March 31, 2019

राहत की खबर

राहत की खबर
पैन कार्ड को आधार से लिंक करना आवश्यक है जिसकी अंतिम तिथि 31 मार्च 2019 निश्चित थी ।

लेकिनअब तक जिन लोगों ने पैन कार्ड को आधार से लिंक नहीं कराया है, उन्हें सरकार ने बड़ी राहत दे दी है।

सरकार ने पैन को आधार से लिंक कराने की डेडलाइन में 6 महीने का इजाफा और कर दिया ।

अब पैन-आधार लिंकिंग की नई डेडलाइन 30 सितंबर 2019 कर दी गई है।

सीबीडीटी ने कहा कि खबरें सामने आ रही थीं कि जो भी पैन को 31 मार्च तक आधार नंबर से लिंक नहीं किया गया है, उन्हें अमान्य किया जा सकता है।

इसके बाद सरकार की ओर से इस मामले पर विचार किया गया और तारीख 30 सितंबर 2019 तक बढ़ा दी गई।

लेकिन यह भी स्पष्ट किया गया है कि साथ ही एक अप्रैल से इनकम टैक्स रिटर्न फाइल करने के दौरान आधार कार्ड का उल्लेख करना ही होगा ।

March 27, 2019

मिशन शक्ति से अंतरिक्ष में भारत का दबदबा

मिशन शक्ति से अंतरिक्ष में भारत का दबदबा
बड़ी खबर है कि

अब तक सिर्फ अमेरिका, रूस और चीन ही कर सकते थे ऐसा और अब भारत चौथा देश बन गया है जिसके पास एन्टी-सैटेलाइट हथियार है ।

आज के 'मिशन शक्ति' ने दिखा दिया है कि भारत 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर भी किसी सक्रिय सैटेलाइट को मार गिराने की क्षमता रखता है ।

तो क्या था ये मिशन शक्ति ?

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने लोकसभा चुनाव से ठीक पहले 'विशेष संदेश' के साथ पूरे देश को संबोधित किया । पीएम मोदी ने देश को संबोधित करते हुए कहा कि हमने अंतरिक्ष में LIVE सैटेलाइट को तीन मिनट के 'मिशन शक्ति ' में मार गिराया ।

हमारे वैज्ञानिकों ने अंतरिक्ष में 300 किलोमीटर दूर Low Earth Orbit (LEO) में एक लाइव सैटेलाइट को मार गिराया है. यह सैटेलाइट जो कि एक पूर्व निर्धारित लक्ष्य था, एसेट मिसाइल द्वारा मार गिराया गया

भारत ने आज एक काइनेटिक हथियार का इस्तेमाल कर एक लो अर्थ ऑर्बिट (LEO) सैटेलाइट को मार गिराया, जिसका अर्थ हुआ कि भारत ने अपनी अंतरिक्ष संपदा की सुरक्षा करने में अब सक्षम है ।

भारत के पास 48 उपग्रह हैं जिसकी सुरक्षा किया जाना बेहद ज़रूरी है । 300 किलोमीटर की ऊंचाई पर भारत द्वारा किए गए इस टेस्ट से अंतरिक्ष में भी अब भारत सुरक्षित होगा ।

इतनी ऊंचाई पर किसी सैटेलाइट को मार गिराना आसान काम नहीं है, क्योंकि सैटेलाइट बेहद तेज़ गति से सैकड़ों किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से चल रहा होता है ।

लेकिन अब भारत ऐसा करने में सक्षम हो गया है । एक सफल परीक्षण में भारत के रक्षा अनुसंधान एवं विकास संगठन (DRDO) ने भारत के पास एन्टी-सैटेलाइट टेस्ट करने की क्षमता मिशन शक्ति में दिखाई ।

आज भारत अंतरिक्ष महाशक्ति बन गया है, अमेरिका, रूस और चीन के बाद भारत चौथा ऐसा देश बन गया जिसके पास अंतरिक्ष मे मार करने की क्षमता है ।

'मिशन शक्ति' को तीन मिनट में सफलतापूर्वक पूरा कर लिया गया यह अत्यंत कठिन ऑपरेशन था ।

राहुल गांधी ने प्रतिक्रिया दी 'बहुत अच्छे डीआरडीओ, हमें आपके काम पर गर्व है । मैं प्रधानमंत्री को वर्ल्ड थिएटर डे की बधाई देना चाहूंगा ' ।

अखिलेश यादव  ने भी प्रतिक्रिया दी 'मोदी घंटे भर तक टीवी पर रहे, उन्होंने देश का ध्यान जमीनी मुद्दों से हटाया.'

कांग्रेस ने 'मिशन शक्ति' की सफलता के लिए डीआरडीओ को बधाई देते हुए बुधवार को कहा कि पंडित जवाहरलाल नेहरू और विक्रम साराभाई के नजरिये की वजह से भारत अंतरिक्ष प्रौद्योगिकी के क्षेत्र में अग्रणी रहा है ।

March 26, 2019

अंदरूनी कलह भाजपा में भी है

अंदरूनी कलह भाजपा में भी है
भारतीय जनता पार्टी अपने ऊपर चाहे जितना गर्व कर ले लेकिन अंदरूनी कलह थमती नहीं दिख रही ।

जैसे जैसे सीटों पर उम्मीदवारों का फैसला होता जा रहा है वैसे वैसे कलह सामने आती जा रही है ।

सबसे पहली लिस्ट में भाजपा के आगरा के सांसद रामशंकर कठेरिया और फतेहपुर सीकरी के सांसद चौधरी बाबूलाल का टिकट काटने के बाद से दोनों नेता पार्टी से खफा नजर आए ।

हालांकि पार्टी ने सांसद कठेरिया को इटावा सीट से बाद में प्रत्याशी बनाकर उनकी नाराजगी कम करने का प्रयास किया है परंतु बाबूलाल के लगातार मीटिंग करने की खबरें हैं ।

उधर भाजपा के वरिष्ठ नेता मुरली मनोहर जोशी को भी इस बार पार्टी ने टिकट नहीं दिया है । और उनका नाम उत्तर प्रदेश भाजपा के स्टार प्रचारकों की लिस्ट से भी कट गया ।

भाजपा के संगठन महासचिव रामलाल ने जोशी को बताया कि पार्टी ने फैसला किया है कि आपको लोकसभा चुनाव नहीं लड़वाया जाए ।पार्टी चाहती है कि आप पार्टी ऑफिस आकर चुनाव नहीं लड़ने का ऐलान करें।

बाद में ये एलान भी पार्टी की तरफ से ही होने पर जोशी पार्टी से नाराज नजर आए । मुरली मनोहर जोशी ने कानपुर में अपने मतदाताओं को कहा कि रामलाल ने उनसे चुनाव न लड़ने को कहा ।

पार्टी के अन्य वरिष्ठ नेता लाल कृष्ण आडवाणी को भी इस बार टिकट नहीं दिया गया है उनकी संसदीय सीट गांधीनगर से इस बार भाजपा राष्ट्रीय अमित शाह को टिकट मिला है ।

लाल लालकृष्ण आडवाणी , मुरली मनोहर जोशी , के अलावा कलराज मिश्र , शांता कुमार , करिया मुंडा को भी खुद घोषणा करने को कहा गया कि वे चुनाव नहीं लड़ना चाहते हैं ।

अब समझते सब हैं जनता बेबकुफ़ नहीं कि ये ना समझे कि लड़ना नहीं चाहते या टिकट कट गया ।

अपने बड़बोलेपन की वजह से मशहूर और बात-बात में पाकिस्तान भेजने की बात कहने वाले भाजपा नेता गिरिराज सिंह भी पार्टी के फैसले से नाराज हैं ।

गिरिराज सिंह नवादा लोकसभा सीट से ही उम्मीदवारी चाहते थे पर बीजेपी ने उनका नवादा से टिकट काटकर बेगूसराय से टिकट दे दिया ।

