगी ।

चीफ जस्टिस रंजन गोगोई ने सभी पक्षकारों से कहा आप सबको पहले निर्धारित टाइमलाइन का पालन करना होगा 18 अक्टूबर के आगे सुनवाई नहीं हो सकती ।

इस तारीख के बाद हमें फैसला देने के लिए बस 4 हफ्ते मिलेंगे, इतने समय मे फैसला लिखना एक चमत्कार जैसा ही होगा ।

गौरतलब है कि चीफ जस्टिस 17 नवंबर को रिटायर होने वाले हैं ।उससे पहले ही कोर्ट को फैसला देना है ।

कोर्ट ने कहा, ''18 अक्टूबर के बाद से एक हफ्ते के लिए दीवाली की छुट्टी है । हमें उससे पहले सुनवाई खत्म करनी ही होगी'' ।

कोर्ट ने विवादित ज़मीन की पुरातत्व रिपोर्ट को अविश्वसनीय बता रही मुस्लिम पक्ष की वकील मीनाक्षी अरोड़ा से पूछा था कि उन्होंने हाई कोर्ट में पुरातत्व टीम को सवाल-जवाब के लिए क्यों नहीं बुलाया था इसके बाद कोर्ट ने इसकी इजाजत दे दी।

मीनाक्षी अरोड़ा ने कहा, ''एएसआई की टीम ने पहले से तय धारणा के आधार पर काम किया.,नीचे मिली रचना के पश्चिमी हिस्से में बड़ी दीवार थी ऐसा ईदगाह में होता है हो सकता है मस्ज़िद से पहले वहां ईदगाह रही हो ।

बेंच के सदस्य जस्टिस अशोक भूषण ने सवाल उठाते हुए कहा, ''पहले आपने कहा कि मस्ज़िद खाली जमीन पर बनी थी. अब कह रही हैं कि वहां ईदगाह थी?''

खंभों की गहराई अलग होने की दलील रखते हुए अरोड़ा ने कुछ खंभों की गहराई में 26 मीटर का अंतर बता दिया ।

इस पर टोकते हुए जस्टिस भूषण ने कहा, ''रिपोर्ट में 0.26 मीटर लिखा है.'' जस्टिस चंद्रचूड़ ने कहा, ''मतलब सिर्फ 8 इंच का अंतर है 26 मीटर का नहीं ।

जस्टिस भूषण ने कहा, ''आप आधुनिक इंजीनियरिंग के सिद्धांत 1000 साल पुरानी रचना पर नहीं लगा सकते. खंभों की गहराई में 8 इंच का अंतर कोई बड़ी बात नहीं है

ध्यान रहे कि 18 अक्टूबर से पहले सुप्रीम कोर्ट में गांधी जयंती और दशहरा की भी छुट्टी होनी है बहस के लिए 10 दिन का समय ही बचा है

महाराष्ट्र चुनाव फिर तैयार भाजपा शिवसेना गठबंधन

महाराष्ट्र चुनाव फिर तैयार भाजपा शिवसेना गठबंधन
महाराष्ट्र और हरियाणा में विधानसभा चुनाव की तारीखों का चुनाव आयोग ने हाल ही में ऐलान किया था । महाराष्ट्र और हरियाणा में 21 अक्टूबर को मतदान होगा और मतगणना 24 अक्टूबर को होगी ।

नॉमिनेशन भरने की आखिरी तारीख 4 अक्टूबर को होगी और नामांकन वापस लेने की तारीख 7 अक्टूबर को होगी ।

हरियाणा विधानसभा का कार्यकाल 2 नवंबर को और महाराष्ट्र विधानसभा का कार्यकाल 9 नवंबर को खत्म हो रहा है ।

महाराष्ट्र में सीट बंटवारे को लेकर चल रही खींचतान में शिवसेना ने एक दिन पहले बड़ा बयान दिया था उन्होंने कहा 288 सीटों का बंटवारा है ये भारत पाकिस्तान के बंटवारे से भी भयंकर है ।

उन्होंने कहा कि अगर हम पहले से ही विपक्ष में रहते तो आज हालात कुछ और होते । हमारे बीच सीटों के बंटवारे को लेकर जो भी तय होगा उससे आपको अवगत कराएंगे ।

महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव में बीजेपी और शिवसेना के बीच सीटों पर बातचीत जारी है लेकिन सूत्रों की मानें तो BJP और शिवसेना के बीच सीटों का बंटवारा हो गया है ।

उड़ी खबर के अनुसार शिवसेना 126 सीटों पर चुनाव लड़ सकती है जबकि बीजेपी 144 सीटों पर । सहयोगी पार्टियों को 18 सीटें देना तय किया गया है ।

उपमुख्यमंत्री शिवसेना का होगा इस पर भी बात बनी है. सूत्रों ने बताया कि अगले एक से दो दिनों में इसकी घोषणा की जा सकती है ।

RBI ने PMC बैंक से निकासी की लिमिट बढ़ाई

RBI ने PMC बैंक से निकासी की लिमिट बढ़ाई
PMC बैंक के ग्राहकों को भारतीय रिजर्व बैंक से थोड़ी सी राहत मिली है, अब इस बैंक के ग्राहक 10 हजार रुपये तक निकाल सकेंगे ।

पहले यह राशि 1 हजार रुपये थी, जिसे विरोध प्रदर्शन के बाद बढ़ाया गया है वित्तीय गड़बड़ियों की वजह से RBI ने खाता धारकों को हज़ार रुपये से ज़्यादा देने रोक लगा दी थी ।

