November 28, 2018

10th Bank Bipartite Settlement

10th Bank Bipartite Settlement

Highlights of 10th Bank Bipartite Settlement


Here are the main HIGHLIGHTS of pay AND other details finalized in 10th Bipartite Settlement

Settled as : Proposed hike of 15% ‘Pay Slip Components’ which will be distributed among various components of monthly pay such as Basic Pay, Special Pay, FPP, PQP, Dearness Allowance, HRA, CCA, and Other Allowance.

1. A step towards 5 Days Banking


Holiday for 2nd and 4th Saturdays of each month

It was a good news for bankers in 10th BPS that by agreeing to work for full time on 1st 3rd and 5th Saturdays in months Holiday for 2nd and 4th Saturdays approved by IBA. Only disappointment is in a month having 5 Saturdays, there will be full working days on 3 Saturdays (first, third and fifth).

2.Special Allowance (New Allowance)


7.75% of Basic Pay. D A is payable on this allowance.

3.Leave Fare Concession


Officer shall be entitled to receive an amount equivalent to the eligible fare for the class of travel of which he is entitled up to a distance of 4500 kms (one way) for officers in JMG-Scale-I and MMG – Scale II & III and 5500 kms (one way) for officers in SMG- Scale IV & above.

Subordinate staff - 2 Year Block 2500 kms.(one way), 4 Year Block 5000 kms.(one way),

Class of fare -AC III Tier for the journey by mail/express train. By Steamer - II Class Cabin

Non Subordinate staff - 2 Year Block 2000 kms.(one way), 4 Year Block 4000 kms.(one way),

Class of fare -II AC for the journey by mail/express train. By Steamer - I Class Cabin

4.D.A. Rates (%) per slab


0.10% per slab over 4440 points

5. Halting Allowance


Halting Allowance Officers (w.e.f. 1.6.2015)

Scale 6 and above

Metro- 1800, Class A Cities- 1300, Area 1-1100 , others -950

Scale 4 and 5

Metro- 1500, Class A Cities- 1300, Area 1-1100 , others -950

Scale 1 , 2 , 3

Metro- 1300, Class A Cities- 1100, Area 1-950 , others - 800

click to Know About : 9th Bipartite Settlement



Halting Allowance Workmen


Clerical

Places with population of 12 lakhs and above and States of Goa --- Rs.700

Places with population of 5 lakhs and above, State Capitals/ Capitals of Union Territories not covered in column (A) -Rs.600

Other Places- Rs. 450

Substaff

Places with population of 12 lakhs and above and States of Goa --- Rs.500

Places with population of 5 lakhs and above, State Capitals/ Capitals of Union Territories not covered in column (A) -Rs.400

Other Places- Rs. 250

6.House Rent Allowance


 



























45 lacs
& Abv.
12-45
lacs
Below 12 lacs4th Area
abolished
%%%
Clerks10.009.007.50
Sub-staff10.009.007.50

 

7. Medical Aid


Medical Aid for Oficers  Rs. 8000 up to Scale III & 9050 above Scale III

Medical Aid for Workmen Rs. 2200 .

8. Leave


Paternity Leave – 15 days twice in service.

Spl. Leave for hysterectamy – 60 days

 

9.Officer Pay Scales (Basic)


Basic Pay 23700 – 85000

Special allowance
Up to Scale III @ 7.75% + DA
Scale IV and V 10% + DA
Scale Vi and VII 11% + DA

HRA @ 7 8 9 %

CCA @ 600 and 870> 3% and 4% subject to maximum

Officer Scale I     Rs. 23700-980/7-30560-1145/2-32850-1310/7-42020

Officer Scale-II    Rs. 31705-1145/1-32850-1310/10-45950. Rs. 48800

Officer Scale III  Rs. 42020-1310/5-48570-1460/2-51490. Rs. 64600


10 . Workmen Pay Scales

















Pay Scales
Clerks11765 – 655/3 – 13730 – 815/3 – 16175 – 980/4 – 20095 – 1145/7 – 28110 – 2120/1 – 30230 – 1310/1 – 31540
Sub-staff9560 – 325/4 – 10860 – 410/5 – 12910 – 490/4 – 14870 – 570/3 – 16580 – 655/3 – 18545

 

10. Special Pay – Clerks / Substaff


 



































Single Window Operator820
Head Cashier II1280
Special Assistant1930
Bill Collector/Armed Guard390
Daftary560
Head Peon740
Electrician/AC Plant Helper2040
Driver2370

Other allowances

Washing Allowance – Rs.150/- p.m.
Cycle Allowance – Rs.100/- p.m.
Split Duty Allowance – Rs.150/- p.m.
Hill &; Fuel – 8% Max. 1500, 4% Max. 600, 3% Max. 500
Proj Area Comp Allow. – Clerk – 250, 200 – SS – 200, 175

 

LFC/Hospitalisation – Dependent income Rs.10,000/-  

Normal Delivery Charges Rs.50,000/-

For Part time empl Actual Service to be reckoned for Pension.

New Cashless Medical Scheme:

All employees/retires will be covered by a New Scheme which provides for full reimbursement of Hospitalization Expenses.

click to Know About : 9th Bipartite Settlement


 

November 21, 2018

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग

जम्मू कश्मीर विधानसभा भंग
जम्मू-कश्मीर के राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने जम्मू-कश्मीर विधानसभा भंग कर दी है ।

पीडीपी की महबूबा मुफ़्ती के बाद पीपुल्स कांफ्रेंस के लीडर सज्जाद लोन ने भी बीजेपी के समर्थन से सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया था ।
इसके बाद राज्यपाल ने विधानसभा भंग कर दी ।

अब राज्य में नए सिरे से चुनाव होंगे.

