January 31, 2020

Bank DA from February 2020 to April 2020

Bank DA from February 2020 to April 2020

DA for Bankers from February 2020 to April 2020


DA Bank ( Dearness Allownce As per IBA circular)  for workmen and officer Employees in banks for the month of February, March  and April 2020 has been decided.

On the basis of CPI data All india average CPI (consumer price index) for the months of October to December 2019 (base 1960=100).

Total 759 slabs DA on basic and special allowances for the bank staff. The last quarterly payment of DA was at 723 Slabs.

Hence there is an increase in DA slabs of 42 slabs. (DA increase 4.2%)


That Means for the period of February 2020 to April 2020, Bank staff is eligible for 75.9% DA which means 42 slabs( 4.2%) increase over the previous quarter.

DA for bank Employees feb 2020 to Apr 2020


The rate of Dearness Allowance payable to staff and officers for the months of February, March and April 2020 shall be 75.9 % of ‘Basic pay’.

While arriving at dearness allowance payable, decimals from third place may please be ignored.


Bank DA from May 2020 to July 2020

बैंक हड़ताल में कटती है बैंक कर्मियों की सैलरी

बैंक हड़ताल में कटती है बैंक कर्मियों की सैलरी

बैंक हड़ताल में कटती है बैंक कर्मियों की सैलरी


फिर भी सरकारी बैंकों में बार बार हड़ताल क्यों? इस माह 31 जनवरी फिर 1 फरबरी और उसके बाद 11 से 13 मार्च तीन दिन और 1 अप्रेल से लगातार हड़ताल पर जाकर अपनी सैलरी क्यों कटवा रहे 10 लाख से अधिक कर्मचारी ?

सर्वप्रथम आपको ये अवगत कराना आवश्यक है कि बैंककर्मियों को हड़ताल करने पर आर्थिक नुकसान सहन करना पड़ता है क्योंकि हड़ताल के दिनों का वेतन उनकी सैलरी से काट लिया जाता है।

सावधान कई बैंक हड़ताल आएंगी एक साथ


केंद्र और राज्य कर्मचारियों की वेतनवृद्धि के लिए सरकार पे कमिशन (सीपीसी ) का गठन करती है। किन्तु 10 लाख बैंककर्मियों की वेतनवृद्धि IBA व बैंक यूनियंस के मध्य द्विपक्षीय समझौता  के द्वारा तय होता है।

मिली जानकारी के अनुसार CPC की तरह IBA को किसी भी सरकार द्वारा वैधानिक मान्यता प्राप्त नहीं है । बैंककर्मियों की वेतनवृद्धि 2017 से देय है पर 27 महीना बीत जाने के बाद भी इसके जल्द होने के कोई आसार नहीं हैं।

बैंक कर्मी इसलिए भी नाराज हैं कि इस बार IBA ने शुरुआत में मात्र 2 प्रतिशत का ऑफर देकर  बैंककर्मियों को बेइज़्ज़त करने का काम किया है जबकि बैंकों का पिछला वेतनवृद्धि  15% की वृद्धि पर हुआ था।

यूनियनों के अनुसार मई 2018 को वित्त मंत्रालय ने IBA को  निर्देश दिया था कि CPC की भांति बैंक में वेतनवृद्धि को समय से लागू कर दिया जाए। किन्तु IBA अलग हटकर कार्य कर रही है।

XI BIPARTITE SETTLEMENT update


UFBU के अनुसार 2018 से 2019 के बीच बैंककर्मियों ने सम्मानजनक वेतनवृद्धि के लिए 6 दिनों की हड़ताल की फिर भी IBA ने मामले को संवेदनशील नहीं माना और हड़ताल से जनता को परेशान होने दिया गया।

IBA की सौदेबाज़ी व हठधर्मिता के कारण यूनियंस ने इस बार लंबी लड़ाई (लगातार हड़ताल) का फैसला कर लिया है जिसके चलते आम जनता को भारी परेशानी होने वाली है।

Bank DA from February 2020 to April 2020

यूनियनों की तरफ से आमजन को बताया जा रहा है कि हड़ताल थोपी जा रही है मांगें IBA सुन नहीं रही जबकि सरकार चाहती थी कि जल्द वेतन समझौता हो जाए ।

यूनियन लीडर के अनुसार बैंक कर्मी का वेतन मौजूदा समय में केन्द्रीय कर्मियों की अपेक्षा बहुत कम है वे केंद्र के चपरासी व क्लर्क से कम शुरुआती वेतन पाते हैं।इतनी रिस्क वाली नौकरी के बाद भी बैंक अफसर केंद्रसरकार के क्लर्क के बराबर वेतन पाता  है।

सरकारी नीतियाँ और वसूली के लचर कानून से परेशान 


यूनियन लीडर के अनुसार IBA इस बात का रोना रोती है कि बैंक घाटे में हैं। ये भी भ्रम फैलाया जा रहा है। देश मे बड़े बड़े अमीर लोग को बैंको से राजनीतिक चंदे के लिए लाखों करोड़ का लोन दे दिया जाता है जिसमे बैंक कर्मियों का कोई रोल नहीं ये सब खेल ऊपर ऊपर खेला जाता है।

वसूली के लचर कानून की वजह से ये अमीर कर्ज़ को वापस नहीं करते जिसके कारण बैंकों का NPA लाखो करोड़ हो जाता है। बैंक हमेशा ऑपरेटिंग प्रॉफिट में रहे हैं लेकिन NPA का प्रोवीजन करने के कारण वो घाटे में चले जाते हैं।

Bank Strike in a raw


क्या चाहिए समाजसेवा या लाभ ?


साफ है कि बैंको के घाटे में जाने की असली वजह सरकार की नीतियां और वसूली के लचर कानून है। सरकारी बैंकों का उदेश्य समाज की सेवा करना व सरकारी योजनाओं पर अमल करना है । समाजसेवा के उद्देश्य से सरकार ने निजी बैंकों का राष्ट्रीयकरण किया था।

कोई कार्य समाज के लिए किया जाता उसमे लाभ का उद्देश्य निहित नहीं होता है। सरकारी स्कूल, हॉस्पिटल, पुलिस ,दमकल, आदि विभाग लाभ कमाने के उद्देश्य से नहीं बनाए गए हैं। इन विभागों में उनकी सैलरी से प्रॉफिट का कोई संबंध नहीं है। NPA क्यों बढ़ते जा रहे हैं ये सरकार भी भली भांति जानती समझती है।

सभी बैंक प्रॉफिट में हैं लेकिन लोन बसूली के नियम सख्त न होने से लोग लोन नहीं चुकाते जिन्हें बाद में बट्टे खाते डलवा दिया जाता है ऐसे में बैंक कर्मियों का क्या दोष ? निजी बैंक कर पाते हैं अच्छे से बसूली जबकि सार्वजानिक बैंक समाज सेवा में ही लगे रहते हैं ।

Applying for loan ? If “yes” then Read carefully

January 25, 2020

UFBU replied to IBA Point to Point

UFBU replied to IBA Point to Point

Bank wage revision Bipartite Settlement


After strike call and CLC letter to IBA for meeting on 27 Jan 2020. IBA sent a letter to Unions regarding fair bipartite talks between IBA and Bank unions.