पैसों की निकासी पर रोक से नाराज़ खाताधारकों ने आज ही बैंक से लेकर थाने तक मार्च भी किया था ।

पंजाब एंड महाराष्ट्र कोआपरेटिव बैंक में जारी संकट पर वित्त मंत्री ने खाताधारकों की चिंताओं पर पूछे गए सवाल पर कहा कि आरबीआई इस मामले को देख रही है और सरकार इस मामले में फिलहाल दखल नहीं करेगी ।

वित्त मंत्री ने बैठक के बाद साफ़ किया कि बैंकिंग सेक्टर में  लिक्विडिटी का कोई संकट नहीं है ।

वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने कहा कि खपत बढ़ने और बैंकों की ऋण गतिविधियां तेज होने से चालू वित्त वर्ष की दूसरी छमाही में अर्थव्यवस्था रफ्तार पकड़ सकती है ।

वित्त मंत्री ने कहा कि बैंक नकदी की समस्या का सामना नहीं कर रहे हैं। साथ ही उन्होंने बताया कि कर्ज के लिए अच्छी खासी मांग है ।

आर्थिक सुस्ती लगता है कि अब समाप्ति पर है और आगामी त्योहारी मौसम से अर्थव्यवस्था में तेजी लाने में मदद मिलेगी ।

जान माल का नुकसान रोकने को कश्मीर में पाबंदी है

जान माल का नुकसान रोकने को कश्मीर में पाबंदी है
अनुच्छेद 370 हटने से खुश हैं कश्मीर के भी लोग , सिर्फ डरे और सहमे होने की वजह से नहीं कर पाते खुशी का इजहार ।

भारत के विदेशमंत्री सुब्रह्मण्यम जयशंकर ने बुधवार को कहा कि केंद्र सरकार द्वारा अनुच्छेद 370 के तहत जम्मू एवं कश्मीर को दिए गए विशेष दर्जे को खत्म करने से पहले तक कश्मीर का 'बहुत बुरा हाल' था ।

डॉ एस. जयशंकर ने न्यूयार्क में कहा कि 5 अगस्त को की गई इस घोषणा के बाद सुरक्षात्मक पाबंदियां जानी नुकसान को रोकने के लिए लगाई गई थीं ।

इस वक्त प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी सहित दुनियाभर के नेता संयुक्त राष्ट्र महासभा में शिरकत के लिए न्यूयार्क में मौजूद हैं ।

जयशंकर ने कहा हमें 2016 का तजुर्बा याद था, जब एक स्वयंभू आतंकवादी बुरहान वानी मारा गया था ।

और उसके बाद हिंसा भड़क उठी थी... हमारा इरादा (अनुच्छेद 370 को खत्म किए जाने के बाद) जानी नुकसान नहीं होने देते हुए हालात को काबू में रखने का था, इसीलिए पाबंदियां लागू की गई थीं "

विदेशमंत्री ने ज़ोर देकर कहा, "पिछले 30 साल के दौरान कम से कम 42,000 लोग मारे गए... डर का आलम यह था कि वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को श्रीनगर की सड़कों पर पीट-पाटकर मार डाला जा रहा था...

अलगाववाद के खिलाफ लिखने वाले पत्रकारों की हत्या की जा रही थी,

ईद पर घर लौट रहे सैन्य अधिकारियों को अगवा कर मार डाला जा रहा था... सो, 5 अगस्त से पहले कश्मीर का 'बहुत बुरा हाल' था...

कश्मीर में दिक्कतें 5 अगस्त को शुरू नहीं हुई थीं... और यह इन सब दिक्कतों से निपटने का तरीका था..." ।

September 24, 2019

बेवाक लड़की ने दिग्गज नेताओं से कहा आपकी हिम्मत कैसे हुई

बेवाक लड़की ने दिग्गज नेताओं से कहा आपकी हिम्मत कैसे हुई
स्वीडिश एनवायरनमेंट एक्टिविस्ट ग्रेटा थनबर्ग , जो जलवायु परिवर्तन को लेकर दुनियाभर में जागरूकता बढ़ाने का काम कर रही हैं ने राजनेताओं को जलवायु संकट पर कार्रवाई की कमी के लिए जिम्मेदार ठहराया है ।

संयुक्त राष्ट्र में जलवायु परिवर्तन पर अपने भाषण से 16 साल की इस लड़की ने दुनियाभर के नेताओं को झकझोर दिया ।

संयुक्त राष्ट्र जलवायु परिवर्तन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संयुक्त राष्ट्र में भाषण देने से पहले 16 साल की पर्यावरण कार्यकर्ता ग्रेटा थनबर्ग ने अपने भाषण से लोगों का ध्यान खींचा ।

उसने नेताओं पर ग्रीन हाउस गैसों के उत्सर्जन से निपटने में नाकाम होकर अपनी पीढ़ी से विश्वासघात करने का आरोप लगाया और पूछा आपने ऐसा करने की हिम्मत कैसे की?

ग्रेटा ने कहा कि युवाओं को समझ में आ रहा है कि जलवायु परिवर्तन के मुद्दे पर आपने हमें छला है , अगर आपने कुछ नहीं किया तो युवा पीढ़ी आपको माफ नहीं करेगी ।

ग्रेटा थनबर्ग ने कहा कि हम सामूहिक विलुप्ति की कगार पर हैं और आप पैसों व आर्थिक विकास की काल्पनिक कथाओं के बारे में बातें कर रहे हैं आपने साहस कैसे किया ? how dare you ?