नवादा के सांसद गिरिराज सिंह ने कहा कि 'मेरे आत्मसम्मान को ठेस पहुंची है क्योंकि बिहार में किसी भी सासंद की सीट नहीं बदली गई है , मुझसे बिना पूछे इसका फैसला लिया गया ।

उधर पटना साहब सीट पर पर्चा भरने गए सांसद केंद्रीय मंत्री पटना साहिब से उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद के खिलाफ कार्यकर्ताओं ने एयरपोर्ट पर जबरदस्त प्रदर्शन किया ।

कार्यकर्ताओं ने रविशंकर प्रसाद गो बैक के नारे लगाए साथ ही आरके सिन्हा जो बीजेपी के राज्यसभा सांसद हैं उनके पक्ष में जिंदाबाद के नारे लगाए ।

मंगलवार दोपहर पटना एयरपोर्ट पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और बीजेपी के सांसद आरके सिन्हा के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट भी हुई है जमकर घूसे लात के साथ जूते भी चलते दिखे ।

जहां जहाँ टिकट कटे हैं या सही उम्मीदवार नहीं वहां पार्टी में भारी कलह मची हुई है जिससे पार्टी को भयंकर नुकसान हो सकता है ।

हालात ये हैं कि विपक्षी कार्यकर्ता इसे भुना रहे हैं कि देखो ये हैं देश के फर्जी चौकीदार ।

नए बने चौकीदारों पर गर्व है ?

नए बने चौकीदारों पर गर्व है ?
लोकसभा चुनाव 2019 से पहले काँग्रेस के चौकीदार चोर है नारे का जबरदस्त तोड़ प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने निकाला और फिर फेमस हुआ ' मैं भी चौकीदार ' का नारा ।

हर जगह बड़े से लेकर छोटे सभी नेताओं और पार्टी के समर्थकों ने नाम के आगे चौकीदार लगाया तो किसी ने शोशल मीडिया पर प्रोफाइल कवर आदि में 'मैं भी चौकीदार' का इस्तेमाल किया ।

लेकिन मैं भी चौकीदार नारा किरकिरी भी बहुत करा रहा है जब लोग कुछ वाकयो पर कहने लगे हैं ये कैसे चौकीदार ।

बीजेपी ने बिहार में सीटों का बंटवारा कर लिया , मगर अब पार्टी के भीतर से असंतोष की लहर सामने आने लगी है ।

पटना में आज भारतीय जनता पार्टी के ही दो दिग्गज नेताओं के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट हुई । पटना एयरपोर्ट के बाहर भाजपा के एक समूह ने केंद्रीय मंत्री पटना साहिब से उम्मीदवार रविशंकर प्रसाद के खिलाफ जबरदस्त प्रदर्शन किया ।

कार्यकर्ताओं ने रविशंकर प्रसाद गो बैक के नारे लगाए साथ ही आरके सिन्हा जो बीजेपी के राज्यसभा सांसद हैं उनके पक्ष में जिंदाबाद के नारे लगाए ।

मंगलवार दोपहर पटना एयरपोर्ट पर केंद्रीय मंत्री रविशंकर प्रसाद और बीजेपी के सांसद आरके सिन्हा के समर्थकों के बीच जमकर मारपीट भी हुई है जमकर घूसे लात के साथ जूते भी चलते दिखे ।

सांसद आरके सिन्हा प्राइवेट सुरक्षा एजेंसी चलाते हैं और उनके पास पटना शहर में भारी मात्रा में असली चौकीदार हैं ।

अब भाजपा के ही सिर्फ नाम के चौकीदार भी बीजेपी के रविशंकर प्रसाद की उम्मीदवारी पर भी सवाल उठा रहे हैं और इसे कार्यकर्ताओं का अपमान बता रहे हैं ।

इस पर विपक्ष के समर्थकों ने चुटकी ली है लड़ाकू चौकीदार लालची चैकीदार ।

समर्थकों में मारपीट के वीडियो में अमर्यादित और अभद्र भाषा का इस्तेमाल किया गया है जमकर नारेबाजी करते दिख रहे हैं कार्यकर्ता ।

उधर जितने भी चौकीदार का टिकट कट गया है वे और उनके समर्थक चौकीदारों ने पार्टी के खिलाफ बगावत कर दी है ।

हर जगह के बिगड़े माहौल को देखकर लोग नए नए बने चौकीदारों से यही बोल रहे हैं कि है भगवान ये कैसे लालची , झगड़ालू चौकीदार हैं ।

इससे पहले भी भाजपा सांसद और विधायक का जूतम जूते वीडियो वायरल हुआ था । ये सब पार्टी और नए नारे मैं भी चौकीदार की फिजा खराब कर रहा है ।

March 24, 2019

काँग्रेस से खफा क्यों माया

काँग्रेस से खफा क्यों माया
राहुल और अखिलेश की नजदीकियों के बाद भी मायावती काँग्रेस से क्यों खफा हैं ?

आखिर ऐसा क्या है कि माया जिनकी पहले सोनिया के साथ नजदीकी फोटो देखने को मिली थीं वे आजकल कांग्रेस के साथ नहीं आना चाहतीं ? आइए देखते हैं

दरअसल मायावती की पार्टी बसपा का मुख्य वोट दलित वोट बैंक को समझा जाता है । सपा के साथ गठबंधन के बाबजूद पार्टी को ये वोट बैंक बाद में भी जाने का खतरा नहीं है ।

पर अगर काँग्रेस साथ आती है तो जो दलित वोट बैंक एक बार बसपा से काँग्रेस को ट्रान्सफर होगा वो बाद में भी वापस मिलने की कोई उम्मीद नहीं ।

दरसअल सपा और बसपा क्षेत्रीय पार्टियां हैं जबकि काँग्रेस राष्ट्रीय स्तर की पार्टी है जो कि बसपा को अधिक नुकसान पहुंचा सकती है या समझ लीजिए बसपा का सारा वोट अपने पाले में ले जा सकती है ।

बसपा अध्यक्ष मायावती के कांग्रेस से खफा होने की दूसरी वजह पश्चिमी यूपी में भीम आर्मी के चंद्रशेखर से प्रियंका गांधी का उनसे अस्पताल में मिलने जाना भी हो सकती है।

कांग्रेस कई ऐसे कदम उठा रही है जिनसे बसपा को अनुसूचित जाति, यहां तक कि जाटव वोट बैंक में भी सेंध लगती नजर आ रही है।

कांग्रेस ने कई जगह बसपा से अलग होने वाले नेताओं को टिकट देकर अपने पुराने दलित-मुस्लिम समीकरण को साधने का दांव चला है।

मायावती ने अपने समर्थकों को कांग्रेस से सावधान रहने का फरमान सुनाया है। आने वाले दिनों में मायावती का कांग्रेस पर हमला और तेज हो सकता है।

काँग्रेस के राजबब्बर ने फतेहपुर सीकरी सीट पर बसपा के कई नेताओं का साथ हासिल कर लिया है जिससे काँग्रेस मजबूत होती दिख रही है ।

यूपी के जातिवादी गणित में करीब 19 फीसदी दलित मतदाता हैं। इनमें 16 फीसदी जाटव मतदाता है।उसके बाद यदि मुस्लिम मतदाता भी मायावती खेमे से काँग्रेस की तरफ झुकता लगता है ।

बसपा सुप्रीमो मायावती देश की प्रमुख एससी चेहरा मानी जाती हैं।लेकिन जब इसके पीछे सीधे-सीधे कांग्रेस वोटबैंक छीनती नजर आ रही है तो नाराजगी होगी ही।

मायावती ने इसी कारण भीम आर्मी के चंद्रशेखर को पूरी तरह से नजरअंदाज किया है कि वो जाटव समाज का उभरता चेहरा है और बसपा के लिए नुकसान दायक है ।

बसपा सरकार में मंत्री रहीं ओमवती जाटव ने 2007 में बसपा जॉइन की और चौथी बार विधायक बनीं । इस बार ओमवती कांग्रेस में चली गईं हैं और उन्हें कांग्रेस ने उन्हें प्रत्याशी बना दिया।