IBAs Letter to Unions

Now it's turn of UFBU to reply in the same way .

Here is the copy of reply from UFBU :

LETTER  No.UFBU/2020/02                                               Date : 24.01.2020

To

Deputy Chief Executive,

Indian Banks’ Association

Mumbai

 

Dear Sir,

 

Reg: Ongoing bipartite negotiations for Wage Revision Settlement

 

Ref:  Our Strike Notice and Your Letter No. 8572 dated 21-01-2020

We are in receipt of your above letter and take due note of the contents.  We wish to clarify our position as under:

 

  1. It is true that so many meetings, rounds of discussions and negotiations have taken place but our core demand i.e. adequate wage increase has not been resolved by the IBA so far.  


 

  1. As early as 12th January, 2016, the Department of Financial Services, Ministry of Finance had advised all the Banks and IBA as under:   


 

“ I am directed to refer to the subject cited above and to request Public Sector Banks to initiate the process of negotiations/next wage revision of the employees and conclude it prior to the effective date i.e. 1.11.2017.”

 

  1. The bipartite talks were commenced by IBA on 2-5-2017 but only on 5.5.2018 i.e. after a period of 12 months, the IBA came forward with their initial offer of 2%.  This is proof enough that the delay has been on the part of IBA.


 

  1. Having regard to unabated inflation, increasing workload on the workforce, relativity issues, etc. we have been demanding and expecting a fair and reasonable  offer from the IBA so that the issue can be clinched amicably. But IBA had its own plan and had improved the offer to 6% in July 2018 and to 8% in November, 2018, to 10% in February, 2019, to 12% in September, 2019 and now to 12.25% in January, 2020. It took 20 months for IBA to improve their offer to this level knowing fully well that when last time the settlement was at 15% and such lesser offers would not be agreed by the Unions.


 

  1. Hence unless IBA can offer some reasonable and acceptable increase, the issue cannot be clinched so easily as IBA expects.


 

  1. Regarding Performance Linked Incentive, we have repeatedly clarified and IBA too has confirmed that the same would be over and above the wage revision increase agreed at a common level for all the Banks.  Now linking it along with the offer on wage revision and giving an impression that the waged revision would be at 12.25% + 2.74% i.e. 14.99% is unfair and hence not proper.


 

  1. Further we have been repeatedly reiterating our demands like adequate additional loading instead of limiting it to 2%, merger of Special Allowance with Basic Pay, 5 Day Banking, defined working hours for officers, updation of pension, etc., but IBA’s standpoint on these issues is totally negative as observed in the recent meeting held on 13-1-2020 also.


 

  1. Even though we are equally eager to resolve the issues and arrive at a mutually acceptable settlement at the earliest, the IBA’s rigid standpoints does not leave any room to do so.


 

  1. Hence, left with no other option, UFBU had to decide to launch agitational programmes and strike action to highlight our just demands.  If there is adequate improvement in the offer and change in the approach of the IBA, we shall certainly consider to review our agitational programmes.


 

Looking forward to the same and thanking you,

 

                                                                                          Yours faithfully,

Sanjeev K Bandlish

(Convenor)

 

XI BIPARTITE SETTLEMENT update 13 Jan 2020

Bank Strike in a raw

 

 

January 22, 2020

Halting Allowance as per 10th Bipartite

Halting Allowance as per 10th Bipartite

Halting Allowance (w.e.f. 1.6.2015) as per 10th Bipartite.


Halting Allownce for bank officers and clerks:


Halting Allowances is payable for outstation duties like Cash Remittance,
Training and other official duties. Apart from Halting Allowance, Travelling
Allowance and Auto Fare wherever necessary shall be paid.


Halting Allowance Bank Clerks:


 





















Places with population of

12 lakhs and

state of Goa
Places with population of

5  lakhs and above

State  of Capitals & Union Territories Rs.
Other Places Rs.
Clerks700600450
Sub Staff500450250

Halting Allowance Bank officers:


Officers shall be entitled to halting allowance (PER DIEM = PER DAY) at the following rates w.e.f. 01.06.2015 when they are deputed to outstation branches.































Grade / Scales of OfficersMetro Rs.Major ‘A’ Class Cities Rs.Area I (Rs.)Other Places Rs.
Officers in Scale VI & above180013001100950
Officers in Scale IV & V above150013001100950
Officers in Scale I/II/III13001100950800

Metro : Chennai, Kolkata , Mumbai & Delhi

GRADE MAJOR “A” : Ahmedabad,Bangalore, Hyderabad,

AREA I (Popln of > 12 lacs) : Agra, Bhopal, Coimbatore, Indore, Jaipur, Kanpur, Kochi, Lucknow, Ludhiana, Madurai, Nagpur, Patna, Pune, Surat, Vadodara, Varanasi etc.

AREA II : Other places

Halting Allownce for bank officers and clerks:


Halting Allowances is payable for outstation duties like Cash Remittance,
Training and other official duties. Apart from Halting Allowance, Travelling
Allowance and Auto Fare wherever necessary shall be paid.

January 19, 2020

राज्य CAA को लागू करने से इनकार नहीं कर सकते

राज्य CAA को लागू करने से इनकार नहीं कर सकते
कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और वकील कपिल सिब्बल ने शनिवार को केरल साहित्य सम्मेलन में कहा कि राज्य संशोधित नागरिकता कानून (CAA) सीएए को संसद से पारित किए जाने के बाद राज्यों के पास इसे लागू करने के अलावा दूसरा कोई विकल्प नहीं है।

राज्य संशोधित नागरिकता कानून(CAA) सीएए को लागू करने से इनकार नहीं कर सकते सिब्बल ने राज्यों के पास किसी केंद्रीय कानून को पारित करने के अलावा कोई विकल्प नहीं की बात कही।

बयान पर स्पष्टीकरण देते हुए सिब्बल ने ट्वीट कर कहा, ‘‘मेरा मानना है कि सीएए असंवैधानिक है और प्रत्येक राज्य विधानसभा के पास इस कानून को वापस लेने की मांग करने वाला प्रस्ताव पारित करने का संवैधानिक अधिकार है लेकिन अगर कभी उच्चतम न्यायालय ने इसे संवैधानिक करार दिया तो इसका विरोध करने वाले राज्यों के लिए यह परेशानी का सबब बनेगा'।

क्या है नागरिकता संशोधन विधेयक

क्या सही है विरोध के नाम पर तोड़फोड़ ?