आज पहले पीडीपी ने जम्मू-कश्मीर में सरकार बनाने का दावा पेश कर दिया , इसके लिए 56 विधायकों के समर्थन की चिट्ठी राज्यपाल को भेज दी गई थी ।

कांग्रेस, पीडीपी और नेशनल कॉन्फ्रेंस के बीच गठबंधन हो रहा था ऐसी खबर आई थी ।

अब विधानसभा भंग कर दी गई है और राज्य में किसी को सरकार बनाने का मौका नहीं मिलेगा ।

पीडीपी नेता अल्ताफ बुखारी ने कहा था कि कश्मीर के स्पेशल स्टेटस, धारा 370 और 35 (ए) को बचाने के लिए सभी साथ आए हैं।

जम्मू कश्मीर में कुल 87 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत का आंकड़ा 44 है । जिसमें सीटों की स्थिति कुछ इस प्रकार है

पीडीपी- 28
बीजेपी-25
नेशनल कॉन्फ्रेंस-15
कांग्रेस-12
जेकेपीसी-2
सीपीएम-1
जेकेपीडीएफ़-1
निर्दलीय-3

विधानसभा भंग के बाद उमर अब्दुल्ला ने ट्वीट किया कि नेशनल कॉन्फ्रेंस 5 महीने से विधानसभा भंग करने को कह रही थी और महबूबा मुफ़्ती साहिबा की दावे की चिट्ठी के चंद मिनट में विधान सभा को भंग करने का आदेश आ गया यह कोई संयोग नहीं है ।

बता दें जम्मू एवं कश्मीर की 87-सदस्यीय विधानसभा में भाजपा 25 सीटें जीतीं और मुफ्ती मोहम्मद सईद की PDP को समर्थन देकर सरकार बनाई थी ।
जो सरकार भाजपा के समर्थन वापसी से गिर गई थी ।

November 20, 2018

महानदी में गिरी बस 15 की मौत

महानदी में गिरी बस 15 की मौत
उड़ीसा के कटक शहर में जगतपुर के निकट मंगलवार की शाम एक बस के पुल से महानदी नदी में गिर गई जिससे लगभग 15 लोगों की मौत हो गई।

चालक ने जानवर को बचाने के लिए बस को मोड़ दिया और इस वजह से यह हादसा हुआ ।

एक भैंस के अचानक से बस के सामने आ जाने के कारण बस के ड्राइवर ने बस से नियंत्रण खो दिया और फिर बस सीधे महानदी में जा गिरी ।

15 लोगों की मौत के साथ साथ 49 अन्य घायल बताए जा रहे हैं ।

खबर के अनुसार तालचर से कटक जा रही यह निजी बस नियंत्रण बिगड़ने के बाद पुल की रेलिंग से टकराकर दुर्घटनाग्रस्त हो गई और 30 फुट नीचे सूखी नदी में गिर गई।

बस के अंदर फंसे घायल यात्रियों को बचा लिया गया और उन्हें इलाज के लिए एससीबी मेडिकल कॉलेज और अस्पताल ले जाया गया है।

मुख्यमंत्री नवीन पटनायक ने मारे गए लोगों के लिए 2 लाख रुपए के मुआवजे का एलान किया है।

लोन माफ

लोन माफ
बिहार के जिले दरभंगा में मुख्यमंत्री नीतीश कुमार जिले के गाँव विशनपुर में प्रोफेसर स्वर्गीय उमाकांत चौधरी की प्रतिमा के अनावरण करने पहुंचे ।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने इस दौरान छात्रों के लिए बहुत बड़ा एलान कर दिया ।

मुख्यमंत्री ने कहा कि बच्चों को पढ़ाई के लिए बैंक से मिलने वाले चार लाख रुपये तक के लोन को बच्चे को नहीं चुकाना होगा यदि पढ़ाई पूरी कर लेने के बाद उसे कहीं नौकरी नहीं मिलती है।

बच्चे पढ़ाई पर ध्यान दें यदि उन्हें नौकरी न मिली तो बैंक से लिया हुआ पूरा लोन माफ़ हो जाएगा ।

जनसभा को संबोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने अपनी सरकार की उपलब्धियां भी गिनाई और बिना नाम लिए विरोधियों पर तीर भी चलाए ।

मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने कहा जल्द ही दरभंगा से हवाई सेवा शुरू होने वाली है जिसके लिए जमीन अधिग्रहण का काम किया जा रहा है।

हवाई सेवा शुरू होने से उन मिथिलावासी को फायदा पहुंचेगा जो बाहर रहते हैं हवाई सेवा शुरू होने से वे बिना पटना आये सीधे सफर कर सकेंगे ।


आरजेडी और लालू परिवार का बिना नाम लिए कटाक्ष करते हुए कहा कि पहले लालटेन युग था, लोग अंधेरे में रहते थे अब बिजली मिल गई तो लालटेन भी समाप्त हो गया ।

मुख्यमंत्री ने कहा दूसरे लोगों को जब मौका मिला तो वे पाप करने लगे, हमें मौका मिला तो हम काम कर रहे हैं।

मुख्यमंत्री के लोन माफी के फरमान से लोगों को खुशी है कि नौकरी न मिली तो कम से कम लोन तो न चुकाना पड़ेगा ।

केजरीवाल पर हमला

केजरीवाल पर हमला
दिल्ली के सचिवालय में मुख्यमंत्री चेम्बर के बाहर की घटना है जब एक व्यक्ति ने मुख्यमंत्री पर अचानक से हमला बोल दिया ।