1987 बैच की आईआरएस अधिकारी प्रीता हरित बहुजन सम्यक संगठन चलाती हैं कांग्रेस ने उन्हें आगरा से प्रत्याशी बनाया है। गठबंधन में आगरा सीट बसपा के पास है।

सीतापुर सीट भी बसपा के हिस्से में आई है। पिछले लोकसभा चुनाव में बसपा प्रत्याशी कैसरजहां थीं। इस बार कैसरजहां कांग्रेस में चली गईं। कांग्रेस ने उन्हें प्रत्याशी बना दिया है।

इसी महीने सपा छोड़कर कांग्रेस में आए पूर्व सांसद रामशंकर भार्गव को लखनऊ की मोहनलालगंज सीट से प्रत्याशी बनाया है। जिससे बसपा की ही परेशानी बढ़नी तय है।

इसलिए मायावती काँग्रेस से दूर हट रही हैं और अपने कार्यकर्ताओं को भी यही सलाह दे रही हैं ।

आ रहे ओपिनियन पोल भी पिछली बार के मुकाबले काँग्रेस को ज्यादा सीट आना दिखा रहे हैं । हालांकि मायावती को पिछले चुनाव में कोई सीट नहीं मिली थी तो कोई नुकसान नही होगा । लेकिन वोटबैंक जाने का नुकसान आगे बड़ा होगा ।

March 21, 2019

ब्रज में भाजपा सांसदों के टिकट कटे

ब्रज में भाजपा सांसदों के टिकट कटे

भारतीय जनता पार्टी द्वारा आज तीन चार दिन की प्रतीक्षा के बाद 184 उम्मीदवारों की लिस्ट सार्वजनिक की ।





इसमें उत्तर प्रदेश की 29 सीटों पर प्रत्याशी फाइनल किए गए हैं , शायद भाजपा भी होली के बाद शुभ महूर्त का इंतजार कर रही थी ।





ब्रज क्षेत्र की सीटों में थोड़ा सा जनता की सोच से हटकर उलट पुलट किया गया है ।





मथुरा से कोई भी बदलाव न करते हुए महारथी हेमा मालिनी जी पर विश्वास कायम किया गया है ।





जबकि सबसे बड़ा झटका आगरा सीट पर दिया गया है । आगरा सीट पर आम जनों का मानना था कि एस सी एस टी आयोग के अध्यक्ष रामशंकर कठेरिया का टिकट लगभग फाइनल है ।





लेकिन पार्टी आलाकमान और भाजपा केंद्रीय चयन समिति ने इस बार रामशंकर कठेरिया को जबरदस्त झटका देते हुए आगरा से उनका टिकट काट दिया है ।





आगरा सीट पर पिछले समय मे पार्टी बदल के भाजपा में शामिल हुए एस पी सिंह बघेल को भाजपा का लोकसभा प्रत्याशी घोषित किया गया है ।





बता दें कि आगरा क्षेत्र में दोनों नेताओं रामशंकर कठेरिया और एस पी सिंह बघेल की खट पट की खबरें अक्सर लोकल अखबारों में पढ़ी गईं ।





इस बीच एस पी सिंह के बाजी मारने से उनकी पार्टी में पहुँच कठेरिया से ज्यादा साबित हुई है ।





वहीं ब्रज की एक और सीट फतेहपुर सीकरी पर पहले ही से अनुमान लग रहा था कि वहाँ के मौजूदा सांसद बाबूलाल का टिकट कट सकता है ।





और हुआ भी यही पार्टी द्वारा मौजूदा सांसद का टिकट काटकर नए चेहरे राजकुमार चाहर पर भरोसा जताया गया है ।





राजकुमार चाहर पहले विधानसभा चुनाव के लिए एक बार टिकट हासिल करने की कोशिश कर चुके थे लेकिन टिकट न मिलने से वे निर्दलीय विधानसभा चुनाव लड़े ।





निर्दलीय विधानसभा चुनाव में हालाँकि उनको जीत नही मिली लेकिन अच्छी संख्या में मत प्राप्त हुए थे ।





अब उनको फतेहपुर सीकरी सीट से लोकसभा का टिकट डित गया है ।





हालांकि बसपा-सपा गठबंधन द्वारा भी आगरा और फतेहपुर सीकरी सीट पर इन सीटों के फेमस चेहरे न उतारने से दोनों ही सीटों का गणित भाजपा के पक्ष में ज्यादा लगता है ।





हालांकि वोटर और वोट गिनती के बाद ही समझ आते हैं फिर भी ब्रज क्षेत्र में एक बार फिर से भाजपा का पलड़ा थोड़ा भारी लग रहा है ।


March 20, 2019

कांग्रेसियों में जोश भर रही प्रियंका

कांग्रेसियों में जोश भर रही प्रियंका

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने तीन दिन तक पूर्वांचल का तूफानी दौरा किया है ।





इस दौरान उन्होंने कई घाटों-मंदिरों का दौरा किया और काशी विश्वनाथ मंदिर में भी पूजा-अर्चना की ।





प्रियंका ने कहा मैं उत्तर प्रदेश में नयी राजनीति शुरू करना चाहती हूं, इसलिये गंगा के सहारे, गंगा के रास्ते आयी हूं ।





प्रियंका की 140 किमी की बोट यात्रा का वाराणसी आखिरी पड़ाव था यहां पर रैली करते हुए उन्होंने मोदी सरकार पर जमकर हमला बोला ।





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने केंद्र सरकार पर को घेरा ।





उन्होंने कहा मोदी सरकार ने मजदूरों और किसानों के लिए कुछ भी काम नहीं किया गया है, बीएचयू में छात्राओं ने अपनी आवाज़ उठायी तो उन्हें लाठियां मारी गयीं ।





उन्होंने यूपी बीजेपी अध्यक्ष महेंद्रनाथ पांडेय के भाई जितेंद्रनाथ पांडेय की पुत्रवधू अमृता को कांग्रेस में शामिल किया । फिर अमृता पांडेय से ही पूछा कि पार्टी ज्वॉइन कर रही हैं, आपके ससुर जी नाराज तो नहीं हो जाएंगे?





बीजेपी और कांग्रेस कार्यर्ताओं के बीच हुई मारपीट पर प्रियंका गांधी ने कहा कि हमारी राजनीति मारपीट की नहीं है, कांग्रेस कार्यकर्ताओं ने अंग्रेजों की लाठियां सही, मार खाई पर हाथ नहीं उठाया । कोंग्रेसी कार्यकर्ताओं से संयम बरतने को कहा ।





साथ ही मोदी पर तंज कसा कि आज इस देश में अंग्रेजों जैसी तानाशाही की स्थिति है, बस फर्क यही है कि ये हिंदुस्तानी तानाशाह है ।





प्रियंका गांधी जम्मू कश्मीर के बडगाम जिले में वायु सेना के शहीद वाराणसी निवासी सार्जेंट विशाल पांडेय के घर भी गईं।






http://www.dekhoyaar.com/samjhauta-express-blast-case/

समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस

समझौता एक्सप्रेस ब्लास्ट केस

दिल्ली-लाहौर समझौता एक्सप्रेस भारत-पाकिस्तान के बीच सप्ताह में दो दिन चलने वाली ट्रेन में 18 फरवरी 2007 को पानीपत के चांदनी बाग थाने के अंतर्गत सिवाह गांव के दीवाना स्टेशन  के नजदीक दो बम विस्फोट हुए , जिसमें 68 लोग मारे गए थे और 12 घायल हुए । उनमें ज्यादातर पाकिस्तानी नागरिक थे ।





धमाके से ट्रेन के 2 जनरल कोच में आग लग गई, बाद में जांच के दौरान घटनास्थल से पुलिस को दो ऐसे सूटकेस बम मिले जो फटे नहीं थे ।





बम धमाके के बाद प्रत्यक्षदर्शियों की गवाही के आधार पर पुलिस ने दो संदिग्धों के 'स्केच' जारी किए, हरियाणा सरकार ने मामले की एसआईटी  जांच कराने का ऐलान किया ।