सावधान कई बैंक हड़ताल आएंगी एक साथ

सावधान कई बैंक हड़ताल आएंगी एक साथ
यूनाइटेड फोरम ऑफ बैंक यूनियन्स (UFBU) ने भारतीय बैंक संघ (IBA) के साथ वेतन बढ़ोतरी पर बातचीत विफल रहने के बाद 31 जनवरी से दो दिन के हड़ताल का आह्वान किया है। बैंक यूनियनों ने 31 जनवरी और 1 फरवरी को हड़ताल बुलाया है ।

आईबीए ने पिछली मीटिंग में अपने पुराने ऑफ़र 12 प्रतिशत को बढ़ाकर 12.25 प्रतिशत बढ़ोतरी की सीमा तय की जो यूनियनों को स्वीकार्य नहीं है' वेतन संशोधन को लेकर पिछली बैठक 13 जनवरी को हुई थी ।

यूनियन सदस्यों ने इसका कड़ा विरोध करते हुए शोशल मीडिया पर चवन्नी भी रख लो जैसे कई पोस्ट किए हैं । बैंकर्स से जुड़े ग्रुपों में आई बी ए का कड़ा विरोध हो रहा है। ऑफर को फनी और बेकार का टाइम पास बताया गया है।

यूएफबीयू जो कि नौ ट्रेड यूनियनों का प्रतिनिधित्व करता है ने कोई नतीजा न निकलने पर 11 मार्च से तीन दिन की हड़ताल की घोषणा की है। कर्मचारी 11-13 मार्च को भी तीन दिन की हड़ताल करेंगे ।

यूएफबीयू के हवाले से कहा गया है कि अगर उसके बावजूद भी उनकी मांगों को नहीं माना गया तो एक अप्रैल, 2020 से बैंक कर्मचारी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले जाएंगे। बैंक यूनियनों की तीन चरण में हड़ताल की योजना है।

Next round of bipartite talks on

UFBU के मुताबिक इंडियन बैंक्स एसोसिएशन के चेयरमैन, वित्त सेवा विभाग के सचिव और श्रम मंत्रालय के मुख्य श्रम आयुक्त को हड़ताल के संदर्भ में पत्र भेजा जा चुका है।

वेतन में संशोधन, बैंकिंग सिस्टम को पांच दिन करने, विशेष भत्ता को मूल वेतन में शामिल करने, नई पेंशन योजना को खत्म करने जैसी कई मांगों के काफी समय से लंबित होने के कारण हड़ताल पर जाने का निर्णय किया गया है।

XI BIPARTITE SETTLEMENT update 13 Jan 2020

इस बार 31 जनवरी को शुक्रवार है, एक फरवरी को शनिवार है और दो फरवरी को रविवार है। ऐसे में आपको वेतन मिलने में देरी हो सकती है।

तीन दिन लगातार बैंक बंद रहने के बाद चेक क्लियर होने में वक्त लग सकता है।

Bank Strike in a raw

Bank Strike in a raw
After discussing the financial offers of IBA amongst the constituents, UFBU expressed its inability to accept the same. Thereafter UFBU meeting was held as scheduled and decisions were taken to launch agitations and Strike actions.

After wage revision talks with the IBA failed, bank employees' unions called for a two-day nationwide bank strike on January 31 and February 1.

UFBU which represents nine trade unions, has announced to hold another three-day strike from March 11-13.

UFBU has also announced that this strike will be followed by an indefinite strike from April 1 if their demands of pay hike are not met.

XI BIPARTITE SETTLEMENT update 13 Jan 2020

Next round of bipartite talks on

STRIKE ACTIONS


Jan.31 and Feb. 1 -- 2 Days Strike
March 11, 12, 13 ---  3 Days Strike
From April 1 onwards Indefinite Strike

important demands.


1. Wage Revision Settlement at 20% hike on Pay slip components with adequate
loading thereof
2. 5 Day Banking
3. Merger of Special Allowance with Basic Pay
4. Scrap New Pension Scheme(NPS)
5. Updation of Pension
6. Improvement in Family Pension
7. Allocation to Staff Welfare Fund based on Operating Profits
8. Exemption from Income Tax on retiral benefits without ceiling
9. Uniform definition of Business Hours, Lunch Hour, etc. in Branches
10. Introduction of Leave Bank
11. Defined Working Hours for Officers
12. Equal wage for equal work for contract employees/Business Correspondents

 

 

January 12, 2020

मकर संक्रान्ति महापर्व

मकर संक्रान्ति महापर्व

मकर संक्रान्ति


पौष मास में जब सूर्य मकर राशि में प्रवेश करता है तभी संक्रांति के इस पावन पर्व को मनाया जाता है। मकर संक्रान्ति पर सूर्य की राशि में हुए परिवर्तन को अंधकार से प्रकाश की ओर कदम के रूप में माना जाता है। यह त्योहार जनवरी महीने में चौदहवें या पन्द्रहवें दिन ही पड़ता है।  इस दिन सूर्य धनु राशि को छोड़ मकर राशि में प्रवेश करता है ।

भारत उत्तरी गोलार्ध में स्थित है और मकर संक्रान्ति से पहले सूर्य दक्षिणी गोलार्ध में होता है। मकर संक्रान्ति से सूर्य उत्तरी गोलार्द्ध की ओर आना शुरू हो जाता है और दिन का बड़ा होना व प्रकाश का अधिक समय तक रहना शुरू हो जाता है दिन धीरे धीरे बड़े होने शुरू हो जाते हैं। इस बजह से लोगों द्वारा सूर्यदेव की उपासना, आराधना एवं पूजन किया जाता है।

मकर संक्रांति कब और क्यों


हर बार की तरह इस बार भी मकर संक्रांति की सही तारीख को लेकर उलझन की स्थिति बनी हुई है कि मकर संक्रांति का त्योहार इस बार 14 जनवरी को मनाया जाएगा या 15 जनवरी को। ज्योतिषीय गणनाओं के अनुसार इस वर्ष 15 जनवरी को मकर संक्रांति का त्योहार मनाना चाहिए।

मकर संक्रांति के दिन सूर्य धनु राशि से मकर राशि में प्रवेश करता है। हिन्दू पंचांग और धर्म शास्त्रों के अनुसार सूर्य का मकर राशी में प्रवेश 14 की शाम को हो रहा हैं। शास्त्रों के अनुसार रात में संक्रांति नहीं मनाते तो अगले दिन सूर्योदय के बाद ही उत्सव मनाया जाना चाहिए। इसलिए मकर संक्रांति 14 की जगह 15 जनवरी को मनाई जाने लगी है। अधिकतर 14 जनवरी को मनाया जाने वाला मकर संक्रांति का त्यौहार इस वर्ष भी 15 जनवरी को मनाया जाएगा।

कैसे मनाते है संक्रांति त्यौहार


स्नान पर्व के रूप में


मकर संक्रान्ति के अवसर पर गंगास्नान एवं गंगातट पर दान को अत्यन्त शुभ माना गया है। संक्रांति के दिन तीर्थराज प्रयाग एवं गंगासागर में स्नान को महास्नान की संज्ञा दी गयी है। मकर संक्रांति के दिन गंगा सागर का स्नान इतना महत्वपूर्ण माना जाता है कि लोग देश के कौने कौने  से गंगा सागर स्नान करने जाते हैं।