नारायणा दिल्ली के रहने वाले एक सख्स अनिल शर्मा ने दिल्ली के मुख्यमंत्री श्री अरविंद केजरीवाल के पैर छूते समय पहले उनका चश्मा खींचा जिससे वह टूट गया , और साथ ही मुख्यमंत्री की आंखों में मिर्ची पाउडर से हमला कर दिया ।

ये सब कुछ ही सेकेंडों में हुआ कि किसी को भी कुछ सोचने देखने तक का समय नहीं मिला ।

मुख्यमंत्री लंच के लिए अपने चेंबर से निकल कर घर जा रहे थे, इसी दौरान हमला करने वाला शख्स बात करने के बहाने करीब आया।

 

इसे मुख्यमंत्री की सुरक्षा में एक बड़ी चूक के रूप में देखा जा रहा है । हमला मुख्यमंत्री के कार्यालय के बाहर हुआ जो एक 'उच्च सुरक्षा' वाला क्षेत्र है ।

अधिकारियों के मुताबिक केजरीवाल का चश्मा तो टूटा मगर उनकी आंखों को कोई नुकसान नहीं हुआ है । आरोपी खैनी के पैकेटों में मिर्च का पाउडर लेकर सचिवालय आया था।



फोटो : हमले में फैला हुआ मिर्च पाउडर

सुनने में आया कि मिर्च पाउडर फेंकने के बाद आरोपी ने धमकी भी दी कि अभी तो उसे जेल होगी मगर जेल से बाहर आकर वह उन्हें गोली मार देगा।

केजरीवाल के करीबी अधिकारियों ने दिल्ली पुलिस पर उन्हें कम सुरक्षा देने का आरोप लगाया और कहा कि एक महीने में तीसरी बार केजरीवाल को नुकसान पहुंचाने की कोशिश हुई है।

आरोपी को दिल्ली पुलिस ने हिरासत में ले लिया है और पूछताछ जारी है , अभी तक हमले का कारण सामने नहीं आया है ।

उधर 'आप' प्रवक्ता सौरभ भारद्वाज ने हमले के लिए भाजपा पर आरोप लगाया , इसे एक गंभीर मामला और हमले को 'राजनीति से प्रेरित' करार दिया ।

भाजपा के नेता मनोज तिवारी ने हमले की निंदा की और घटना की 'उच्च स्तरीय' जांच की मांग की है ।

MICR CODE क्या है

MICR CODE क्या है

What is MICR Code?


MICR code is a code printed on cheques using MICR (Magnetic Ink Character Recognition) technology. This enables identification of the cheques and which in turns means faster processing of cheques in clearing system.


An MICR code is a 9-digit code that uniquely identifies the bank and branch participating in an Electronic Clearing System (ECS).

MICR 9 Digits comprises of 3 parts:

  • The first three digits of MICR represent  the city (City Code). They are aligned with the PIN.

  • The next 3 digits of MICR CODE represent the bank (Bank Code).

  • The last 3 digits of MICR CODE represent the branch (Branch Code).


The MICR code is located on the bottom of a cheque leaf, next to the cheque number. You can also find it printed on the first page of a bank savings account passbook.

What is MICR code used for?


One is required to mention the MICR code while filing up various financial transaction forms such as investment forms or SIP form.

 

GET IFSC/MICR CODE: CLICK HERE

IFSC/MICR CODE प्राप्त करने : यहाँ क्लिक करें

MICR कोड क्या है?


MICR कोड MICR (मैग्नेटिक इंक कैरेक्टर रिकॉग्निशन) तकनीक का उपयोग कर चेक पर छपा हुआ कोड है। यह चेक की पहचान करने में सक्षम बनाता है और जिसका उपयोग क्लियरिंग सिस्टम में चेक का तेजी से खाता में भुगतान हेतु प्रयोग होता है।

यदि आपने अपने Account की Cheque Book बनवाई है और आपके पास Cheque है तो अपने देखा होगा की Cheque के नीचे लाइन पर 9 अंकों का एक नंबर लिखा होता और ये विशेष मैगनेटिक इंक से लिखा जाता है जिसे हम MICR Code कहते है।

MICR कोड एक 9-अंकीय कोड होता है, जो इलेक्ट्रॉनिक क्लियरिंग सिस्टम (ECS) में भाग लेने वाले बैंक और शाखा की विशिष्ट पहचान करता है।

 

MICR 9 अंकों में 3 भाग होते हैं



  • MICR के पहले तीन अंक शहर (सिटी कोड) को दर्शाते हैं। वे उस शहर का पिन नम्बर होते हैं।

  • MICR कोड के अगले 3 अंक बैंक (बैंक कोड) को दर्शाते हैं।

  • MICR कोड के अंतिम 3 अंक शाखा (शाखा कोड) को दर्शाते हैं।


MICR कोड चेक के निचले भाग पर स्थित होता है, जो चेक नंबर के आगे लिखा होता है। आपकी बैंक सेविंग अकाउंट पासबुक के पहले पेज पर भी प्रिंट होता हैं।

 

MICR कोड किस लिए उपयोग किया जाता है?


किसी को विभिन्न वित्तीय लेनदेन प्रपत्र जैसे कि निवेश फॉर्म या SIP फॉर्म दाखिल करते समय MICR कोड का उल्लेख करना होता है।

MICR Code आपके चेक को क्लीयर करने की विधि को आसान और Fast बनाता है इस Code का इस्तेमाल Bank द्वारा एक Account से दूसरे Account में पैसे Transfer करने के दौरान Account से जानकारी प्राप्त करने के लिए किया जाता है।

MICR Code में Iron Oxide Based Ink का उपयोग किया जाता है इसीलिए MICR Code के अंक को मशीन द्वारा पढने में आसानी होती है MICR Scanner बहुत ही अच्छे से Characters को पढ़ते है जिससे बहुत कम ग़लतियाँ होती है।

IFSC code क्या है?