इंदौर से दो संदिग्ध लोगों को हरियाणा पुलिस ने गिरफ्तार किया, समझौता धमाकों के सिलसिले में यह पहली गिरफ्तारी थी ।





धमाके के 3 साल बाद 2010 में केस को राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) को सौंप दिया गया ।





राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) ने 26 जून 2011 को स्वामी असीमानंद समेत 5 लोगों के खिलाफ चार्जशीट दाखिल की ।





चार्जशीट में स्वामी असीमानंद के अलावा सुनील जोशी, संदीप डांगे, रामचंद्र कालसंग्रा और लोकेश शर्मा शामिल थे । इसमें सुनील जोशी की 2007 में मध्य प्रदेश के देवास में हत्या कर दी गई।





जांच के दौरान 290 प्रत्यक्षदर्शियों को शामिल किया गया, इसमें कई पाकिस्तानी शामिल नहीं हुए ।





2014 में समझौता ब्लास्ट केस के मुख्य अभियुक्त स्वामी असीमानंद को जमानत मिल गई, कोर्ट में एनआईए असीमानंद के खिलाफ पर्याप्त सबूत नहीं दे पाई।





अब मार्च 2019 में समझौता ब्लास्ट केस में सभी चार आरोपियों असीमानंद, लोकेश शर्मा, कमल चौहान और राजिंदर चौधरी को पंचकूला की विशेष एनआईए कोर्ट ने बरी कर दिया ।





पंचकूला की विशेष एनआईए कोर्ट ने बुधवार को बड़ा फैसला सुनाते हुए सभी 4 आरोपियों को बरी कर दिया है ।





पंचकूला की विशेष एनआईए कोर्ट ने पाकिस्तान की महिला राहिला वकील की याचिका को खारिज करते हुए सभी चार आरोपियों को बरी कर दिया ।





मामले में कुल 8 आरोपी थे, जिनमें से एक की मौत हो चुकी है और तीन को भगोड़ा घोषित किया जा चुका है ।





हादसे में 43 पाकिस्तानी, 10 भारतीय और 15 अन्य लोग मारे गए।  मारे गए कुल 68 लोगों में  4 रेलवे के अधिकारी शामिल थे ।





कौन हैं स्वामी असीमानंद





स्वामी असीमानंद का असली नाम नबकुमार सरकार है उनका जन्म पश्चिम बंगाल के हुगली जिले में हुआ






1977 में वो RSS के प्रचारक बने,  गुरु स्वामी परमानंद ने उनका नाम स्वामी असीमानंद रखा ।
असीमानंद अंडमान निकोबार में वनवास आश्रम की देख रेख में रहे उन्होंने  गुजरात के आदिवासियों के लिए कल्याण का काम भी  किया, उन्होंने सबरी मंदिर बनवाया ।


March 19, 2019

भारत के पहले लोकपाल

भारत के पहले लोकपाल

लोकपाल चयन समिति की बैठक में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, लोकसभा अध्यक्ष सुमित्रा महाजन, भारत के मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई और वरिष्ठ अधिवक्ता मुकुल रोहतगी शामिल हुए।





समिति में कांग्रेस के नेता मल्लिकार्जुन खड़गे का नाम भी था लेकिन उन्होंने मीटिंग में हिस्सा नहीं लिया ।





सुप्रीम कोर्ट के सेवानिवृत्त जज जस्टिस पिनाकी चंद्र घोष को देश का पहला लोकपाल नियुक्त किया गया। केंद्र सरकार ने मंगलवार को इसकी आधिकारिक घोषणा की।





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता वाली चयन समिति ने जस्टिस घोष सहित बाकी सदस्यों के नाम की सिफारिश की थी, जिसे राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने मंजूरी दे दी।





राष्ट्रपति ने जस्टिस दिलीप बी भोंसले, जस्टिस प्रदीप कुमार मोहंती, जस्टिस अभिलाषा कुमारी और जस्टिस एके त्रिपाठी को न्यायिक सदस्य नियुक्त किया ।





दिनेश कुमार जैन, अर्चना रामासुंदरम, महेंद्र सिंह और डॉ. आईपी गौतम बतौर सदस्य नियुक्त किए गए है ।





जस्टिस घोष आंध्र प्रदेश हाई कोर्ट के चीफ जस्टिस भी रहे हैं। जस्टिस घोष को मानवाधिकार कानूनों पर उनकी बेहतरीन समझ और विशेषज्ञता के लिए जाना जाता है।





वह जून 2017 सेराष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के भी सदस्य हैं। 





जस्टिस पीसी घोष का पूरा नाम पिनाकी चंद्र घोष है ।
जस्टिस पीसी घोष ने ही शशिकला और अन्य को भ्रष्टाचार के मामले में दोषी ठहराया था ।


March 17, 2019

मिस्टर क्लीन पार्रिकर का निधन

मिस्टर क्लीन पार्रिकर का निधन

 नहीं रहे मिस्टर क्लीन ।





साफ सुथरी छवि के नेता गोवा के मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर का 63 साल की उम्र में निधन हो गया है।





पार्रिकर जी मोदी सरकार में ही पूर्व रक्षा मंत्री भी रहे हैं ।पर्रिकर शनिवार देर रात से ही जीवनरक्षक प्रणाली पर थे ।





कुछ देर पहले ही खबर आई थी कि पर्रिकर की हालत बेहद नाजुक हो है। सीएमओ की ओर से दी गई जानकारी के मुताबिक सीएम पर्रिकर का की तबीयत बेहद खराब है।





गोवा के मुख्यमंत्री कार्यालय की तरफ से ट्वीट कर बताया गया था कि, 'मुख्यमंत्री मनोहर पर्रिकर की हालत बेहद गंभीर है. डॉक्टर उन्हें ठीक करने की पूरी कोशिश कर रहे हैं।'





राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने ट्वीट कर मनोहर पर्रिकर के निधन पर दुख जताया ।





मनोहर पर्रिकर का जन्म 13 दिसंबर 1955 के मापुसा में हुआ था । मनोहर पर्रिकर ने 1978 में IIT मुंबई से ग्रेजुएशन किया । मनोहर पर्रिकर भारत के किसी राज्य के मुख्यमंत्री बनने वाले वह पहले व्यक्ति हैं, जिन्होंने IIT ग्रेजुएशन किया था ।





पर्रिकर के परिवार में दो पुत्र और उनका परिवार है ।





मनोहर पर्रिकर मार्च 2017 में रक्षा मंत्री का पद छोड़कर चौथी बार गोवा के मुख्यमंत्री बने थे । वे बेहद सरल और बिना तामझाम के जीवन जीने वाले जनता से जुड़े रहने वाले साफ छवि के नेता थे ।


March 16, 2019

आखिर क्यों झुक रही भाजपा ?

आखिर क्यों झुक रही भाजपा ?

लोकसभा चुनाव 2014 में झंडे गाड़ने वाला दल भाजपा क्या 2019 में भी वही करतब दोहरा पाएगा ?