गंगा, प्रयागराज संगम समेत नदी, सरोवर, कुंड आदि में स्नान के साथ सूर्य को अर्घय देने और दान का विशेष महत्व है। नदियों के संगम पर लाखों की संख्या में नहाने के लिये जाते हैं। स्नानोपरांत सूर्य सहस्त्रनाम, सूर्य चालीसा, सूर्य मंत्र उच्चारण कर सूर्य की पूजा की जाती है। साथ ही गुड़, तिल, कंबल, खिचड़ी, चावल आदि पुरोहितों या गरीबों को दान करते हैं।

इस पर्व पर गंगा एवं रामगंगा घाटों पर बड़े-बड़े मेले लगते है। माघ मेले का पहला स्नान मकर संक्रान्ति से शुरू होकर शिवरात्रि के आख़िरी स्नान तक चलता है।

दान पुण्य का उत्सव


इस अवसर पर महिलाएँ किसी भी सौभाग्यसूचक वस्तु का चौदह की संख्या में पूजन एवं संकल्प कर चौदह लोगों को दान कर देती हैं। इस संकल्प प्रक्रिया को उत्तर भारत में छिरका छांटा के नाम से भी पुकारा जाता है । विभिन्न प्रकार की खाध्य सामग्री , उपयोग की वस्तुएं , सर्दी के कपड़े अथवा कम्बल , शाल इत्यादि 14 की संख्या में दान की जाती हैं।

कुछ लोग तीर्थस्थल में स्नान करके दान-धर्मादि करते हैं और तिल, घी, शर्करा और कन्दमूल खाकर धूमधाम से त्यौहार मनाते हैं। इस दिन उड़द, चावल, तिल, चिवड़ा, ऊनी वस्त्र, कम्बल आदि दान करने का बहुत महत्व है।

पतंग महोत्सव पर्व


संक्रांति का यह पर्व 'पतंग महोत्सव' के लिए भी प्रसिद्ध है। इस दिन लोग छतों पर खड़े होकर पतंग उड़ाते हैं। पतंग महोत्सव का आयोजन भी कई शहरों में विधिवत किया जाता है । विभिन्न जगहों के पतंगबाज प्रतिस्पर्धाओं का हिस्सा बनते हैं । लोग भी इन समारोहों में सम्मिलित हो हर्ष महसूस कर लुत्फ़ उठाते हैं ।

किसानों का त्यौहार


मकर संक्रान्ति के दिन किसान फसल अच्छी हो इसके लिए भगवान को प्रशन्न करने हेतु विभिन्न प्रकार से दान पुण्य आदि करते हैं प्रभु की अनुकम्पा सदैव लोगों पर बनाये रखने का आशीर्वाद माँगते हैं। इसलिए मकर संक्रान्ति के त्यौहार को फसलों एवं किसानों के त्यौहार के नाम से भी जाना जाता है मकर संक्रांति के दिन बहुत से लोग उपवास भी करते हैं।

संक्रांति के अनेक रूप


खिचड़ी  के नाम से प्रसिद्ध


उत्तर भारत में कई जगह संक्रांति के इस पावन त्यौहार को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है तथा इस दिन खिचड़ी खाने एवं खिचड़ी दान देने का अत्यधिक महत्व होता है। यहाँ तक कि इस दिन खिचड़ी दान भी की जाती है । व कई जगह खिचड़ी बनाकर प्रसाद के रूप में वितरण भी किया जाता हाई ।

लोहड़ी के रूप में


हरियाणा और पंजाब में इसे लोहड़ी के रूप में एक दिन पहले 13 जनवरी को मनाया जाता है। आग जलाकर  तिल, गुड़, आदि जिसे तिलचौली कहते है से पूजा करते हैं। मूंगफली, तिल की बनी हुई गजक और रेवड़ियाँ बाँटकर खुशियाँ मनाते हैं।

पोंगल के रूप में


तमिलनाडु में इस त्योहार को पोंगल के रूप में मनाते हैं। पोंगल मनाने के लिये स्नान करके खुले आँगन में मिट्टी के बर्तन में खीर बनायी जाती है जिसे पोंगल कहते हैं। इसके बाद सूर्य देव को प्रसाद चढ़ाया जाता है। उसके बाद खीर का प्रसाद वितरण होता हैं

उत्तरायण के नाम से


मकर संक्रांति को उत्तरायण के नाम से भी जाना जाता है, इस दिन सूर्य उत्तरी गोलार्ध की और आने शुरू हो जाता है। संक्रांति पर काले तिल की बहुत मान्यता है बताया जाता है कि जब सूर्य देव शनि देव से मिलने गए थे तब उनके पास केवल काले तिल ही बचे थे । सूर्य देव ने काले तिल ही उन्हें अर्पण किये थे।

January 10, 2020

राष्ट्रीय युवा दिवस

राष्ट्रीय युवा दिवस

राष्ट्रीय युवा दिवस कब मनाते हैं ?


राष्ट्रीय युवा दिवस हर वर्ष 12 जनवरी को भारत में पूरे उत्साह और खुशी के साथ मनाया जाता है। इसे स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को याद करने के लिये मनाया जाता है।

स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में मनाने के लिये वर्ष 1984 में भारतीय सरकार द्वारा फैसला किया गया। तब से पूरे देश 12 जनवरी राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में मनाने की शुरुआत हुई।

स्वामी विवेकानंद एक महान इंसान थे जो देश की ऐतिहासिक परंपरा को बनाने रखने और देश का नेतृत्व करने के लिये युवा शक्ति पर विश्वास करते थे ।

राष्ट्रीय युवा दिवस का उद्देश्य


भारत के युवाओं को प्रेरित करने और बढ़ावा देने के लिये हर वर्ष राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। स्वामी विवेकानंद मानते थे कि युवा देश के महत्वपूर्णं अंग हैं जो देश को आगे बढ़ाता है। वे युवाओं के लिए प्रेरणा श्रोत हैं उनके कहे कई शब्द आज भी युवाओं में जोश भरते हैं ।

“महसूस करो कि तुम महान हो और तुम महान बन जाओगें।” – स्वामी विवेकानंद
“उठो, जागो और जब तक मत रुको तब तक लक्ष्य की प्राप्ति न हो। ”– स्वामी विवेकानंद

स्वामी विवेकानंद के विचार, दर्शन और अध्यापन भारत की महान सांस्कृतिक और पारंपरिक संपत्ति हैं। स्वामी विवेकानंद के विचारों और जीवन शैली के द्वारा युवाओं को प्रोत्साहित करने के द्वारा देश के भविष्य को बेहतर बनाने के लक्ष्य को पूरा करने के लिये राष्ट्रीय युवा दिवस के रुप में स्वामी विवेकानंद के जन्म दिवस को मनाने का फैसला किया गया था।

राष्ट्रीय युवा दिवस मनाने का मुख्य लक्ष्य भारत के युवाओं के बीच स्वामी विवेकानंद के आदर्शों और विचारों के महत्व को फैलाना है। समाज सुधारक, विचारक स्वामी विवेकानंद के महान विचारों के प्रति जागरूकता फैलाना है।