IFSC code क्या है?
The Full Form of IFSC Code is Indian Financial System Code Basically it is used for NEFT & RTGS money transfer.You can find IFSC Code on your cheque leaf and also printed on the first page of pass book along with account number.

RBI is the central banking institution of India which controls Indian rupee and all banks. It controls inter-bank money transfer all over the banks in India through RTGS and NEFT.

It means IFSC Code refers to Indian Financial System Code, which is an eleven-character code assigned by RBI to identify every bank branches uniquely, that are participating in NEFT system in India.

This code is used by electronic payment system applications such as RTGS and NEFT.

 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

 

Understanding 11 Digit IFSC Code:


The code is of 11 characters. Which is composed of alpha numeric entities (number & alphabets).

 

  • The first part is the first four alphabet characters (First 4 Digits) representing the Bank name Like SBIN For STATE BANK OF INDIA, BKDN for DENA BANK , MAHB for BANK OF MAHARASHTRA.


 

  • Next character or FIFTH digit is left as 0 (ZERO), which is reserved for future use.


 

  • The last six characters (6 Digits) are the branch code Represent The specific Branch of that Particular BANK.


So it is very clear that if you want To find the desired branch IFSC code with details , you have to first know the bank code (4 Digit) then add 0 (zero) & in last add branch code (6 Digit).

 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

 

जब हम एक बैंक से दूसरी बैंक में फण्ड ट्रांसफर करते है तो हमें कुछ जानकारियो की आवश्यकता होती है। जैसे IFSC Code। IFSC code का उपयोग NEFT (एनईएफटी), RTGS (आरटीजीएस) की सुविधा का प्रयोग करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

 

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) और हमारी बैंकिंग प्रणाली Source और Destination शाखाओं की पहचान करने के लिए IFSC CODE का इस्तेमाल करते हैं ।

 

IFSC कोड का पूर्ण रूप (Indian Financial System Code ) भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड है मूल रूप से इसका उपयोग NEFT और RTGS मनी ट्रांसफर के लिए किया जाता है। आपको यह कोड अपने चेक बुक लीफ पर मिल सकता हैं और खाता संख्या के साथ पासबुक के पहले पृष्ठ पर भी मुद्रित होता हैं।

 

आरबीआई भारत का केंद्रीय बैंकिंग संस्थान है जो भारतीय रुपये और सभी बैंकों को नियंत्रित करता है। यह आरटीजीएस और एनईएफटी के माध्यम से पूरे भारत में बैंकों में अंतर-बैंक मनी ट्रांसफर को नियंत्रित करता है।

 

IFSC कोड भारतीय वित्तीय प्रणाली कोड को संदर्भित करता है, जो RBI द्वारा प्रत्येक बैंक शाखाओं की विशिष्ट पहचान करने के लिए एक ग्यारह-वर्ण (11 DIGIT) का कोड है ।

 

आइये IFSC CODE को समझें:


 

यह कोड 11 DIGIT का होता है। जो अल्फा न्यूमेरिक एंटिटीज (संख्या और अक्षर) से बना है।

 

  • पहला भाग पहले चार अक्षर का है, जिसमें बैंक नाम जैसे SBIN स्टेट बैंक ऑफ इंडिया के लिए, DENA बैंक के लिए BKDN, MAHARASHTRA बैंक के लिए MAHB का प्रयोग होता है।


 

  • IFSC CODE का अगला भाग या पांचवां अंक 0 (ZERO) के रूप में छोड़ा गया है।, जो भविष्य के उपयोग के लिए आरक्षित है।


 

  • IFSC CODE के अंतिम छह अक्षर (अंतिम 6 अंक या अक्षर) शाखा कोड के हैं, जो उस विशिष्ट बैंक की विशिष्ट शाखा के होते है।


 

TO FIND IFSC CODE :CLICK HERE

IFSC CODE प्राप्त करने के लिए : यहाँ क्लिक करें

यदि आप विवरण के साथ किसी शाखा का IFSC कोड खोजना चाहते हैं, तो आपको पहले बैंक कोड जानना होगा (4 अक्षर का) फिर 0 (शून्य) और अंत में शाखा कोड (6 अंक या अक्षर) साथ में जोड़ें और IFSC CODE तैयार हो जाएगा।

November 10, 2018

प्लेन हाईजैक की खबर से हड़कंप

प्लेन हाईजैक की खबर से हड़कंप
दिल्ली से कंधार जाने वाली एक फ्लाइट FG312 के हाई जैक की खबर से एयरपोर्ट पर हड़कंप मच गया । वहीं विमान में बैठे यात्री सकते में आ गए कि ये हुआ क्या ?