बेहद गुस्से में ग्रेटा ने कहा कि आपने हमारे सपने, हमारा बचपन अपने खोखले शब्दों से छीना. हालांकि, मैं अभी भी भाग्यशाली हूं, लेकिन लोग झेल रहे हैं, मर रहे हैं, पूरा इको सिस्टम बर्बाद हो रहा है ।

ग्रेटा ने कहा कि आप लोग हमें निराश कर रहे हैं, लेकिन युवाओं ने आपके विश्वासघात को समझना शुरू कर दिया है । भविष्य की पीढ़ियों की नजरें आप पर हैं और यदि आप हमें निराश करेंगे तो मैं कहूंगी कि हम आपको कभी माफ नहीं करेंगे ।

इससे पहले भी अगस्त 2018 में 15 साल की उम्र में थनबर्ग ने स्वीडिश संसद के बाहर प्रदर्शन करने के लिए स्कूल से छुट्टी ले ली थी ।

ग्रेटा थनबर्ग ने अपने साथियों के साथ मिलकर ' Fridays for Future' के नाम से एक स्कूल जलवायु हड़ताल आंदोलन शुरू कर दिया, ग्रेटा जानती थीं कि अगर जलवायु संकट से बचना है तो शुरुआत घर से ही करनी होगी ।

ऐसे में उन्होंने सबसे पहले अपने माता- पिता की जीवनशैली में ऐसी चीजों के इस्तेमाल पर रोक लगा दी, जिसमें कार्बन उत्सर्जन हो रहा था ।

PNR Number, पीएनआर

PNR Number, पीएनआर
You can check your PNR status online or at the ticket counters of railway stations. If the status shows CNF , the ticket is confirmed.







Click to check PNR status ->


What is PNR


PNR stands for Passenger Name Record. It is a unique 10-digit number that is generated at the time when a user does the booking train ticket at a ticket counter or online through the IRCTC.

It provides information regarding the details of travel printed on the railway ticket . This ten digit uniquenumber could be seen at the top right hand side of the rail ticket.

The Centre of Railway Information Systems (CRIS) stores this number after booking your ticket. With a group booking of six passengers, there will be one PNR number as well.

PNR Status


A PNR status would inform you about the reservation status is confirmed or not and if status is not CNF it is still not confirmed.

PNR status shows Passenger Name , Travel Train number and Name , Timing , Station information and Status of reservation .

PNR Status will be CNF, if your ticket is confirmed.

It will be WL, if your ticket is on the Waiting List.

It will be RAC, if your ticket has Reservation Against Cancellation.

On confirm PNR status CNF it will show your seat number and the coach number.

It will state at what time you will board the train and when you will reach your destination.

A PNR number on a train ticket can be divided into two parts and they are:

A ticket is booked from a PRS (Passenger Reservation System). The first digit of the starting three digits of a PNR number depends on the station where the train starts.

The two succeeding numbers of the first three digits signify the ticket booked from a specific PRS centre.

number starts from 1 is issued from the Secunderabad PRS  2 or 3 is issued from New Delhi PRS number starts from 4 or 5 is issued from Chennai PRS and number starts from 6 or 7 is issued from Calcutta PRS , number starts from 8 or 9 is issued from Mumbai PRS.

The remaining seven digits are only present to give the PNR number an identity.

P1-CNF means that the Passenger 1 of the booked ticket has been allotted a confirmed seat.However the seat number is not assigned as of now, the seat number will be assigned after the final cart is prepared.

There are chances that the berth of other passengers in the ticket might get confirmed in future.

 

PNR in Hindi


पीएनआर का मतलब होता है पैसेंजर नेम रिकॉर्ड। यह 10 अंको वाला नंबर होता है। रेलवे में व्यवस्था है कि अगर आपको वेटिंग टिकट मिला है तो आप पीएनआर नंबर के जरिए उसकी वास्तविक स्थिति जान सकते हैं।

यह नंबर सफर करने वाले को यात्रा के संबंध में जानकारी भी देता है, ट्रेन के आगमन और प्रस्‍थान की जानकारी के अलावा इस पीएनआर नंबर से बुकिंग स्‍टेटस जाना जा सकता है ।

हर बार जब आप टिकट बुक करते हैं तो आपको एक नया पीएनआर नंबर मिलता है और यह ट्रेन टिकट के ऊपर लिखा होता हैं ।

पीएनआर नंबर से टिकट कंफर्म है या वेटिंग लिस्‍ट (WL) में है या रद्दीकरण के आधार पर आरक्षण (RAC) की स्थिति जानी जा सकती है ।

पीएनआर से कन्फर्म टिकट के यात्रियों की जानकारियों के अलावा उनके गाड़ी , कोच, सीट नंबर आदि पता चलते हैं ।

सेंटर ऑफ रेलवे इनफॉर्मेशन सिस्टम यानी कि CRIS, एक डाटाबेस है जिसमें सभी यात्रियों की पूरी जानकारी होती है ।

यह सिस्टम हर उस व्यक्ति का 10 डिजिट का पीएनआर नंबर बनाता है, जिसने IRCTC , टिकट काउंटर अथवा किसी अन्य तरह से भारतीय रेलवे में टिकट बुक किया हो ।

 

पीएनआर स्थिति की जांच कैसे करें?