इस प्रश्न का जबाब तो 23 मई को ही मिलेगा ।





लेकिन 2014 में आई एक बड़ी मोदी लहर धीरे धीरे कुंद होती जा रही है , एक तरफ हाल ही में राज्यों के विधान सभा चुनाव में आई शिकस्त से भी कुछ असर हुआ है ।





पुराने नारे अच्छे दिन आने वाले हैं से भी भाजपा ने किनारा कर लिया है ।





हाल ही में 2 नए नारे मोदी है तो मुमकिन है और मैं भी चौकीदार का इस्तेमाल किया जा रहा है ।





हालांकि अखिरी कुछ महीनों में मोदी सरकार द्वारा उठाए कदम जैसे 10 फीसद गरीब आरक्षण से सवर्णों को साधने की कवायद या पुलवामा के बाद सर्जीकल स्ट्राइक का फायदा पूर्ण रूप से भाजपा उठा रही है ।





लेकिन फिर भी वोटों के कटने के डर कहीं न कहीं भाजपा नेतृत्व दल के अंदर है तो यही वजह है कि वह किसी भी स्तर तक जाकर अपने सहयोगी दलों को मनाने में जुटी है ।





महाराष्ट्र में शिवसेना के द्वारा प्रधानमंत्री पर लगातार सवाल उठाए जाने और राजनितिक प्रहारों के बाबजूद शिवसेना की इच्छा के मुताबिक गठबंधन किया गया ।





उत्तरप्रदेश में अपना दल , भाजपा आदि को साधने के लिए भी भाजपा हर स्तर तक झुकी है ।





इसी तरह बिहार में नीतीश कुमार के सामने भी भाजपा लाचार सी ही नजर आई ।





हालांकि भाजपा शीर्ष नेतृत्व के अनुसार वे अपने सहयोगी दलों के साथ समझौता करने में कुछ गलत नही मानते ।





लेकिन सवाल तब खड़े होते हैं जब काँग्रेस अपने अन्य साथियों से गठबंधन करती है और भाजपा नेता उन पर कटाक्ष । ऐसे में काँग्रेस भी मौका नहीं चूक रही ।





काँग्रेस का साफ कहना है कि भाजपा का अपनी सहयोगी पार्टियों के साथ गठबंधन में हद स्तर तक झुकना भाजपा शीर्ष नेतृत्व में काँग्रेस के भय को उजागर करता है ।





राजनीतिक विशेषज्ञों की मानें तो गठबंधन होते ही इसलिए हैं ताकि मत विभाजन न हो और दो या तीन पार्टियों को मिलने वाले वोट एक ही उम्मीदवार को मिलने से जीत की संभावनाएं कई गुना बढ़ जाती हैं ।





विशेषज्ञ मानते हैं कि हार का डर बड़ी से बड़ी पार्टी के बड़े से बड़े नेता को होता है जनता कब तख्त पलट दे नहीं पता । ऐसे में गठबंधन के द्वारा कम से कम अपने सहयोगी द्वारा काटे जाने वाले वोट तो नहीं कटते ।





भाजपा हो या काँग्रेस या कोई अन्य पार्टी सब यह जानती हैं कि जितनी अधिक कैंडिडेट होंगे मत उतने लोगों में बंट जाएगा जिसे बचाने के लिए झुकना ही बेहतर है ।





इसका जीता जागता उदाहरण उत्तर प्रदेश में चिर प्रतिद्वंद्वी पार्टी सपा और बसपा के बीच हुआ गठबंधन है ।


March 15, 2019

जुम्मे की नमाज के दौरान हमला

जुम्मे की नमाज के दौरान हमला

न्यूजीलैंड में आतंकियों द्वारा मस्जिदों में घुसकर की गई अंधा धुंध फायरिंग ।





इस घटना में 49 लोगों की मौत हो गई है, जबकि कई अन्‍य लोग घायल हो गए ।





पुलिस ने तीन लोग गिरफ्तार किए हैं इन लोगों में से एक 20 वर्षीय ऑस्‍ट्रेलियाई नागरिक है ।





हमले में बांग्लादेश की क्रिकेट टीम बाल बाल बची , टीम का काल से मैच था जो कि रद्द कर दिया गया है ।





खबर के अनुसार बांग्लादेश की क्रिकेट टीम उस समय मस्जिद के नजदीक ही थी । बांग्लादेश टीम के खिलाड़ी मस्जिद में नमाज पढ़ने के लिये प्रवेश करने वाले थे लेकिन वे बाल बाल बचे और सुरक्षित हैं ।





हमलावर ने शुक्रवार की नमाज के वक्‍त हमला किया जिस वक्‍त वहां काफी लोग थे । उसने वारदात का वीडियो भी बनाया है ।





टीवी खबरों के अनुसार उसने पहले ही अपने फेसबुक एकाउंट से हमले को लाइव दिखाने के संकेत दिए थे हालांकि ये उसने साफ नहीं किया कि क्या दिखाएगा ।





सामने आए वीडियो में साफ दिख रहा है कि वो मस्जिद में घुस और तड़ातड़ फायरिंग कर लोगों को मौत की नींद सुला दिया ।





उसने वहां से निकलने के बाद भी वहां से गुजरने वाले लोगों पर गोलीबारी की ।





इस हमले में 49 लोगों की मौत हो गई जबकि 20 से अधिक घायल बताए जा रहे हैं ।





इस हमले के पीछे नस्‍लीय भेद भाव बताई जा रही है प्रधानमंत्री जेसिंडा एर्डर्न ने इसे न्यूजीलैंड के इतिहास की सबसे खराब घटना बताया है ।





2 मस्जिदों में हुए हमले का मकसद बदला लेना था। ऑस्ट्रेलिया के 28 वर्षीय ब्रेंटन टैरंट ने गोलीबारी से पहले लिखा था कि उसे प्रवासियों से सख्त नफरत है।





यूरोप में मुसलमानों द्वारा किए गए हमलों से वह काफी गुस्से में था और बदला लेना चाहता था ।





गोलियां बरसाते हुए उसने खूनी खेल की लाइव स्ट्रीमिंग भी की ।





प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने न्यूजीलैंड को पत्र द्वारा निर्दोष लोगों की मौत पर गहरी संवेदना एवं दुख प्रकट किया ।





विभिन्‍न स्रोतों से प्राप्‍त जानकारी के अनुसार भारतीय मूल के 9 लोग लापता हैं । इसकी आधिकारिक पुष्टि नहीं हुई है ।





एआईएमआईएम के नेता असदुद्दीन ओवैसी के अनुसार घटना में दो भारतीयों की मौत हुई है जबकि तीसरा अस्‍पताल में जिंदगी है ।


March 14, 2019

क्या अमेरिका चीन पर लेगा एक्शन

क्या अमेरिका चीन पर लेगा एक्शन

एक बार फिर जैश-ए-मोहम्मद का सरगना मसूद अजहर वैश्विक आतंकवादी घोषित होने से बच गया ।





चीन ने भारत की कोशिश को झटका देते हुए प्रस्ताव में रोड़े अटका दिए । समयसीमा खत्म होने से ठीक पहले चीन ने प्रस्ताव पर ‘तकनीकी रोक' लगा दी ।





संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की कमेटी में अजहर को आतंकवादी घोषित करने का प्रस्ताव 27 फरवरी को फ्रांस, ब्रिटेन और अमेरिका लाए थे ।





कमेटी के सदस्यों के पास प्रस्ताव पर आपत्ति जताने के लिए 10 कार्य दिन थे । यह अवधि बुधवार को खत्म होनी थी ।





समयसीमा खत्म होने से ठीक पहले चीन ने प्रस्ताव पर रोक लगा दी ।





14 फरवरी को जम्मू कश्मीर के पुलवामा में अजहर के आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के फिदायीन ने सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था ।





इस हमले में जिसमें 44 जवान शहीद हो गए थे ।
इस हमले की वजह से भारत और पाकिस्तान के बीच तनाव पैदा हो गया था ।





घटनाक्रम पर विदेश मंत्रालय द्वारा निराशा जाहिर की गई ।





यह तकनीकी रोक छह महीनों के लिए वैध है और इसे आगे तीन महीने के लिए बढ़ाया जा सकता है ।





मामले में संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अमेरिकी राजनयिक ने चेतावनी देते हुए कहा कि इससे दूसरे सदस्यों को अन्य एक्शन लेने के लिए मजबूर होना पड़ सकता है ।





अगर बीजिंग आतंकवाद से लड़ने के लिए गंभीर है तो उसे पाकिस्तान और अन्य देशों के आतंकियों का बचाव नहीं करना चाहिए ।





यह चौथी बार है कि चीन ने ऐसा किया है, चीन को आतंक का समर्थन नहीं करना चाहिए ।


CST फुट ओवरब्रिज गिरा 5 की मौत

CST फुट ओवरब्रिज गिरा 5 की मौत

मुम्बई के छत्रपति शिवाजी टर्मिनल के पास फुटओवर ब्रिज गिर गया ।






हादसे के समय पुल पर बड़ी संख्या में लोग थे जिससे हादसे में 5 लोगों की मौत हो गई और कई लोग घायल हो गए ।