वहीं खबर लगते ही सुरक्षा एजेंसिया अलर्ट हो गईं ।

खबर के अनुसार दिल्‍ली के इंदिरा गांधी अंतरराष्‍ट्रीय हवाई अड्डे पर दिल्ली से कंधार जाने वाली एरियाना अफगान एयरलाइंस में फ्लाइट के ही पायलेट से गलती से हाइजैक बटन दब गया ।

हाईजैक बटन दबते ही एंटी टेरर फोर्स और नेशनल सिक्‍योरिटी गार्ड (एनएसजी) एक्‍शन में आ गईं । एनएसजी के कमांडो व अन्‍य एजेंसियों ने विमान को घेर लिया ।

दरअसल जब हाईजैक बटन दबता है या दबाया जाता है तो बटन दबते ही सिग्नल कंट्रोल रूम में पहुँच जाते हैं ।

और वही हुआ बटन भले ही गलती से दबा परन्तु बटन दबते ही सुरक्षा एजेंसिया अलर्ट हो गईं जिसके बाद फ्लाइट को रोका गया और सीआईएसएफ और दिल्ली पुलिस द्वारा पूरी फ्लाइट की चेकिंग की गई ।

विमान में क्रू के 9 सदस्‍य और 125 यात्री सवार बताए गए ।

सभी सुरक्षा जांच पूरी होने पर करीब दो घंटे बाद अफगान एयरलाइन का यह विमान उड़ान भर सका ।

विमान में सवार यात्री इस दौरान घबराहट और तनावपूर्ण माहौल में रहे । जब यह सुनिश्चित हो गया कि क्रू की गलती थी जब जाकर विमान को उड़ान भरने की इजाजत मिली ।

November 08, 2018

गोवर्धन पूजा

गोवर्धन पूजा
गोवर्धन पूजा Goverdhan Pooja दीपावली के दूसरे दिन कार्तिक शुक्ल प्रतिपदा को की जाती है।

इस त्यौहार का भारतीय लोकजीवन में काफी महत्व है।

गोवर्धन पूजा में गोधन यानी गायों (गौ वंश ) की पूजा की जाती है। शास्त्रों में गाय को नदियों के समान पवित्र बताया गया है ।

गाय को देवी लक्ष्मी का स्वरूप भी कहा गया है। देवी लक्ष्मी जिस प्रकार सुख समृद्धि प्रदान करती हैं उसी प्रकार गौ माता भी अपने दूध से स्वास्थ्य रूपी धन प्रदान करती हैं।

ग़ोवर्धन के संबंध में कहानी :


एक बार इंद्र देव को बहुत घमंड हो गया , तब श्रीकृष्ण भगवान ने लीला रची और इंद्र देव की जगह गौ वंश की पूजा कराई ।

एक दिन उन्होंने देखा के सभी बृजवासी उत्तम पकवान बना रहे हैं और किसी पूजा की तैयारी में जुटे। श्री कृष्ण ने प्रश्न किया " ये आप लोग किनकी पूजा की तैयारी कर रहे हैं" कृष्ण की बातें सुनकर उन्होंने कहा कि हम देवराज इन्द्र की पूजा के लिए अन्नकूट की तैयारी कर रहे हैं।

ऐसा कहने पर श्री कृष्ण बोले हम इन्द्र की पूजा क्यों करते हैं? हमें तो गोर्वधन पर्वत की पूजा करनी चाहिए क्योंकि हमारी गाये वहीं चरती हैं, इस दृष्टि से गोर्वधन पर्वत ही पूजनीय है ।

तब ग़ोवर्धन पर्वत और गौ पूजा से इंद्र नाराज हो गए और इंद्र देव ने क्रोध में आकर मूसलाधार बारिश की ।

कृष्ण ने ब्रजवासियों को मूसलधार वर्षा से बचने के लिए मुरली कमर में डाली और अपनी कनिष्ठा उंगली पर पूरा गोवर्घन पर्वत उठा लिया और सभी बृजवासियों को उसमें अपने गाय और बछडे़ समेत शरण लेने के लिए बुलाया।



इन्द्र का मान मर्दन के लिए तब श्री कृष्ण ने सुदर्शन चक्र से पर्वत के ऊपर रहकर वर्षा की गति को नियत्रित करने और शेषनाग को मेड़ बनाकर पानी को पर्वत की ओर आने से रोकने को कहा ।

सात दिन तक गोवर्धन पर्वत को अपनी सबसे छोटी उँगली पर उठाकर रखा और गोप-गोपिकाएँ उसकी छाया में सुखपूर्वक रहे।

इन्द्र लगातार मूसलाधार वर्षा करते रहे जब कामयाब न हुए तब वे ब्रह्मा जी के पास पहुंचे । ब्रह्मा जी ने इन्द्र से कहा कि आप जिस कृष्ण से हठ कर रहे हैं वह भगवान विष्णु के अवतार हैं।

यह सुनकर इन्द्र अत्यंत लज्जित हुए और श्री कृष्ण के पास जाकर बोले प्रभु मैं आपको पहचान न सका आप दयालु हैं मेरी भूल क्षमा करें।

सातवें दिन जब इंद्र देव का घमंड चूर चूर हो गया तब भगवान ने गोवर्धन पर्वत को नीचे रखा और हर वर्ष गोवर्धन पूजा करके अन्नकूट उत्सव मनाने की आज्ञा दी। तभी से यह उत्सव अन्नकूट के नाम से भी जाना जाता है ।

अभिमान चूर होने के बाद इन्द्र ने श्रीकृष्ण से क्षमा मांगी। तब कृष्ण ने उन्हें क्षमा करते हुए गोवर्धन पूजा में इंद्र की आराधना करने का भी कहा ।

पूजा विधि :


गाय के गोबर से गोवर्धन पर्वत बनाया जाता है। गाँव में गाय बैल आदि को सजाया जाता है । गाय गोबर से बनाए गए गोवर्धन की पूजा अर्चना की जाती है और परिक्रमा भी ।



बृजवासी इस दिन गोवर्घन पर्वत की पूजा करते हैं। गाय बैल को इस दिन स्नान कराकर उन्हें रंग लगाया जाता है व उनके गले में नई रस्सी डाली जाती है। गाय और बैलों को गुड़ और चावल मिलाकर खिलाया जाता है