भारतीय रेलवे की वेबसाइट के जरिए पीएनआर स्टेटस की जांच हो सकती है। इसके अलावा आप फोन कॉल करके या एसएमएस भेजकर भी पीएनआर स्थिति जांच पाएंगे।







Click to check PNR status ->


हालांकि आजकल कई वेबसाइट और एप्पलीकेशन में भी PNR चेक लिंक होता है ।

फोन कॉल द्वारा


आप चाहें तो अपने मोबाइल से 139 नंबर पर कॉल करके पीएनआर स्टेटस जान सकते हैं, बस आपको आईवीआर द्वारा दिए जा रहे निर्देशों का पालन करना होगा।

एसएमएस द्वारा


आप अपने मोबाइल में "PNR {पीएनआर नंबर}" लिखने के बाद 5888 या 139 या 5676747 या 57886 पर एसएमएस भेज सकते हैं। इसके बाद आपको एसएमएस मिलेगा जिसमें पीएनआर स्टेटस की जानकारी मौजूद होगी।

वेब साइट से


भारतीय रेल की वेबसाइट के जरिए PNR का स्टेटस पता कर सकते हैं







Click to check PNR status ->


PNR Result


CAN मतलब Cancelled (रद्द)- यात्री की टिकट रद्द ।

CNF मतलब Confirm (सीट पक्की)- आप की टिकट कन्फर्म हो गयी है ।

RAC Reservation Against Cancellation (रद्द करने पर आरक्षण)- यात्री को यात्रा की अनुमति है, दो यात्रियों को एक ही बर्थ दी जाती है। अगर यात्रा के दौरान कोई बर्थ खाली है तो पूरा बर्थ मिल सकता है ।

WL (Waitlist) - यात्री को प्रतीक्षा सूची वाला eticket के साथ यात्रा करने की अनुमति नहीं है गाड़ी के 30 मिनट प्रस्थान से पहले ट्रेन का टिकट रद्द किया जा सकता है ।

GNWL सामान्य प्रतीक्षा सूची

TQWL तत्काल प्रतीक्षा सूची

RLWL (Remote Location Waitlist) - छोटे स्टेशन में सीटों के अलग-अलग कोटा है और इसकी प्रतीक्षा सीटें आरएलडब्ल्यूएल की स्थिति दी गई हैं जिसका मतलब है अन्य स्टेशन से लिस्ट क्लियर होगी ।

PQWL (Pooled Quota Waitlist) - यह कोटा मध्यवर्ती स्टेशनों के बीच यात्रा करने वाले यात्रियों के लिए है और सामान्य प्रतीक्षा सूची से अलग प्रतीक्षा सूची है।

NR NoRoom - कोई और बुकिंग की अनुमति नहीं है ।

NOSB  का मतलब No Seat Berth - बच्चे का फुल किराया नहीं दिया है तो सीट नहीं मिलेगी ।

पीएनआर नंबर कैसे चेक करें?


 







Click to check PNR status ->


आपको इसके लिए ऊपर दिए गए लिंक Get PNR Status को क्लिक करें , भारतीय रेल का पेज खुल जाएगा पेज पर आपको 10 अंको का PNR Number भरना है और result प्राप्त करने को क्लिक करना है ,इसके बाद यहां पर आपके टिकट का पीएनआर स्टेटस दिखाई देने लगेगा

POK सहित भारत के कुछ हिस्सों में भूकंप

POK सहित भारत के कुछ हिस्सों में भूकंप
दिल्ली सहित उत्तर भारत के कई शहरों में मंगलवार शाम को भूकंप  के झटके महसूस किए गए , भूकंप का केंद्र POK में बताया गया ।

इसकी तीव्रता 6.3 मापी गई, उधर, जम्मू कश्मीर, पंजाब, हरियाणा में भूकंप के तेज झटके महसूस किए गए, मौसम विभाग के अधिकारियों ने बताया कि भूकंप का झटका शाम 4 बजकर 31 मिनट पर महसूस किया गया ।

पाकिस्तान के जालटान में कई जगहों पर सड़के धंस गईं हैं और दो हिस्सों में बंट गई है जिसका वीडियो न्यूज़ चैनलों पर वायरल है । 

टीवी चैनलों की फुटेज में दिखाया गया है कि मीरपुर में सड़कें बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हुई हैं और कई वाहन पलट गए, कई कारें भूकंप से सड़कों पर बने गहरे गड्ढों में गिर गईं ।

ज्यादातर नुकसान मीरपुर और झेलम में हुआ बताया जा रहा है , मीरपुर के निकट स्थित पाकिस्तान का प्रमुख जलाशय मंगला बांध सुरक्षित है ।

भूकंप से POK में 19 लोगों की मौत हो गई, जबकि 300 से अधिक लोग घायल हो गए । अमेरिकी भूगर्भ सर्वेक्षण के अनुसार भूकंप का केंद्र पीओके में न्यू मीरपुर के निकट स्थित था ।

पीओके में अस्पतालों में आपात स्थिति घोषित की गई है ।

अब सिर्फ एक हजार ही निकलेंगे इस बैंक से

अब सिर्फ एक हजार ही निकलेंगे इस बैंक से
भारतीय रिज़र्व बैंक ने मंगलवार को मुंबई में PMC Bank Ltd पर किसी भी प्रकार के व्यापारिक लेन-देन पर रोक लगा दी है, जिससे बैंक के निवेशकों और शहर में व्यापारी वर्ग को बड़ा झटका लगा है।

RBI के निर्देशों के अनुसार, पंजाब एंड महाराष्ट्र कोऑपरेटिव बैंक के जमाकर्ता बैंक में अपने सेविंग, करंट या अन्य किसी भी तरह के खाते में से 1,000 रुपये से ज्यादा रुपये नहीं निकाल सकते हैं।

मुंबई में पंजाब एंड महाराष्ट्र को-ऑपरेटिव बैंक में ग्राहकों की लंबी कतार लगी है ।

दरअसल बैंक में वित्तीय गड़बड़ियों की वजह से RBI ने खाता धारकों को हज़ार रुपये से ज़्यादा देने रोक लगा दी है । RBI का ये प्रतिबंध 6 महीने तक जारी रहेगा ।