स्वामी विवेकानंद के दर्शन, सिद्धांत, अलौकिक विचार और आदर्श युवाओं में नई शक्ति और ऊर्जा का संचार कर सकते हैं। किसी भी देश के युवा उसका भविष्य होते हैं। आज के पारिदृश्य में देश की युवा शक्ति को जागृत करना और उन्हें देश के प्रति कर्तव्यों का बोध कराना अत्यंत आवश्यक है।

कैसे मनाते हैं 


प्रतिवर्ष 12 जनवरी को राष्ट्रीय युवा दिवस मनाया जाता है। इस मौके पर भारतीय युवाओं को प्रेरित करने के लिये छात्रों द्वारा स्वामी विवेकानंद के विचारों से संबंधित निबंध और लेखन आयोजित किया जाता है ।

इस दिवस का उद्देश्य विवेकानंद की शिक्षाओं एवं आदर्शों को भारतीय युवाओं के लिए रोल मॉडल के रूप में पेश किया जाना है इसलिए उनसे संबंधित वाद विवाद प्रतियोगिता आदि भी होती हैं ।

स्वामी विवेकानंद के जीवन, कार्य शैली, चेतना और आदर्श से सम्बंधित बातें युवाओ के साथ साझा की जाती हैं उनसे सम्बंधित व्याख्यान होते हैं ताकि वे उनसे प्रेरणा ले सकें।

इस दिन देश भर के विध्यालयों में विभिन्न प्रकार के कार्यक्रम होते हैं रैलियाँ निकाली जाती हैं प्रतिस्पर्धा जैसे सेमिनार, निबंध-लेखन आयोजित की जाती है प्रदर्शनी आदि लगती है।

स्वामी विवेकानंद के बारे में:


स्वामी विवेकानन्द का जन्म 12 जनवरी 1863 को कोलकाता में हुआ था । उनका वास्तविक नाम नरेन्द्र नाथ दत्त था और वे रामकृष्ण परमहंस के शिष्य थे ।

उन्हें भारत में हिन्दू धर्म के पुनर्जागरण व राष्ट्रवाद का प्रणेता माना जाता है। वे वेदान्त के विख्यात और प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु थे। उन्होंने 1893 में अमेरिका के शिकागो में विश्व धर्म संसद में ऐतिहासिक भाषण दिया था और विश्व से हिन्दू धर्म का परिचय करवाया था।

स्वामी विवेकानंद को उनके प्राचीन हिन्दू दर्शन के ज्ञान, अकाट्य तर्क तथा वैज्ञानिक दृष्टिकोण के लिए जाना जाता है। स्वामी विवेकानंद का निधन 4 जुलाई, 1902 को हुआ था।

January 08, 2020

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस कब क्यों कैसे

अंतर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस कब क्यों कैसे

विश्व हिन्दी दिवस
(International Hindi Day)


 

हिंदी विश्व की सबसे ज्‍यादा तादाद में बोली जाने वाली भाषाओं में से एक है। हिन्दी बोलने एवं समझने वाली जनता कई करोड़ है। यह भाषा है हमारे सम्मान, स्वाभिमान और गर्व की। हिन्दी ने हमें विश्व में एक नई पहचान दिलाई है।

भारत के पूर्व प्रधानमन्त्री मनमोहन सिंह ने 10 जनवरी को प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस (International Hindi Day) के रूप मनाये जाने की घोषणा की थी । उसके बाद से प्रति वर्ष विश्व हिन्दी दिवस (International Hindi Day) 10 जनवरी को मनाया जाता है। भारतीय विदेश मंत्रालय ने विदेश में 10 जनवरी 2006 को पहली बार विश्व हिन्दी दिवस मनाया था।

 

10 जनवरी को क्यों ?


विश्व हिंदी दिवस 10 जनवरी को घोषित करने की वजह है कि प्रथम विश्व हिन्दी सम्मेलन 10 जनवरी 1975  को नागपुर में आयोजित हुआ था 10 जनवरी 2006 को पहली बार विश्व हिन्दी दिवस मनाया गया।

 

भारत में 14 सितंबर 1949 को हिंदी को देश की राजभाषा बनाया गया देश में 14 सितंबर को ही राष्ट्रीय हिंदी दिवस मनाया जाता है लेकिन विश्व में हिंदी को मान सम्मान और प्रमुख दर्जा दिलवाने के लिए उसका प्रसार अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर जरुरी है अतः अंतर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस (International Hindi Day) मनाने की शुरुआत हुई।

देश के सभी कार्यालयों में हिंदी में काम के अलावा विश्व में हिन्दी का विकास करने और इसे प्रचारित-प्रसारित करने के उद्देश्य से विश्व हिन्दी सम्मेलनो की शुरुआत की गई ।

विश्व हिन्दी दिवस का उद्देश्य


विश्व हिन्दी दिवस का उद्देश्य विश्व में हिन्दी के प्रचार-प्रसार के लिये जागरूकता पैदा करना, हिन्दी को अन्तराष्ट्रीय भाषा के रूप में पेश करना, हिन्दी के लिए वातावरण निर्मित करना, हिन्दी के प्रति अनुराग पैदा करना, हिन्दी की दशा के लिए जागरूकता पैदा करना तथा हिन्दी को विश्व भाषा के रूप में प्रस्तुत करना है विश्व हिन्दी दिवस ।

विदेशों में भारत के दूतावास इस दिन को विशेष रूप से मनाते हैं। सभी सरकारी कार्यालयों में विभिन्न विषयों पर हिन्दी में व्याख्यान आयोजित किये जाते हैं।

वर्ष 2006 के बाद से अंतर्राष्ट्रीय हिंदी दिवस (International Hindi Day) को बड़ी ही धूमधाम से मनाया जाने लगा है। इस दिन कई कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। विदेशों में भारतीय दूतावास विश्व हिन्दी दिवस को विशेष आयोजन करते हैं। सभी सरकारी कार्यालयों में विभिन्न विषयों पर हिन्दी के लिए अनूठे कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं। विदेशों में मौजूद भारतीय दूतावासों में इस दिन को सेलिब्रेट किया जाता है।

भारत में केंद्र सरकार, राज्य सरकारों के विभिन्न विभागों में हिंदी भाषा में काम करना अनिवार्य है। अतः विभिन्न विभागों और इकाइयों में हिंदी अधिकारी, हिंदी अनुवादक, हिंदी सहायक, प्रबंधक जैसे पद बनाए गए है।

संसार की भाषाओं में हिंदी सबसे अधिक व्यवस्थित और सरल भाषा है। हिन्दी का साहित्य सभी दृष्टियों से समृद्ध है। हिन्दी भारत में आम जनता से जुड़ी भाषा है तथा आम जनता हिन्दी से जुड़ी हुई है। हिन्दी के विकास में विभिन्न रचनाकारों का महत्वपूर्ण योगदान रहा है।