शाम को गोबर से बने ग़ोवर्धन पर कई जगह बैलों से भी परिक्रमा करने का प्रचलन है ।



स्वादिष्ट पकवान बनाए जाते हैं।भगवान श्री कृष्ण को प्रसन्न करने के लिए भजन कीर्तन भी करते हैं।

अन्नकूट :


 



अन्नकूट बनाने में सभी तरह की सब्जियां लौकी, कद्दू, भिंडी, गोभी , मूली, शिमला मिर्च, व अन्य सब्जियों के साथ साथ सूखे मेवे और चावल का प्रयोग किया जाता है। यह बहुत ही स्वादिष्ठ तैयार किया जाता है । साथ ही ताजे फल और मिष्ठान से भगवान को भोग लाया जाता है।


ब्रज में अन्नकूट का प्रसाद ग्रहण करने दूर दूर से लोग आते हैं ।
जो नहीं आ पाते वे घर में ही इसे बनाते हैं ।

November 06, 2018

दिवाली या दीपावली

दिवाली या दीपावली
दीपावली या दिवाली Diwali भारत वर्ष का सबसे बड़ा त्योहार या कहें त्योहारों का राजा ।

असत्य पर सत्य की विजय , अंधकार पर प्रकाश की विजय का त्योहार दिवाली भारत में पूरे हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है।

हर वर्ष कार्तिक मास की अमावस्या को मनाए जाने वाला यह पर्व पूरे देश के लिए खुशहाली लेकर आता है ।

दिवाली आई खुशियाँ लाई :


कहते हैं न हर आदमी का दिन आता है , कुछ ऐसा ही है यह त्योहार इसमें हर व्यक्ति का अच्छा समय आता है , अब आप पूछेंगे कैसे ? तो आइए बताते हैं ।

माना जाता है इस पर्व में घर पर लक्ष्मी माँ स्वयं आती हैं तो शुरुआत होती है साफ सफाई से जिससे कबाड़ वालों का इस समय सीजन माना जाता है ।

रंग रोगन की की दुकानों पर अच्छी खासी बिक्री होती है , दिवाली से पहले ही ग्रह प्रवेश शुभ माना जाता है ऐसे में एक माह पूर्व से ही घर संबंधी सभी वस्तुओं की बिक्री जोर पकड़ती है ।

त्योहारों की श्रृंखला है दिवाली :


दीपावली कोई एक दिवसीय त्योहार नहीं बल्कि एक त्योहारों की श्रृंखला है । करवाचौथकरवाचौथ पर सुहाग के समान , साड़ी , कपड़े, मेकअप आदि की दुकानें ग्राहकों से भरी रहती हैं ।

उसके बाद आता है धनतेरसधनतेरस यानि धनत्रियोदशी इस दिन बर्तन, सोना ,चाँदी, गाड़ियाँ ,कार ,मोटरसाइकिल ,साइकिल व अन्य व्यवसाय अपने उच्च स्तर पर होते हैं ।

धनतेरस के अगले दिन और दिवाली से एक दिन पहले वाला दिन छोटी दिवालीछोटी दिवाली के नाम से जाना जाता है इसे नरकचतुर्दशीनरकचतुर्दशी भी कहा जाता है ।
इस दिन को यदि गिफ्ट डे या उपहार दिवस बोला जाए तो गलत नहीं होगा , दिवाली की छुट्टी से पूर्व का यह दिन कार्यरत कर्मचारियों के साथ साथ व्यापारियों के बीच आपसी उपहार वितरण में सबसे श्रेष्ठ समझिए ।

कार्य करने वाले लेबर, मजदूर वर्ग, कर्मचारी और व्यवसायी सभी को वे जहां भी काम कर रहे हैं उनके मालिक कुछ न कुछ उपहार देते हैं । जिससे उपहार की दुकानों के साथ मिष्ठान की दुकानें भी जमकर चलती हैं ।

फिर आता है मुख्य दिवस दिवाली इस दिन तो पूजा पाठ , सुबह से शाम , फूलों की बिक्री से लेकर पूजा सामग्री, मिट्टी से बनी मूर्तियां , दिए ( दीपक) की बिकवाली वर्ष की सबसे अधिक होती है ।

दिवाली के अगले दिन आता है ग़ोवर्धन पूजा जिसे बड़ी धूमधाम के साथ मनाया जाता है , ये त्योहार गोधन का होने के कारण शहरों की अपेक्षा गाँव में बड़े स्तर पर होता है ।

उसके अगले दिन भाई दूज इस दिन बहनें अपने भाइयों का टीका करती हैं , इस दिन भी मिष्ठान वितरण बहुत अधिक रहता है ।

लक्ष्मी और गणेश की पूजा


शुभ महूर्त में धन की देवी लक्ष्मी और रिद्धि सिद्धि के प्रभु श्री गणेश का पूजन विधिवत किया जाता है , इसमें मिट्टी के बने लक्ष्मी गणेश शुभ माने जाते हैं ।

दीपक जलाना, घर की सजावट, खरीददारी, आतिशबाज़ी, पूजा, उपहार, दावत और मिठाइयाँ पूजा में चार चाँद लगाती हैं ।

दीपावली के पीछे मान्यता :


माना जाता है कि दीपावली के दिन भगवान राम अपने चौदह वर्ष के वनवास के पश्चात घर अयोध्या लौटे थे। श्री राम के स्वागत में अयोध्यावासियों ने घी के दीपक जलाए।