मृतकों में 2 पुरुष और 3 महिलाएं शामिल हैं ।





प्रत्यक्षदर्शियों के मुताबिक जब ब्रिज गिरा तो उसके नीचे गाड़ियाँ भी मौजूद थीं ।





पुल गिरा तो शुरू में घायलों को स्थानीय लोगों ने ही बचाया,  भारी ट्रैफिक के कारण एंबुलेंस पहुँचने से पहले ही लोगों ने बचाए घायल ।





CST के प्‍लेटफॉर्म संख्‍या एक को बीटी लेन से जोड़ने वाला फुट ओवर ब्रिज गिरा है जिसकी वजह से ट्रैफिक भी प्रभावित हुआ ।





सीएसटी को जोड़ने वाला फुटओवरब्रिज टाइम्स ऑफ इंडिया बिल्डिंग और एमआरए पुलिस स्टेशन के सामने है  इसे हिमालया ब्रिज भी कहा जाता है ।





हादसे पर रेलमंत्री पीयूष गोयल ने दुःख जताया ।





पीएम मोदी और महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री देवेंद्र फडणवीस ने हादसे में जान गंवाने वाले लोगों के प्रति संवेदना जताई ।





हादसे पर सीएम देवेंद्र फडणवीस ने मृतकों के परिजनों को 5 लाख रुपए का मुआवजा और घायलों को 50 हजार रुपये के मुआवजे का ऐलान किया है ।


March 12, 2019

महा गठबंधन तो भाजपा का है

महा गठबंधन तो भाजपा का है

शेर अकेले चलता है यह बात राजनीति में लागू नहीं होती । बँटते वोट को एकसाथ लाने के लिए राजनीतिक दल मिलकर गठबंधन बनाते हैं ।





काँग्रेस के यूपीए को महा गठबंधन का नाम भले ही दिया जाए लेकिन इस मामले में भाजपा का एनडीए भी कम नहीं ।





दरअसल पार्टियों के एक साथ आने से ऐसा मानते हैं कि अपने वोट के साथ दूसरी पार्टी का वोट जुड़ने से जीत आसानी से मिल जाएगी ।





साल 2014 में भाजपा ने 16 सहयोगी दलों के साथ मिलकर लोकसभा चुनाव लड़ा था, वहीं इस बार यह आंकड़ा 29 हो गया है ।





भाजपा जहां ज्यादा से ज्यादा दलों के साथ हाथ मिला रही है, वहीं उनके प्रति नरम रुख भी अपना रही है ।





झारखंड में भाजपा ने गिरिडीह सीट जहां से भाजपा पिछले पांच बार से जीतती रही है उसे सहयोगी दल एजेएसयू के लिए छोड़ कर बताया है कि गठबंधन जरूरी है ।





महाराष्ट्र में शिवसेना के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार निशाना साधने के बाबजूद भाजपा ने शिवसेना के साथ गठबंधन किया है ।





शिवसेना नोटबंदी, अर्थव्यवस्था और सर्जिकल स्ट्राइक सहित कई मुद्दों पर पीएम मोदी पर निशाना साधती रही है ।





बिहार में 40 सीटों में से 22 पर जीत दर्ज करने के बाद भी इस बार भाजपा केवल 17 सीटों पर चुनाव लड़ रही है ।





बिहार में भी भाजपा अपने सहयोगियों के लिए जीती हुई सीटें छोड़ सकती है। बिहार की नवादा सीट एलजेपी ले सकती है यो जदयू ने भी भाजपा की कई जीती हुई सीटों की माँग की है ।





उत्तर प्रदेश में भाजपा अपने सहयोगी दलों सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी और अपना दल के साथ सांठ गाँठ बिठाने में लगा हुआ है ।


March 10, 2019

कब कहाँ पड़ेंगे वोट ?

कब कहाँ पड़ेंगे वोट ?

लोकसभा चुनाव 2019 चुनाव 7 चरणों मे होगा चुनाव आयोग ने निम्न प्रकार से चुनाव होना सुनिश्चित किया है





पहला चरण 11 अप्रेल





उत्‍तर प्रदेश-सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद, गौतमबुद्ध नगर
बिहार-औरंगाबाद, गया, नवादा, जमुई
प.बंगाल-कूचबिहार 
छत्‍तीसगढ़-बस्‍तर 
महाराष्ट्र-वर्धा, रामटेक, नागपुर, भंडारा गोंदिया, गढचिरौली-चिमौर, चंद्रपुर, यवतमाल-वाशिम 
आंध्र प्रदेश की 25, तेलंगाना की 17, उत्‍तराखंड की 5, अरुणाचल प्रदेश की 2, मेघालय की 2 सीटों पर चुनाव होंगे
आंध्रप्रदेश, अरुणाचल प्रदेश व सिक्किम में लोकसभा के साथ इनकी विधानसभा के लिए भी मतदान होगा।





दूसरा चरण 18 अप्रेल





उत्‍तर प्रदेश -नगीना, अमरोहा, बुलंदशहर, अलीगढ़, हाथरस, मथुरा, आगरा, फतेहपुर सीकरी
बिहार- किशनगंज, कटिहार, पुर्णिया, भागलपुर, बांका 
प.बंगाल- दार्जिलिंग, जलपाईगुड़ी 
छत्‍तीसगढ़-कांकेर, राजनांदगांव और महासमुंद
महाराष्ट्र-बुलढाणा, अकोला, अमरावती, हिंगोली, नादेड़, परभणी, बीड, उस्मानाबाद, लातूर, सोलापुर
तमिलनाडु की सभी 39 सीटों पर चुनाव होंगे 





तीसरा चरण - 23 अप्रैल 
उत्‍तर प्रदेश- मुरादाबाद, रामपुर, संभल, फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा, बदायूं, आंवला, बरेली, पीलीभीत 
बिहार - झंझारपुर, सुपौल, अररिया, मधेपुरा, खगड़िया 
प.बंगाल- मालदा उत्तर, मालदा दक्षिण, मुर्शिदाबाद 
छत्‍तीसगढ़- रायपुर, बिलासपुर, दुर्ग, कोरबा, सरगुजा, रायगढ़, जांजगीर-चांपा सीट
महाराष्ट्र- जलगांव, रावेर, जलना, औरंगाबाद, रायगढ़, पुणे, बारामति, अहमदनगर, मढ़ा, सांगली, सतारा, रत्नागिरी-सिंधुदुर्ग, कोल्हापुर, हातकणंगले 





चौथा चरण - 29 अप्रैल 
उत्‍तर प्रदेश- शाहजहांपुर, खीरी, हरदोई, मिश्रिक, उन्नाव, फर्रुखाबाद, इटावा, कन्नौज, कानपुर, अकबरपुर, जालौन, झांसी, हमीरपुर
बिहार- दरभंगा, उजियारपुर, समस्तीपुर, बेगुसराय, मुंगेर
प.बंगाल- बर्दमान, आसनसोल, बोलपुर, वीरभूम 
मध्यप्रदेश- सीधी, शहडोल, जबलपुर, मंडला, बालाघाट और छिंदवाड़ा
महाराष्ट्र-नंदुरबार, धुले, डिंडोरी, नासिक, पालघर, भिवंडी, कल्याण, ठाणे, मुंबई उत्तर, मुंबई उत्तर-पश्चिम, मुंबई उत्तर-मध्य, मुंबई दक्षिण-मध्य, मुंबई दक्षिण, मावल, शीरूर, शिरडी
राजस्थान: टोंक-सवाईमाधोपुर, अजमेर, पाली, जोधपुर, बाड़मेर, जालौर, उदयपुर, बासंवाड़ा, चितौड़गढ़, राजसमंद, भीलवाड़ा, कोटा, झालावाड़-बारां  