उत्तर भारत के राज्य उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड, उत्तराखण्ड, मध्य-प्रदेश, राजस्थान, छत्तीसगढ़, हिमाचल प्रदेश, हरियाणा और दिल्ली राज्यों की प्रमुख भाषा है।

 

प्रवासी भारतीय दिवस व सम्मान 9 जनवरी

प्रवासी भारतीय दिवस व सम्मान 9 जनवरी

प्रवासी भारतीय द‍िवस


NRI (Non-Resident Indian) Day


यह दिवस भारत सरकार द्वारा प्रतिवर्ष 9 जनवरी को मनाया जाता है। जिसका का मकसद भारत के विकास में प्रवासी भारतीयों के योगदान को पहचान द‍िलाने से है।

जो लोग भारत छोड़कर विश्व के दूसरे देशों में जा बसे हैं उन्हे प्रवासी भारतीय कहते हैं । ये विश्व के अनेक देशों में फैले हुए हैं। 48 देशों में रह रहे प्रवासियों की जनसंख्या करीब 2 करोड़ है।

दुनिया भर में बसे प्रवासियों से नाता जोड़ने के लिए प्रवासी भारतीय दिवस की शुरुआत 2003 में पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी ने की थी।

प्रवासी भारतीय दिवस इसलिए भी मनाया जाता है कि राष्ट्रपिता महात्‍मा गांधी इसी दिन 9 जनवरी 1915 को दक्षिण अफ्रीका से स्‍वदेश वापस लौटे थे।

महात्‍मा गांधी  को सबसे बड़ा प्रवासी माना जाता है जिन्‍होंने भारत के स्‍वतंत्रता संग्राम का नेतृत्‍व किया और भारतीयों को आजादी दिलवाई ।

इस दिवस को मनाने की शुरुवात सन 2003 से हुई थी। प्रवासी भारतीय दिवस मनाने की संकल्पना स्वर्गीय लक्ष्मी मल सिंघवी के दिमाग की उपज थी।

प्रवासी भारतीय सम्मेलन


इस अवसर पर प्रायः तीन दिवसीय कार्यक्रम आयोजित किया जाता है। इस सम्‍मेलन में विदेश में रह रहे उन भारतीयों को आमंत्र‍ित कर सम्‍मान‍ित किया जाता है जिन्‍होंने अपने-अपने क्षेत्र में व‍िशेष उपलब्‍धि हासिल कर भारत का नाम व‍िश्‍व पटल पर गौरवान्‍वित किया हो ।

इस सम्मेलन में कई बड़े-बड़े उद्योगपति और कई भारतीय नेता भी सम्मिलित होते हैं । यह आयोजन भारतवंशियों से सम्बन्धित विषयों और उनकी समस्यायों के चर्चा का मंच भी है।

प्रवासी भारतीय सम्मान


यह भारत के प्रवासी भारतीय के मामलों का मंत्रालय द्वारा स्थापित एक पुरस्कार है जो प्रतिवर्ष प्रवासी भारतीय दिवस के अवसर पर भारत के राष्ट्रपति द्वारा प्रदान किया जाता है।

प्रवासी भारतीयों को उनके अपने क्षेत्र में किये गये असाधारण योगदान के लिये प्रवासी भारतीय सम्मेलन में आमंत्रित किया जाता है तथा उन्हे प्रवासी भारतीय सम्मान प्रदान किया जाता है।

देश का नाम रौशन करने वाले प्रवासी भारतीय लोगों को राष्‍ट्रपति के हाथों प्रवासी भारतीय सम्‍मान से नवाजा जाता है।

महती भूमिका में है प्रवासी भारतीय


प्रवासी भारतीय विदेशों में भी प्रतिनिधित्व करते हैं और वहां की आर्थिक व राजनीतिक दशा व दिशा को तय करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

जहां-जहां प्रवासी भारतीय बसे हैं वहां वहां उन्होंने आर्थिक तंत्र को मजबूती प्रदान की है । व्यापारी, शिक्षक, विभिन्न सेवाओं, अनुसंधानकर्ता, डाक्टर, वकील, इंजीनियर, आदि के रूप में दुनियाभर में भारत के लोग फैले हुए हैं ।

प्रवासी भारतीयों की सफलता के कारण भी आज भारत आर्थिक विश्व में आर्थिक महाशक्ति के रूप में उभर रहा है।

प्रवासी भारतीय दिवस का उद्देश्‍य


अप्रवासी भारतीयों की भारत के प्रति सोच, भावना की अभिव्यक्ति, देशवासियों के साथ सकारात्मक बातचीत के लिए एक मंच उपलब्ध कराना।

विश्व के सभी देशों में अप्रवासी भारतीयों का एक नेटवर्क बनाना।

भारत की युवा पीढ़ी को अप्रवासियों से जोड़ना

विदेशों में रह रहे भारतीय श्रमजीवियों को विदेश में किस तरह की कठिनाइयों का सामना करना होता है, के बारे में विचार-विमर्श करना।

भारत के प्रति अनिवासियों को आकर्षित करना। निवेश के अवसर को बढ़ाना

भारतवासियों को अप्रवासी बंधुओं की उपलब्धियों के बारे में बताना तथा अप्रवासियों को देशवासियों की उनसे अपेक्षाओं से अवगत कराना।

भारत का दूसरे देशों से बनने वाले मधुर संबंध में अप्रवासियों की भूमिका के बारे में आम लोगों को बताना।

January 07, 2020

Bank Strike on 08 Jan 2020

Bank Strike on 08 Jan 2020
दस केंद्रीय ट्रेड यूनियनों ने नरेंद्र मोदी सरकार की आर्थिक नीतियों के विरोध में 8 जनवरी को 'भारत बंद'  का ऐलान किया है। इसको लेकर बैंक कर्मचारियों ने हड़ताल पर जाने का फैसला किया।

बैंकों की हड़ताल की वजह से खासा असर देखने को मिला है लगभग सभी बैंक शाखाओं में काम काज प्रभावित रहा ।

कई जगह एटीएम भी जबाब दे गए क्योंकि एटीएम में पैसा लोड नहीं हो सका ।

Central traders unions and bank unions have announced a nationwide strike in order to protest against the 'anti-national' and 'anti-people' policies of the government.

Trade unions have raised multiple issues related to PSU mergers, disinvestment, which they claim will affect their livelihood.

Six bank unions have decided to participate in this strike on 08th January 2020. The bank workers are protesting against the merger of public sector banks.

 

आई बी ए के अनुसार ऑल इंडिया बैंक एम्पलाइज एसोसिएशन (AIBEA), बैंक एम्पलॉइज फेडरेशन ऑफ इंडिया (BEFI), इंडियन नेशनल बैंक एम्पलॉइज फेडरेशन (INBEF) और इंडियन नेशनल बैंक ऑफिसर्स कांग्रेस (INBOC) से प्रस्तावित एक दिवसीय आम हड़ताल के संबंध में नोटिस मिले हैं।

Strike on 8th January 2020 called by All India Bank Employees’ Association (AIBEA), All India Bank Officers Association (AIBOA), Bank Employees Federation of India (BEFI), Indian National Bank Employees Federation (INBEF) and Indian National Bank Officers Congress (INBOC)

The Indian Bank's Association (lBA) has advised that bank employee unions AIBEA, AIBOA, BEFI, INBEF, INBOC and BKSM have given a notice to go on a nationwide strike on January 8, 2020.