कार्तिक मास की अमावस्या की वह रात्रि दीयों की रोशनी से अयोध्या जगमगा उठी। तब से आज तक भारतीय प्रति वर्ष यह प्रकाश-पर्व हर्ष व उल्लास से मनाते हैं।
यह पर्व अक्टूबर या नवंबर माह में ही पड़ता है ।

नरक चतुर्दशी (छोटी दिवाली)

नरक चतुर्दशी (छोटी दिवाली)
छोटी दिवाली , दीवाली या दीपावली से एक दिन पहले का त्योहार ।

यह त्यौहार नरक चौदस या नर्क चतुर्दशी या नर्का पूजा के नाम से भी प्रसिद्ध है।

इसे छोटी दीपावली इसलिए कहा जाता है क्योंकि दीपावली से एक दिन पहले, रात के वक्त उसी प्रकार दीए जलाए जाते हैं जैसे दीपावली की रात को ।

दीपावली की पांच पर्वों की श्रृंखला के मध्य में रहने वाला त्यौहार है दीपावली से दो दिन पहले धनतेरस फिर नरक चतुर्दशी या छोटी दीपावली फिर दीपावली और ग़ोवर्धन पूजा, भाईदूज।

ऐसा कार्तिक महीने में कृष्ण चतुर्दशी के दिन प्रातःकाल तेल लगाकर स्नान करने से नरक से मुक्ति मिलती है। विधि-विधान से पूजा करने वाले व्यक्ति सभी पापों से मुक्त हो स्वर्ग को प्राप्त करते हैं।

कहानी है कि इस दिन ही भगवान श्री कृष्ण ने अत्याचारी और दुराचारी नरकासुर का वध कर सोलह हजार एक सौ कन्याओं को नरकासुर के बंदी गृह से मुक्त कराया था ।

इस दिन के व्रत और पूजा के संदर्भ में एक अन्य कथा यह है कि रन्ति देव नामक एक पुण्यात्मा और धर्मात्मा राजा थे।

उन्होंने अनजाने में भी कोई पाप नहीं किया था लेकिन जब मृत्यु का समय आया तो उनके सामने यमदूत आ खड़े हुए।

यमदूत को सामने देख राजा अचंभित हुए और बोले मैंने तो कभी कोई पाप कर्म नहीं किया फिर आप लोग मुझे लेने क्यों आए हो क्योंकि आपके यहां आने का मतलब है कि मुझे नर्क जाना होगा।

आप मुझ पर कृपा करें और बताएं कि मेरे किस अपराध के कारण मुझे नरक जाना पड़ रहा है।

पुण्यात्मा राजा की अनुनय भरी वाणी सुनकर यमदूत ने कहा हे राजन् एक बार आपके द्वार से एक भूखा ब्राह्मण लौट गया यह उसी पापकर्म का फल है।

दूतों की इस प्रकार कहने पर राजा ने यमदूतों से कहा कि मैं आपसे विनती करता हूं कि मुझे वर्ष का और समय दे दे।

यमदूतों ने राजा को एक वर्ष की मोहलत दे दी। राजा अपनी परेशानी लेकर ऋषियों के पास पहुंचा और उन्हें सब वृतान्त कहकर उनसे पूछा कि कृपया इस पाप से मुक्ति का क्या उपाय है।

ऋषि बोले हे राजन् आप कार्तिक मास की कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी का व्रत करें और ब्रह्मणों को भोजन करवा कर उनसे अनके प्रति हुए अपने अपराधों के लिए क्षमा याचना करें।

राजा ने वैसा ही किया जैसा ऋषियों ने उन्हें बताया। इस प्रकार राजा पाप मुक्त हुए और उन्हें विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ।

उस दिन से पाप और नर्क से मुक्ति हेतु भूलोक में कार्तिक चतुर्दशी के दिन का व्रत प्रचलित है।

इस दिन सूर्योदय से पूर्व उठकर तेल लगाकर स्नान करने का बड़ा महत्व है। स्नान के पश्चात विष्णु मंदिर और कृष्ण मंदिर में भगवान का दर्शन करना अत्यंत पुण्यदायक कहा गया है। इससे पाप कटता है और रूप सौन्दर्य की प्राप्ति होती है।

सूर्योदय से पूर्व उठकर, स्नानादि से निपट कर यमराज का तर्पण करके तीन अंजलि जल अर्पित करने का विधान है।

शाम को यमराज के लिए दीप दान किया जाता है।

November 05, 2018

टी 20 से पहले बदला स्टेडियम

टी 20 से पहले बदला स्टेडियम

अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल स्टेडियम


जी हाँ यदि आपको नहीं पता कि ये स्टेडियम कहाँ है यो आपको बता दें कि इसी स्टेडियम में आज भारत और वेस्टइंडीज के बीच पहली बार अंतरराष्ट्रीय स्तर का टी-20 मैच होने जा रहा है ।

पचास हजार दर्शकों की क्षमता रखने वाला उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के इकाना स्टेडियम में मंगलवार ,6 नवंबर 2018 को पहला अंतरराष्ट्रीय मैच खेला जाएगा ।

इससे पहले ही योगी सरकार ने इस स्टेडियम का नाम बदल दिया है, अब इसका नाम 'इकाना' नहीं बल्कि, अटल बिहारी वाजपेयी इंटरनेशनल स्टेडियम होगा ।

उत्तर प्रदेश के राज्यपाल ने राम नाईक ने स्टेडियम के नाम बदले जाने की स्वीकृति दे दी है।

स्टेडियम में 9 पिच हैं, शानदार ड्रेसिंग रूम है और दूधिया रोशनी का शानदार इंतजाम है।

स्टेडियम में पहले अंतरराष्ट्रीय टी-20 मैच को देखने के लिए प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ समेत कई कैबिनेट मंत्रियों के आने की संभावना है ।