जिसकी वजह से बैंक के हर ब्रांच में भीड़ लगी है, प्रतिबंधों के तहत बैंक न तो लोन दे सकता है और न ही कोई निवेश कर सकता है ।

September 23, 2019

POK में फिर आतंकी लांच पेड़

POK में फिर आतंकी लांच पेड़
भारतीय सेना द्वारा पीओके में घुसकर सर्जीकल स्ट्राइक करने के बाद कई आतंकी ठिकाने तबाह किए थे । ज्यादातर आतंकी उसके बाद अपने बिलों में छुप गए थे ।

लेकिन धारा 370 हटते ही एक बार फिर से पाक के इशारे पर ये आतंकी लॉन्च पेड़ फिर से सक्रिय होते देखे जा रहे हैं ।

नियंत्रण रेखा के पास पाकिस्‍तान के आतंकी लॉन्चिंग पैड पर लगभग 500 आतंकी मौजूद हैं जो भारत में घुसपैठ करने की फिराक में हैं ।

सोमवार को ही सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत ने कहा कि पाकिस्तान ने हाल ही में बालाकोट को फिर सक्रिय कर दिया है और करीब 500 घुसपैठिए भारत में घुसने की फिराक में हैं ।

बताया जा रहा है कि पहले 200-250 आतंकी होते थे लेकिन इस बार इनकी संख्‍या दोगुनी है, पाकिस्‍तान की कोशिश अभी किसी भी तरह इन आतंकियों की घुसपैठ कराने की है क्योंकि बाद में बर्फ पड़ने की वजह से घुसपैठ कराना मुश्किल होगा।

सूत्रों ने बताया कि त्योहारों के मौके पर आतंकी बड़ी घटना को अंजाम दे सकते हैं, चार दिन पहले बालाकोट में आतंकियों के फिर से सक्रिय होने की खुफिया रिपोर्ट मिली है

जनरल ने कहा है कि पाकिस्तान संघर्षविराम उल्लंघन करता है हम जानते हैं कि संघर्षविराम उल्लंघन से कैसे निपटना है हमारी फौज जानती है कि खुद को कैसे पोज़िशन करें, और कैसे कार्रवाई करें , हम सतर्क हैं, और सुनिश्चित करेंगे कि घुसपैठ की ज़्यादा से ज़्यादा कोशिशें नाकाम हों ।

26 और 27 सितंबर की बैंक हड़ताल टली

26 और 27 सितंबर की बैंक हड़ताल टली
26 सितंबर और 27 सितंबर को होने वाली बैंकों की हड़ताल टाल दी गई है । सूत्रों के अनुसार वित्त सचिव से बातचीत के बाद बैंक यूनियन ने फैसला किया कि 26 और 27 सितंबर को होने वाली हड़ताल अब नहीं होगी।

बता दें कि सार्वजनिक क्षेत्र के बैंक अधिकारियों की चार यूनियनों ने 10 सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा के विरोध में 26 और 27 सितंबर को हड़ताल का ऐलान किया था।

यदि बैंकों की हड़ताल होती तो इसका असर सितंबर महीने के आखिरी हफ्ते के चार दिन देखने को मिलता क्योंकि हड़ताल के बाद चौथा शनिवार और रविवार साथ में थे ।

अपनी मांगों को लेकर चार बैंक यूनियनों ऑल इंडिया बैंक आफिसर्स कनफेडरेशन (AIBOC), ऑल इंडिया बैंक ऑफिसर्स एसोसिएशन (AIBOA), इंडियन नेशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस (INBOC) और नेशनल ऑर्गेनाइजेशन ऑफ बैंक ऑफिसर्स (NOBO) ने संयुक्त रूप से हड़ताल का नोटिस दिया था ।

बैंक यूनियनों की पांच दिन का सप्ताह करने और नकद लेनदेन के घंटों और विनियमित कार्य घंटों को कम करने की भी मांग की थी ।

यूनियनों ने सतर्कता से संबंधित मौजूदा प्रक्रियाओं में बाहरी एजेंसियों का हस्तक्षेप रोकने, सेवानिवृत्त कर्मचारियों से संबंधित मुद्दों को सुलझाने, पर्याप्त भर्तियां करने, एनपीएस को समाप्त करने और उपभोक्ताओं के लिए सेवा शुल्क कम करने और अच्छा प्रदर्शन नहीं करने के नाम पर अधिकारियों को परेशान नहीं करने की मांग की थी ।

September 21, 2019

महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की तारीखों का ऐलान

महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की तारीखों का ऐलान
चुनाव आयोग आज यानी शनिवार दोपहर तक महाराष्ट्र और हरियाणा में चुनाव की तारीखों का ऐलान कर दिया है।

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा, चुनाव आयुक्त अशोक लवासा और सुशील चंद्रा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर जानकारी दी है।

चुनाव को लेकर सभी तरह की तैयारियां पूरी कर ली गई हैं । आयोग ने फिलहाल झारखंड में चुनाव की तारीखों की घोषणा नहीं की है ।

महाराष्ट्र और हरियाणा का मतदान 21 अक्टूबर को होगा, जबकि मतगणना 24 अक्टूबर तय की गई है। इसके साथ ही देश के अलग-अलग राज्यों में 64 विधानसभा सीटों के लिए उपचुनाव का भी ऐलान किया गया है ।