January 03, 2020

जायफल Nutmeg है सर्दियों में फायदेमंद

जायफल Nutmeg है सर्दियों में फायदेमंद

What is Nutmeg ?


नटमेग क्या है ?







Nutmeg in hindi हिंदी में nutmeg ko जायफल कहते हैं , इसे कई जगह जातीफल भी कहा जाता है| या कह सकते हैं कि जायफल को अंग्रेजी में नटमेग (Nutmeg) कहा जाता है।

जायफल एक मसाला है, जो जायफल के पेड़ जिसका वैज्ञानिक नाम मिरिस्टिका फ्रेग्रेंस है उससे मिलता है। जायफल के पेड़ से दो मसाले मिलते हैं जायफल और जावित्री।

मिरिस्टिका के बीज को जायफल कहा जाता है। और यह बीज जिस बीजोपांग से ढका होता है उसे जावित्री कहते हैं।

जायफल दिखने में छोटा और सुपारी की तरह होता है, जिसमें हल्के लाल या पीले रंग का गूदा होता है। पकने पर इसके अंदर सिंदूरी रंग का बीजोपांग जिसे जावित्री कहते हैं मिलता है । जावित्री के अंदर एक गुठली होती है जिसके अंदर जायफल (nutmeg) मिलता है।

पुराने लोग इससे बहुत अच्छी तरह जानते हैं कि जायफल और जावित्री दोनों मसाले बहुत अहमियत रखते हैं । इसका प्रयोग सिर्फ जायके के लिए ही नहीं बल्कि एक औषधि के रूप में भी किया जाता है।

जायफल की तासीर गर्म होती है। इसलिए इसका सेवन हमेशा सर्दियों में और बेहद ही कम मात्रा में किया जाता है। आमतौर पर जायफल को घिसकर उपयोग में लाया जाता है।

जायफल के पत्ते से मिलनेवाले एसेंशियल ऑयल भी अलग से बिक्री किया जाता है जो सेहत के लिए भी काफी अच्छा होता है।

जायफल में प्रचुर मात्रा में सोडियम,पोटेशियम, कार्बोहाइड्रेट, प्रोटीन, कैल्शियम, आयरन, शर्कराविटामिन, मिनरल , एसेंशियल ऑयल , फाइबर, मैंगनीज, विटामिन B6, मैग्नीशियम, आदि मौजूद है|

समस्या चाहे पेट की हो त्वचा से संबंधित हो या सेहत से, जायफल में हर चीज के लिए पोषक तत्व हैं जो इन सभी समस्याओं का समाधान करते है।

भारत में दक्षिण के केरल में यह बृक्ष मिलता है । इंडोनेशिया जायफल का सबसे बड़ा उत्पादक देश है। अन्य कई देशों में जायफल के पेड़ मिलते हैं ।

तो आइए जानते हैं जायफल के अद्भुत फायदों के बारे में ...


जायफल के फायदे Benefits Of Nutmeg


जायफल त्वचा की रंगत निखारने , अनिद्रा, दर्द से राहत , खाना हजम करने में , मस्तिष्क के लिए और कई गंभीर बीमारियों में अचूक दवा का काम करता है ।

सर्दी जुकाम में


सर्दी के मौसम में बच्चों को सर्दी-जुकाम से की समस्या होने पर जायफल को घिसकर बच्चों को दिया जाता है । इसके तेल से मालिश करने से लाभ मिलता है ।

कील-मुंहासों के लिए


जायफल में एंटीबैक्टीरियल, एंटीफंगल गुण होते हैं, जो कील-मुंहासों को कम करने में मदद कर सकते हैं । कील-मुहांसों के लिए जायफल का फेस पैक के तौर पर इस्तेमाल कर सकते हैं ।
बढ़ती उम्र में झुर्रियां होना आम बात है जिन्हें हम रिंकल कहते हैं यह कम उम्र में भी हो सकती है। जायफल का पैक रिंकल्स को भी कम कर सकता है ।

जायफल को दूध में घिसकर रोजाना चेहरे पर लगाने से कील मुंहासों में फायदे के साथ ही त्वचा में रंगत और निखार लाता है।

अनिद्रा के लिए


जायफल शरीर में रक्त संचरण को दुरुस्त रखने के साथ एंटी डिप्रेसेंट की तरह काम करता है।

नींद ना आने की समस्या के लिए भी जायफल असरदार हो सकता है क्योंकि यह हमारे दिमाग को शांत करने में मदद करता है जिससे नींद आने में भी आसानी होती है|

अगर आप रात में नींद न आने की बीमारी से परेशान रहते हैं या रात में बार-बार नींद टूटती है, तो ऐसे में आप गर्म दूध में एक चुटकी जायफल पाउडर का सेवन करें।

मस्तिष्क के लिए –


जायफल में विटामिन ए, बी, सी भरपूर मात्रा में पाएं जाते हैं। इसलिए सर्दियों में जायफल का बेहद ही कम मात्रा में नियमित सेवन करने से इम्यून सिस्टम मजबूत होता है।

जायफल मस्तिष्क और मानसिक रोगों से जुड़ी समस्याओं में बेहद फायदेमंद होता है।

जायफल में रहनेवाले एसेंशियल ऑयल हमारे दिमाग को मजबूत बनाते हैं याददास्त बढ़ता है और ब्रेन पावर को भी इम्प्रूव करता है।

दर्द में काम आता है -


यह एक अच्छी और दर्द निबारक के रूप में काम करता है|
जोड़ों में दर्द या सूजन आने पर जायफल का तेल लगाने से लाभ मिलता है। अगर आप जायफल अपने खाने में इस्तेमाल करते है तो उससे दर्द की समस्या कम हो जाती है|

खाना हजम करने में सहायक -


यह एक प्राकृतिक मसाला है और इसके भीतर रहनेवाले तेल खाना हजम करने में मदद करता है । गैस्ट्रिक की समस्या में भी यह एक असरदार दवा के रूप में काम करता है|

जायफल का सेवन पेट की समस्याओं जैसे – डायरिया व एसिडिटी को ठीक करता है। इससे पाचन शक्ति यानी डाइजेशन की प्रक्रिया में भी सुधार होता है ।

सेक्स में


जायफल का सेवन करने से सेक्स क्षमता यानि Sex Power में बढ़ोत्तरी होती है। यौन समस्याओं में जायफल का उपयोग किया जाता है।

पेट दर्द में


अगर आपके पेट में दर्द या गैस की समस्या रहती है तो ऐसे में बताशे में जायफल के तेल की कुछ बूंदों का सेवन करने से लाभ मिलता है। जायफल का उपयोग दर्द व ऐंठन की समस्या के लिए भी किया जा सकता है।