राज्यपाल व मुख्यमंत्री के मैच देखने आने के कारण स्टेडियम में हर तरह की सुविधा, सुरक्षा और तैयारी का कार्य जोरों पर हैं।

November 03, 2018

बनेगा राम मंदिर

बनेगा राम मंदिर
ज्यों ज्यों चुनाव नजदीक आ रहे हैं राम मंदिर का मुद्दा दिन पर दिन जोर पकड़ता जा रहा है ।

राम मंदिर मुद्दे पर आज बाबा रामदेव ने कहा है कि यदि न्यायालय के निर्णय में देर हुई तो संसद में इसका बिल आएगा।

इससे पहले आरएसएस ने भी सरकार से मांग की है कि वह संसद में कानून बनाकर जमीन का अधिग्रहण करे और मंदिर बनाने का रास्ता साफ करे ।

बाबा रामदेव ने कहा है कि राम जन्मभूमि पर राम मंदिर नहीं बनेगा तो किसका बनेगा? संतो और रामभक्तों ने संकल्प किया है अब राम मंदिर में और देर नहीं चाहिए ।

जन्मभूमि न्यास के अध्यक्ष राम विलास वेदांती का दावा है कि राम मंदिर का निर्माण दिसंबर में शुरू हो जाएगा । जिसका रास्ता आपसी सुलह से बनेगा ।

बाबा राम देव के अनुसार भी इसी वर्ष शुभ देश को राम मंदिर पर कोई न कोई शुभ समाचार अवश्य मिलेगा।

इसके पूर्व भी संघ की ओर से भैया जोशी ने प्रेस कांन्फ्रेंस की थी और कहा था कि अगर जरूरत पड़ी तो राम मंदिर के लिए 1992 जैसा आंदोलन करेंगे ।

गौरतलब है कि सुप्रीम कोर्ट ने अयोध्या मामले में सुनवाई को टाल दिया है और हाल फिलहाल कोर्ट से इस संबंध में जल्द ही निर्णय की कोई उम्मीद नहीं की जा सकती ।

हालांकि विपक्ष के अनुसार राम मंदिर के मुद्दे को चुनाव की वजह से ज्यादा हवा दी जा रही है ।

विपक्ष के अनुसार पूर्ण बहुमत और यूपी सहित कई राज्यों में भाजपा सरकार होने के बाबजूद सिर्फ चुनावी समय में राम मंदिर की बात सिर्फ वोट की राजनीति है ।

भाजपा के तमाम नेता मंदिर न बनने का ठीकरा विपक्ष पर फोड़ देते हैं ।

वहीं एससीएसटी एक्ट कानून के बाद सवर्ण समाज का कहना है कि जब कोर्ट के फैसले के खिलाफ ये कानून आ सकता है तो मंदिर पर कोर्ट का इंतजार क्यो ?

इन्ही सब बातों के बीच राम को उनका मंदिर जल्द ही मिलने के आसार तो कम ही नजर आ रहे हैं क्योंकि सरकार की तरफ से अभी तक कोई रुख साफ नहीं किया गया है ।

ऐश्वर्या का तेज से तलाक

ऐश्वर्या का तेज से तलाक
आरजेडी सुप्रीमो लालू प्रसाद यादव के बड़े बेटे तेज प्रताप की विवाहित जिंदगी दांव पर लगी है ।

तेजप्रताप ने पत्नी से तलाक के लिए कोर्ट में अर्जी डाली है।

तेजप्रताप की शादी इसी साल 12 मई 2018 को आरजेडी विधायक चंद्रिका राय की बेटी और बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री दरोगा राय की पोती ऐश्वर्या से से हुई थी ।

शादी को बचाने के लिए सुलह की कोशिशों में परिजन जुटे हुए हैं लेकिन लालू यादव के पुत्र तेज प्रताप यादव का कहना है कि घुट घुट कर जीने से क्या फायदा ।

तेज प्रताप के अनुसार अब तीर कमान से निकल चुका है और सुलह की कोई भी गुंजाइश नहीं है ।

छह महीने में ही तेज प्रताप ने पटना के फैमिली कोर्ट में तलाक के लिए अर्जी दी है जिस पर कोर्ट की सुनवाई की तारीख 29 नवंबर है।

गौरतलब है कि अब कुछ ही महीनों में 2019 का चुनाव होने को है ऐसे में लालू के परिवार के सदस्यों की राजनीतिक कैरियर पर इसका प्रतिकूल असर पड़ सकता है ।

लालू के छोटे बेटे तेजस्वी यादव ने मीडिया से कहा कि घर के झगड़े का तमाशा ना बनाया जाए , उन्होंने मीडिया से कहा वे देश की परवाह करें उनके घर की नहीं ।

तेज प्रताप की पत्नी ऐश्वर्या राय ने तलाक के विषय मे अभी तक किसी तरह की सहमति नहीं दी है ।

परिवार व परिवार के हितैषी अभी भी रिश्तों को साधने में जुटे हुए हैं लेकिन तेज प्रताप के रुख के अनुसार सुलह के आसार कम ही नजर आ रहे हैं ।

तेज प्रताप ने एक तरफा तलाक की अर्जी तो लगा दी और मीडिया में बयानबाजी भी कर रहे हैं लेकिन अभी तक ऐश्वर्या और उनके परिवार की ओर से किसी ने कुछ नहीं कहा है ।

तेज प्रताप यादव ने कहा है कि सुलह कराने प्रधानमंत्री भी आ जाएं तो भी वह अपने फैसले से पीछे नहीं हटेंगे ।