महाराष्ट्र में विधानसभा की कुल 288 सीटें हैं जबकि हरियाणा में सीटों की संख्या 90 है। पिछले चुनाव में महाराष्ट्र में बीजेपी और शिवसेना गठबंधन की सरकार है, वहीं हरियाणा में बीजेपी ने बहुमत के साथ सरकार बनाई थी ।

दोनों ही राज्यों में बीजेपी को उम्मीद है कि वह एक बार फिर सत्ता में आएगी, वहीं, कांग्रेस भी दोबारा वापसी की कोशिश करेगी।

पीएम मोदी ने हरियाणा और महाराष्ट्र में बीजेपी के लिए प्रचार अभियान की शुरुआत भी कर दी है । महाराष्ट्र में 2 नवंबर और हरियाणा में 9 नवंबर को सरकार खत्म हो रही है ।

September 17, 2019

नरेन्द्र मोदी

नरेन्द्र मोदी

नरेन्द्र मोदी


Narendra Modi


पूरा नाम : नरेंद्र दामोदर दास मोदी

जन्म : 17 सितंबर 1950

माता का नाम:  हीराबेन मोदी

पिता का नाम : दामोदरदास मूलचंद मोदी

 

नरेन्द्र मोदी का जन्म महेसाना जिला के वडनगर ग्राम में हीराबेन मोदी और दामोदरदास मूलचन्द मोदी के एक मध्यम-वर्गीय परिवार में हुआ, अपने माता-पिता की कुल छ: सन्तानों में तीसरे पुत्र नरेन्द्र  ने बचपन में चाय बेचने में अपने पिता की मदद की ।

मोदी का परिवार 'तेली' समुदाय से है  जिसे अन्य पिछड़ा वर्ग के रूप में वर्गीकृत किया जाता है।

आठ साल की उम्र में वे आरएसएस से  जुड़े। स्नातक होने के बाद उन्होंने घर छोड़ दिया। मोदी ने दो साल तक भारत भर में यात्रा की, और कई धार्मिक केंद्रों का दौरा किया।

उनका विवाह जसोदा बेन चमनलाल के साथ हुआ, तब  वह मात्र 17 वर्ष के थे।

शादी के कुछ बरसों बाद नरेन्द्र मोदी ने घर त्याग दिया ।

1971 में वह आरएसएस के लिए पूर्णकालिक कार्यकर्ता बन गए। 1975 में देश भर में आपातकाल की स्थिति के दौरान उन्हें कुछ समय के लिए छिपना पड़ा।

1985 में वे बीजेपी से जुड़े और 2001 तक पार्टी के कई पदों पर कार्य किया, जहाँ से वे धीरे धीरे सचिव के पद पर पहुंचे।

सोमनाथ से लेकर अयोध्या तक की रथयात्रा जिसमें आडवाणी के प्रमुख सारथी की मूमिका में नरेन्द्र का मुख्य सहयोग रहा।

इसी प्रकार कन्याकुमारी से लेकर सुदूर उत्तर में स्थित काश्मीर तक की मुरली मनोहर जोशी की दूसरी रथ यात्रा भी नरेन्द्र मोदी की ही देखरेख में आयोजित हुई।

2001 में भुज में भूकंप के बाद गुजरात के तत्कालीन मुख्यमंत्री केशुभाई पटेल के असफल स्वास्थ्य और ख़राब सार्वजनिक छवि के कारण नरेंद्र मोदी को 2001 में गुजरात के मुख्यमंत्री नियुक्त किया गया।

उन्हें उनके काम के कारण गुजरात की जनता ने लगातार 4 बार (2001 से 2014 तक) मुख्यमन्त्री चुना I

2002 के गुजरात दंगों में उनके प्रशासन को कठोर माना गया है, इस दौरान उनके संचालन की आलोचना भी हुई

हालांकि सुप्रीम कोर्ट द्वारा नियुक्त विशेष जांच दल (एसआईटी) को अभियोजन पक्ष की कार्यवाही शुरू करने के लिए कोई सबूत नहीं मिला।

मुख्यमंत्री के तौर पर उनकी नीतियों को आर्थिक विकास को प्रोत्साहित करने के लिए श्रेय दिया गया।

उनके नेतृत्व में भारत की प्रमुख विपक्षी पार्टी भारतीय जनता पार्टी ने 2014 का लोकसभा चुनाव लड़ा और 282 सीटें जीतकर अभूतपूर्व सफलता प्राप्त की।

उन्होंने उत्तर प्रदेश के वाराणसी एवं गुजरात के वडोदरा संसदीय क्षेत्र से चुनाव लड़ा और दोनों जगह से जीत दर्ज़ की।

बाद में उन्होंने वाराणसी को चुना और बड़ोदरा से इस्तीफा दे दिया ।

उन्होंने अफसरशाही में कई सुधार किये जैसे योजना आयोग को हटाकर नीति आयोग का गठन किया।

गुजरात विश्वविद्यालय से राजनीति विज्ञान में स्नातकोत्तर डिग्री प्राप्त नरेन्द्र मोदी विकास पुरुष के नाम से जाने जाते हैं

वर्तमान समय में देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से हैं। उन्हें 'नमो' नाम से भी जाना जाता है।

टाइम पत्रिका ने मोदी को पर्सन ऑफ़ द ईयर 2013 के 42 उम्मीदवारों की सूची में शामिल किया ।

नरेंद्र मोदी भारत के 14वें प्रधानमंत्री बने । साल 2014 में 26 मई को उन्होंने प्रधानमंत्री के तौर पर शपथ ली थी।

वे भारत के प्रधानमन्त्री पद पर आसीन होने वाले स्वतंत्र भारत में जन्मे प्रथम व्यक्ति हैं।

 