पांचवा चरण - 6 मई
उत्‍तर प्रदेश- धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज, लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, बांदा, फतेहपुर, कौसांबी, बाराबंकी, फैजाबाद, बहराइच, कैसरगंज, गोंडा 
बिहार- सीतामढ़ी, मधुबनी, मुजफ़्फ़रपुर, सारण, हाजीपुर
प.बंगाल- हावड़ा, हुगली, श्रीरामपुर
मध्यप्रदेश-टीकमगढ़, दमोह, खजुराहो, सतना, रीवा, होशंगाबाद, बैतूल 
राजस्थान: श्रीगंगानर, बीकानेर, चूरू, झुंझूनूं, सीकर, जयपुर ग्रामीण, जयपुर, अलवर, भरतपुर, करौली-धौलपुर, दौसा और नागौर 





छठा चरण - 12 मई
उत्‍तर प्रदेश- सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, फूलपुर, इलाहाबाद, अंबेडकर नगर, श्रावस्ती, डुमरियागंज, बस्ती, संत कबीरनगर, लालगंज, आजमगढ़, जौनपुर, मछलीशहर, भदोही
बिहार- वाल्मिकी नगर, पश्चिमी चंपारण, पूर्वी चंपारण, शिवहर, वैशाली, गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज
प.बंगाल- मेदनीपुर, पुरुलिया, बांकुरा, झारग्राम 
मध्यप्रदेश - भोपाल, मुरैना, भिंड, ग्वालियर, गुना, सागर, विदिशा, राजगढ़

सातवां चरण - 19 मई
उत्‍तर प्रदेश- महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, बलिया, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, मिर्जापुर, राबर्टसगंज।
बिहार- नालंदा, पटना साहिब, पाटिलपुत्रा, आरा, बक्सर, सासाराम, काराकट, जहानाबाद
प.बंगाल- दमदम, डायमंड हार्बर, जाधवपुर, कोलकाता 
मध्यप्रदेश-इंदौर, देवास, उज्जैन, मंदसौर, रतलाम, धार, खंडवा, खरगोन
हिमाचल प्रदेश-कांगड़ा लोकसभा, मंडी सीट, शिमला सीट, हमीरपुर
पंजाब-गुरदासपुर, अमृतसर, खादूर साहिब, जालंधर, होशियारपुर, आनंदपुर साहिब, लुधियाना, फतेहगढ़ साहिब, फ़रीदकोट, फिरोजपुर, भटिंडा, संगरुर, पटियाला 





गुजरात की सभी 26 सीटों पर 23 अप्रैल को तीसरे चरण में लोकसभा चुनाव होंगे। 
हरियाणा की सभी 10 सीटों पर 12 मई को छठे चरण में लोकसभा चुनाव होंगे। 
दिल्‍ली की सभी सात सीटों पर चुनाव छठे चरण में 12 मई को होंगे।   






जानिए उत्तर प्रदेश में आप किस तारीख को करेंगे वोट

जानिए उत्तर प्रदेश में आप किस तारीख को करेंगे वोट

लोकसभा चुनाव 2019 की तिथियां चुनाव आयोग द्वारा घोषित की जा चुकी हैं तो आइए देखते हैं कि बड़े राज्य उत्तर प्रदेश की 80 सीटों पर कब कहाँ होगी वोटिंग





पहला चरण





मुजफ्फरनगर, बिजनौर में 11 अप्रैल को वोटिंग





मेरठ, बागपत में 11 अप्रैल को वोटिंग





गाजियाबाद, गौतमबुद्धनगर में 11 अप्रैल को वोटिंग





दूसरा चरण





दूसरे चरण में 8 सीटों पर 18 अप्रैल को वोटिंग





नगीना, अमरोहा में 18 अप्रैल को वोटिंग





बुलंदशहर, अलीगढ़ में 18 अप्रैल को वोटिंग





हाथरस, मथुरा में 18 अप्रैल को वोटिंग





आगरा, फतेरपुर सीकरी में 18 अप्रैल को वोटिंग





तीसरा चरण





तीसरे चरण में 10 सीटों पर 23 अप्रैल को वोटिंग





मुरादाबाद, रामपुर, संभल में 23 अप्रैल को वोटिंग





फिरोजाबाद, मैनपुरी, एटा में 23 अप्रैल को वोटिंग





बदायूं, आवंला में 23 अप्रैल को वोटिंग





बरेली और पीलीभीत में 23 अप्रैल को वोटिंग





चौथा चरण





चौथे चरण में 13 सीटों पर 29 अप्रैल को वोटिंग





शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी में 29 अप्रैल को वोटिंग





हरदोई, मिश्रिख में 29 अप्रैल को वोटिंग





उन्नाव, फर्रूखाबाद में 29 अप्रैल को वोटिंग





इटावा, कन्नौज में 29 अप्रैल को वोटिंग





कानपुर, अकबरपुर में 29 अप्रैल को वोटिंग





जालौन, झांसी, हमीरपुर में 29 अप्रैल को वोटिंग





पांचवा चरण





धौरहरा, सीतापुर, मोहनलालगंज, 6 मई को





लखनऊ, रायबरेली, अमेठी, 6 मई को





बांदा, फतेहपुर, कौसांबी, बाराबंकी, 6 मई को





फैजाबाद, बहराइच, कैसरगंज, गोंडा 6 मई को





छठवां चरण





सुल्तानपुर, प्रतापगढ़, फूलपुर, 12 मई को





इलाहाबाद, अंबेडकर नगर, श्रावस्ती, 12 मई को





डुमरियागंज, बस्ती, संत कबीरनगर, 12 मई को





लालगंज, आजमगढ़, जौनपुर, 12 मई को





मछलीशहर, भदोही 12 मई को





सातवां चरण





महराजगंज, गोरखपुर, कुशीनगर, 19 मई को





देवरिया, बांसगांव, घोसी, सलेमपुर, 19 मई को





बलिया, गाजीपुर, चंदौली, वाराणसी, 19 मई को





मिर्जापुर, राबर्टसगंज 19 मई को





चुनाव नतीजे 23 मई को आएँगे


बजा चुनावी बिगुल, अचार संहिता लागू

बजा चुनावी बिगुल, अचार संहिता लागू

मुख्य चुनाव आयुक्त सुनील अरोड़ा ने प्रेस कॉन्फ्रेंस में लोकसभा 2019 चुनाव की घोषणा की ।





घोषणा के साथ ही आचार संहिता लग गई है, खास बात यह है कि इस बार सोशल मीडिया पर भी यह आचार संहिता लागू होगी ।





इस बार 7 चरणों में लोकसभा चुनाव होंगे और 23 मई को नतीजे आएंगे ।





इस बार चुनाव में 90 करोड़ लोग वोट डालेंगे । लाउड स्पीकर का इस्तेमाल रात दस बजे से सुबह छह बजे तक बंद रखना होगा ।





चनाव 7 चरणों मे सम्पन्न होगा





पहला चरण 11 अप्रेल, 91 सीट पर 20 राज्यों में
दूसरा चरण18 अप्रेल, 97 सीट पर 13 राज्यों में
तीसरा चरण 23 अप्रेल, 115 सीट पर 14 राज्यों में
चौथा चरण 29 अप्रेल, 71 सीट पर 9 राज्यों में
पांचवा चरण 6 मई, 51 सीट पर 7 राज्यों में
छठा चरण 12 मई, 59 सीट पर 7 राज्यों में
सातवां चरण 19 मई , 59 सीट पर 8 राज्यो में





मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि इस बार सोशल मीडिया पर कैंपेनिंग का खर्चा भी जोड़ा जाएगा। सभी सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म को इस बार किसी भी राजनीतिक पार्टी के विज्ञापन को जारी करने की जानकारी देनी होगी ।





सभी उम्मीदवारों को अपनी संपति और शिक्षा का ब्यौरा देना होगा, फॉर्म 26 भरना होगा । 





सीआरपीएफ को बड़ी संख्या में तैनात किया जाएगा । चुनाब में मशीन और कर्मियों की सुरक्षा का ध्यान रखा जाएगा ।