जोड़ो के दर्द कम करने के लिए


जोड़ों और मांसपेशियों के दर्दके लिए जायफल में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट, एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण दर्द से राहत दिला सकते हैं । जायफल का तेल मांसपेशियों या जोड़ों के दर्द के लिए उपयोग कर सकते हैं।

दांतों के लिए जायफल


दांत खराब होने और उनमें कैविटी होने की स्थिति में जायफल काफी फायदेमंद हो सकता है। जायफल एंटी-बैक्टीरियल गुणों से भरपूर है जायफल युक्त टूथपेस्ट या पाउडर दांतों के लिए वरदान साबित हो सकता है।

जायफल के नुकसान


जायफल को तासीर गर्म होने के कारण यह ज्यादा मात्रा में दिल की धड़कन, मितली,उल्टी, व दिमाग का चढ़ना आदि पैदा कर सकता है । किसी भी बीमारी में मात्र कोई भी आर्टिकल पढ़ लेने से इस्तेमाल न करें । यदि डॉक्टर की दवा चल रही है तो उनसे सलाह अवश्य लें । जानकारी ही बचाव है आयुर्वेद के जानकार भी सही उपयोग बता सकते है।

 

January 02, 2020

सावित्रीबाई फुले Savitribai Phule

सावित्रीबाई फुले Savitribai Phule

सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule)


वो महिला जो भारत के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रिंसिपल और पहले किसान स्कूल की संस्थापक बनीं ।

ज्योतिराव, जो बाद में ज्योतिबा के नाम से जाने गए सावित्रीबाई के संरक्षक, गुरु और समर्थक थे। महात्मा ज्योतिबा को महाराष्ट्र और भारत में सामाजिक सुधार आंदोलन में एक सबसे महत्त्वपूर्ण व्यक्ति के रूप में माना जाता है। उनको महिलाओं और दलित जातियों को शिक्षित करने के प्रयासों के लिए जाना जाता है।

सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) का जीवन एक मिशन की तरह रहा जिसका मुख्य उद्देश्य था महिला शशक्तिकरण । महिलाओं के अधिकारों की लड़ाई , उनकी शिक्षा के प्रति सजगता यही उद्देश्य रहा उनके जीवन का ।

विधवा विवाह करवाना, छुआछूत मिटाना, महिलाओं की मुक्ति और दलित महिलाओं को शिक्षित बनाना ये सारे कार्य करने की तत्परता थी सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) के अंदर ।

सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) का जन्म 3 जनवरी 1831 को खन्दोजी नेवसे के घर महाराष्ट्र स्थित सतारा के नायगांव में हुआ था । उनकी माता का नाम लक्ष्मी था। सावित्रीबाई फुले का विवाह 1840 में ज्योतिबा फुले से हुआ था।

वे एक कवियत्री भी थीं उन्हें मराठी की आदिकवियत्री के रूप में भी जाना जाता था।

सावित्रीबाई फुले ने कन्या शिशु हत्या को रोकने के न सिर्फ अभियान चलाया बल्कि नवजात कन्या शिशु की रक्षा के लिए आश्रम भी खोले।

भारत में पहली महिला शिक्षिका बन महिला सशक्तिकरण की मिसाल कायम करने वाली सावित्रीबाई फुले (Savitribai Phule) की जयंती हर साल 3 जनवरी को मनाई जाती है ।

सावित्रीबाई फुले को  देश के पहले बालिका विद्यालय की पहली प्रधानाचार्या बनने और पहले किसान स्कूल की स्थापना करने का श्रेय जाता है ।

उन्होंने महिलाओं की शिक्षा और उनके अधिकारों की लड़ाई में महत्वपूर्ण योगदान दिया । भारत जैसे पुरुष प्रधान देश मे उस समय महिलाओं का पढ़ना अच्छा नहीं माना जाता था ।

तब आज से लगभग डेढ़ सौ साल पहले सावित्रीबाई फुले ने महिलाओं को पुरुषों के ही सामान अधिकार दिलाने की मुहिम छेड़ी ।

सावित्रीबाई ने कन्या शिशु हत्या को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाए विभिन्न प्रकार से अभियान चलाया, नवजात कन्या शिशु आश्रम खोले ।

सावित्रीबाई फुले के सामने आईं मुश्किलें


लगभग 150 साल पहले बालिकाओं के लिये स्कूल खोलना पाप का काम माना जाता था ऐसे में उनके द्वारा बालिका विद्यालय खोलने पर उनको कई मुसीबतें झेलनी पड़ीं ।

3 जनवरी 1848 में पुणे में अपने पति के साथ मिलकर विभिन्न जातियों की नौ छात्राओं के साथ उन्होंने महिलोओ के लिए एक विद्यालय की स्थापना की।

जब सावित्रीबाई कन्याओं को पढ़ाने के लिए स्कूल जाती थीं तो विरोधी लोग जन पर पत्थर मारते थे। उन पर गंदगी फेंक देते थे। रास्ते में लोग उन पर कीचड़, गोबर, विष्ठा तक फैंका करते थे।

फिर भी इतनी सामाजिक मुश्किलों में उन्होंने हिम्मत नहीं हारी और विद्यालय खोला भी और चलाया भी । सावित्रीबाई एक साड़ी अपने थैले में लेकर चलती थीं और स्कूल पहुँच कर गंदी कर दी गई साड़ी बदल लेती थीं।

सावित्रीबाई पूरे देश की महानायिका हैं। हर बिरादरी और धर्म के लिये उन्होंने काम किया। अपने पथ पर चलते रहने की प्रेरणा बहुत अच्छे से देती हैं।

एक वर्ष में सावित्रीबाई और महात्मा फुले पाँच नये विद्यालय खोलने में सफल हुए। तत्कालीन सरकार ने इन्हे सम्मानित भी किया।

लड़कियों की शिक्षा पर उस समय सामाजिक पाबंदी थी। सावित्रीबाई फुले उस दौर में न सिर्फ खुद पढ़ीं बल्कि पुणे शहर में दूसरी लड़कियों के पढ़ने का भी बंदोबस्त किया।

प्लेग महामारी में सावित्रीबाई प्लेग के मरीज़ों की सेवा करती थीं। एक प्लेग के छूत से प्रभावित बच्चे की सेवा करने के कारण इनको भी छूत लग गया।

10 मार्च 1897 को प्लेग के कारण सावित्रीबाई फुले का निधन हो गया।

January 01, 2020

Important Days and Dates in the Month of January

Important Days and Dates in the Month of January

Important Days and Dates in the Month of January


January 1: Global Family Day


January 4: World Braille Day


January 9: NRI Day (Pravasi Bhartiya Diwas)


January 10: World Hindi Day


January 12: National Youth Day,


January 13: Lohri


January 14 or 15: Makar Sankranti (As per Hindu Calander)


January 15: Army day


January 23: Netaji Subash Chandra Bose Jayanti


January 25: National Voters day, National Tourism Day


January 26: India’s Republic Day, International Customs Day


January 27: International Day of Commemoration


January 30: Martyrs’ Day