September 16, 2019

ऑनलाइन बनाएं वोटर आईडी कार्ड

ऑनलाइन बनाएं वोटर आईडी कार्ड

वोटर आईडी कार्ड ऑनलाइन


अगर आपको अपना नाम वोटर लिस्ट में दर्ज कराना है यानि कि आपको वोटर बनना है और वोटर कार्ड बनवाना है  या अपने वोटर कार्ड में किसी गलती को सुधरवाना है तो चुनाव कार्यालय के चक्कर काटने की जरुरत नहीं है यह काम  घर बैठे इंटरनेट की मदद से किया जा सकता है

मतदाता पहचान पत्र बनाना जरुरी होता है जो भी व्यक्ति 18 साल से ऊपर हो गए हैं वह सभी अपना वोटर कार्ड बनवाना चाहते हैं वे अपना वोटर ID कार्ड ऑनलाइन घर बैठे ही बनवा सकते हैं

इसके लिए निर्वाचन आयोग की वेबसाइट https://www.nvsp.in पर जाकर लिस्ट में नाम को शामिल करने या गलती सुधारने के लिए आवेदन करना होता है साइट पर निर्धारित फॉर्म भरकर यह काम किया जा सकता है

हर चुनाव से पहले वोटर लिस्ट अपडेट की जाती है ऑनलाइन अप्लाई करने से पहले ही आपने दस्तावेज तैयार रखें जैसे पहचान व पाते के प्रमाण पत्र की स्केन कॉपी , सिग्नेचर की स्कैन इत्यादि

वोटर लिस्ट में कैसे अपडेट करें ब्योरा


निर्वाचन आयोग की वेबसाइट http://www.nvsp.in पर जाएं सम्बंधित फॉर्म भरें

वोटर कार्ड बनाने के लिए यहां पर दिए गए वेबसाइट पर क्लिक करें और अपने दस्तावेज अपलोड करें.

वेबसाइट खोलने के बाद आपको नए वोटर आईडी कार्ड के लिए फॉर्म को सेलेक्ट करना है इस फॉर्म में अपनी पूरी जानकारी जैसे कि नाम ,पता, आधार कार्ड नंबर ,फोटो ,साइन  आदि को सही सही भरें

इसके बाद इसमें अपनी फोटो और डॉक्यूमेंट अपलोड करिए अपना राज्य के निर्वाचन क्षेत्र को चुनते समय विशेष सतर्कता बरतनी चाहिए

सारी जानकारी भर देने के बाद आप सबमिट कर दें मिले नम्बर को संभाल कर रखें

इन दस्तावेजों की होगी जरूरत


एक पासपोर्ट आकार की तस्वीर

  • पहचान पत्र-  जन्म प्रमाणपत्र, पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस, पैन कार्ड या हाई स्कूल की मार्कशीट .

  • पते का प्रमाण- राशन कार्ड,  पासपोर्ट, ड्राइविंग लाइसेंस , फोन या बिजली का बिल


आप अपने अनुरोध की स्थिति को ऑनलाइन देख सकते हैं. आपका वोटर आईडी कार्ड एक महीने में रिलीज कर दिया जाएगा

September 15, 2019

बैंक रहेंगे बन्द निपटा लें लेनदेन

बैंक रहेंगे बन्द निपटा लें लेनदेन
सरकारी बैंकों के आपसी विलय के फैसले के विरोध व अन्य मांगों के समर्थन में बैंक ऑफिसर्स की यूनियनों ने हड़ताल पर जाने का निर्णय लिया है और इस संबंध में इंडियन बैंक एसोसिएशन (IBA) को सूचित कर दिया है ।

इस दौरान ग्राहकों को लेनदेन में असुविधा हो सकती है । दो दिन की हड़ताल असर लंबा देगी । एक ही दिन में जबाब दे जाने वाले ATM हांफने लगेंगे । अतः पहले से पूर्ण तैयारी कर लें ।

सितंबर महीने के आखिरी सप्ताह में बैंकों में हड़ताल दो दिनों की रहेगी, लेकिन इसका असर चार दिनों तक देखने को मिलेगा क्योंकि 26 व 27 सितंबर को बैंक कर्मियों की हड़ताल है इसके बाद 28 सितंबर को माह का चौथा शनिवार व 29 को रविवार का अवकाश है ।

माँगें पूरी न होने पर भविष्य में अनिश्चित कालीन हड़ताल के बारे में भी कहा गया है ।

बैंक यूनियनों और IBA की अगली बैठक 17 सितंबर को है जिसमें कुछ मांगों पर बातचीत से सहमति बन सकती है । यदि सब ठीक रहा या आश्वाशन मिला तो हड़ताल टल सकती है ।

September 14, 2019

अजीब खबर मंत्री खुद नहीं भरते आयकर ?

अजीब खबर मंत्री खुद नहीं भरते आयकर ?
क्या आप जानते हैं जहाँ आम लोग अपना आयकर खुद भरते हैं वहीं उत्तर प्रदेश के मंत्री के आयकर का भुगतान सरकार करती है ।

‘उत्तर प्रदेश मंत्री वेतन, भत्ते एवं विविध कानून 1981′ के अन्तर्गत सभी मंत्रियों के आयकर बिल का भुगतान अभी तक राज्य सरकार के कोष से किया जाता है ।

हालाँकि अब बताया जा रहा है कि उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री और सभी मंत्री अपने आयकर का भुगतान स्वयं करेंगे।
प्रदेश के वित्त मंत्री सुरेश कुमार खन्ना ने बताया कि ‘ मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देशानुसार यह निर्णय लिया गया है कि अब सभी मंत्री अपने आयकर का भुगतान स्वयं करेंगे।

अब सरकारी खजाने से मंत्रियों के आयकर बिल का भुगतान नहीं किया जाएगा, मुख्यमंत्री ने कहा है कि एक्ट के इस प्रावधान को समाप्त किया जायेगा । उत्तर प्रदेश में लगभग चार दशक पुराना एक कानून मंत्रियों के आयकर का भुगतान राजकोष से सुनिश्चित करता था ।

उत्तर प्रदेश मंत्री वेतन, भत्ते एवं विविध कानून 1981’ तब बना था जब विश्वनाथ प्रताप सिंह राज्य के मुख्यमंत्री थे । जब से कानून लागू हुआ, विभिन्न राजनीतिक दलों के मुख्यमंत्रियों-योगी आदित्यनाथ, मुलायम सिंह यादव, मायावती, कल्याण सिंह, अखिलेश यादव, रामप्रकाश गुप्ता, राजनाथ सिंह, श्रीपति मिश्र, वीर बहादुर सिंह और नारायण दत्त तिवारी को इसका लाभ हुआ ।

मुख्यमंत्री और मंत्री के वेतन अब कई गुना अधिक हो चुके हैं इसलिए इस कानून पर पुनर्विचार कर इसे समाप्त किया जाना चाहिए ।

 

आम आदमी के लिए यह हैरानगी की बात है वह तो खुद टैक्स देता है लेकिन नेता कर अदायगी नहीं करते ।

September 13, 2019

हमसफर ट्रेनों से फ्लेक्सी फेयर हटेंगे

हमसफर ट्रेनों से फ्लेक्सी फेयर हटेंगे
भारतीय रेलवे ने अपनी प्रीमियम हमसफर ट्रेनों से फ्लेक्सी फेयर हटा कर रेल यात्रियों को बड़ी राहत दी है । इसके अलावा इस ट्रेन में दो स्लीपर श्रेणी के डिब्बे भी लगाए जाएंगे अभी इसमें सिर्फ थर्ड एसी श्रेणी के डिब्बे होते हैं ।

इसके साथ साथ अब हमसफर ट्रेनों के तत्काल टिकट की कीमत बेस फेयर के डेढ़ गुना के बजाय 1.3 गुना की जाएगी ।

रेलवे के एक अधिकारी ने बताया कि यह राहत 35 जोड़ी हमसफर रेलगाड़ियों के लिए है जिनमें फिलहाल केवल थर्ड एसी के कोच लगे होते हैं रेलवे ने कुछ समय पहले इस बात के संकेत दिए थे कि जिन ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर की स्कीम चल रही है, उनमें से कुछ में इसे हटाया जा सकता है ।

फ्लेक्सी फेयर में ट्रेन में 40 प्रतिशत सीट भर जाने पर शेष बची हुई सीटों पर 10 प्रतिशत अधिक किराया लगता है । अभी राजधानी, दूरंतो और शताब्दी ट्रेनों में फ्लेक्सी फेयर लागू है ।

एयरोप्लेन के फेयर की तरह सीटें घटेंगी और किराया बढ़ता जाएगा इसलिए पहले बुकिंग तो कम चार्ज जितना लेट उतना अधिक चार्ज लगता है फ्लेक्सी फेयर सिस्टम में ।

September 01, 2019

What is D.El.Ed. ?

What is D.El.Ed. ?

What is D.El.Ed. ?


Diploma in Elementary Education [D.El.Ed] is a 2-year full-time diploma course which is divided into 4 semesters to train teachers mainly for the primary level.

It is a professional degree programme specifically designed package for in service untrained teachers working in primary/ upper primary schools of different states of the country.

The D.El.Ed degree is mandatory for teaching at the secondary (classes 6 to 10) and higher secondary (10+2 or classes 11 and 12). The D.El.Ed course admission procedure can vary from university to university.

Diploma in Elementary Education (D.El.Ed) programme has been developed by the Academic Department, NIOS on the initiative of Ministry of Human Resource Development (MHRD), Govt. of India.

NIOS has been vested with the authority to train the untrained teachers at Elementary Level. The Programme aims at enabling the target group to develop in them skills, competencies, attitudes and understanding to make teaching and learning more effective.

Subjects in D El Ed


NIOS D.El.Ed. course syllabus has earned a good reputation. D.El.Ed. Subjects vary from one college to another.

Few of the subjects are Childhood and the development of children , Contemporary society, Education Society, Fine arts and education , Proficiency in English, Work and education, Mathematics education for the primary, Leadership and change, School health and education, Pedagogy of English language etc.

 

Eligibility to do D.El.Ed


who can do the D.El.Ed. ?


Candidates who have qualified Sr. Secondary or its equivalent (10+2)  examination from any recognized board with a minimum of 50% marks are eligible to apply. and B.A./B. Sc. Qualification will be eligible for admission into the course. For SC/ST/OBC candidates a relaxation of 5 percent marks is allowed.

 

D.El.Ed. Admission Process


Admission process for this course in most of the colleges is based on D.El.Ed. result of entrance exam which is different for different institutions.

All candidates who qualify the entrance exam are called for an interview. Based on the candidate's performance in the entrance exam, personal interview and marks obtained, he/she will be provided admission into the course.

Questions from Physics, Chemistry and Mathematics of 10+2 level are asked in the entrance exam.

Questions are asked in 3 sections in this exam. Separate cut off lists for each section are issued. Those who clear the cut off are selected for the course in various colleges.

 

NIOS D.El.Ed.


http://dled.nios.ac.in/ is official website. the course will start tentatively in the month of August  and will last for one month until September.