मुख्य चुनाव आयुक्त ने कहा कि इस बार एक ऐप भी लांच होगा, जिसकी मदद से कोई भी मतदाता किसी भी नियम उल्लंघन को कैमरे में कैद कर सीधे हमें भेजा सकेगा ।





साथ ही एक समाधान वेब पोर्टल भी होगा, आम जनता इस पोर्टल के जरिये फीडबैक दे पाएगी ।


वोट के लिए सेना के जवानों और अभियानों का इस्तेमाल न हो : चुनाव आयोग

वोट के लिए सेना के जवानों और अभियानों का इस्तेमाल न हो : चुनाव आयोग

पुलवामा हमले के बाद से कई राजनीतिक दलों के मंच पर शहीद जवानों के फोटो लगाए गए पार्टी बैनरों आदि पर भी इस्तेमाल हुए ।





एयर स्ट्राइक की खबरों को भी पार्टी और नेताओं के नाम से जोड़कर चुनावी फायदा लेने की कोशिश की गई है ।





सेना के कार्य का सारा श्रेय नेता लोग अपने वोट में कनवर्ट करने के लिए सेना के फोटो व शोशल मीडिया पोस्ट करने से नहीं चूक रहे ।





हाल ही में वायु सेना के पायलट अभिनंदन की फोटो का इस्तेमाल भी चुनावी पोस्टरों और सोशल मीडिया कैंपेन में हो रहा है ।





इस सब को देखते हुए चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक पार्टियों को यह सलाह दी है कि सेना और सैन्य अभियानों की तस्वीरें चुनावी अभियान में इस्तेमाल न की जाएं ।





चुनाव आयोग द्वारा शनिवार को सभी राजनीतिक दलों के प्रमुखों से अपने पार्टी प्रतिनिधियों और उम्मीदवारों से इसका सख्ती से पालन करने के लिए कहा है ।





आयोग को शिकायत मिली कि एक राजनीतिक दल के पोस्टर में वायु सेना विंग कमांडर अभिनंदन की तस्वीर  का गलत तरीके से इस्तेमाल हो रहा है ।





कथित इस्तेमाल पर संज्ञान लेते हुए आयोग द्वारा राजनीतिक दलों को ऐसा करने से बचने का परामर्श दिया है।





चुनाव आयोग ने सभी राजनीतिक दलों से कहा है कि वे अपने चुनाव अभियान में सैनिकों और सैन्य अभियानों की तस्वीरों का इस्तेमाल करने से बचें ।





हाल ही में एक जीप के आगे अभिनंदन का फोटो लगाकर पार्टी के झंडों और बैनरों से पटी जीप की फोटो भी शोशल मीडिया पर खूब वायरल हुई है ।





पुलवामा हमले के बाद से कई राजनीतिक दलों के मंच पर शहीद जवानों के फोटो लगाए गए थे । इसके बाद वायु सेना के पायलट अभिनंदन की फोटो का इस्तेमाल भी चुनावी पोस्टरों और सोशल मीडिया कैंपेन में हो रहा है।





आयोग ने पहले दिसंबर 2013 में रक्षा मंत्रालय की शिकायत पर यह परामर्श जारी किया था।





रक्षा मंत्रालय ने विभिन्न राजनीतिक दलों के उम्मीदवारों द्वारा चुनाव अभियान में सैन्यकर्मियों की तस्वीर का इस्तेमाल करने पर चुनाव आयोग का ध्यान आकर्षित करते हुए इसे रोकने के लिए उपयुक्त निर्देश जारी करने का अनुरोध किया था ।





राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली की सड़क पर अब भी राजनीतिक पोस्टर लगा है जिसमें वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान का भी फोटो लगाया हुआ है ।





आयोग ने अपने परामर्श में कहा कि सुरक्षा बल देश की सीमाओं और राजनीतिक तंत्र की सुरक्षा के तटस्थ पहरेदार हैं । राजनीतिक दलों और उनके नेताओं को अपने चुनावी अभियान में सैन्य बलों के संदर्भ का किसी भी रूप में सहारा लेते समय अत्यधिक सावधानी बरतने की जरूरत है ।





राजनीतिक दलों और उनके उम्मीदवारों को चुनाव अभियान में सैन्य बलों के जवानों और सैन्य अभियानों की तस्वीर आदि का इस्तेमाल बिलकुल नहीं करना चाहिए ।


March 07, 2019

सांसद ने विधायक को मारे जूते

सांसद ने विधायक को मारे जूते

संत कबीर नगर के कलेक्ट्रेट सभागार में जिला योजना समिति की बैठक चल रही थी । अधिकारी और नेतागण मौजूद थे ।





इसी बीच संत कबीरनगर से भाजपा सांसद शरद त्रिपाठी और मेंहदावल से भाजपा विधायक राकेश बघेल के बीच सड़क निर्माण का श्रेय लेने को लेकर कहासुनी हो गई ।





संतकबीर नगर से बीजेपी सांसद शरद त्रिपाठी ने अपनी ही पार्टी के विधायक राकेश सिंह को जूतों से पीट डाला ।





घटना स्थल पर जिले के उच्च अधिकारी मौजूद थे तथा पार्टी जिले के प्रभारी मंत्री आशुतोष टंडन भी मौजूद थे ।





घटना के बाद उत्तर प्रदेश भाजपा अध्यक्ष महेंद्र नाथ पाण्डेय ने इस घटना पर दोनों नेताओं को लखनऊ बुलाया है ।





मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि भाजपा एक अनुशासित पार्टी है मामले में दोषी लोगों पर कड़ी कार्रवाई की जाएगी ।





उन्होंने कहा कि इस प्रकार का व्यवहार और कार्यकलाप पार्टी में बर्दाश्त नहीं किए जाएंगे ।





मेंहदावल के विधायक राकेश सिंह बघेल ने सांसद शरद त्रिपाठी के खिलाफ कार्रवाई की मांग को लेकर जिलाधिकारी कार्यालय के सामने धरना भी दिया ।





बाद में धरना प्रदेश अध्यक्ष और मुख्यमंत्री से फोन पर बातचीत करने के बाद खत्म कर दिया ।





घटना का वीडियो वायरल होने के बाद भारतीय जनता पार्टी के सांसद शरद त्रिपाठी ने घटना पर खेद जताया ।


March 04, 2019

सपा बसपा के साथ आएगी काँग्रेस ?

सपा बसपा के साथ आएगी काँग्रेस ?

लोकसभा चुनाव 2019 से पहले अभी काफी उथल पुथल की संभावनाएं हैं ।





कयास लगाए जा रहे हैं कि उत्तर प्रदेश में सपा बसपा गठबंधन के साथ कोंग्रेस भी सम्मिलित हो सकती है ।





कांग्रेस के लिए केवल दो सीट यानी रायबरेली और अमेठी छोड़ने वाली गठबंधन द्वारा कांग्रेस को सीट बढ़ाकर देने की मंशा की संभावना बताई जा रही है ।





अब कांग्रेस को यह तय करना है कि वह क्या कदम उठाती है सूत्रों के मुताबिक उसे लगभग 10 सीट का ऑफर मिलेगा ।





नेताओं को लगता है कि नए हालात में एक-एक वोट कीमती है





भाजपा द्वारा सेना के स्ट्राइक को भुनाने की कोशिश के इल्जाम के साथ साथ विपक्ष सरकारी विभागों के गलत इस्तेमाल का आरोप भी लगा रहा है ।





समाजवादी पार्टी शिवपाल यादव के साथ प्रियंका गांधी की टेलीफोन पर बातचीत करने से परेशान है । उन्हें पुराने नेता कोंग्रेस के साथ जाने का डर भी है ।





यदि कांग्रेस ने शिवपाल यादव की पार्टी से गठबंधन कर लिया तो सपा बसपा के लिए परेशानी बढ़ जाएगी ।





हालांकि कांग्रेस ने अभी इस पर चुप्पी साध रखी है आने वाले दिनों में ही कांग्रेस उत्तर प्रदेश में इस बारे में कोई घोषणा कर सकेगी ।





देखने वाली बात यह होगी कि यदि कोंग्रेस भी सपा बसपा के साथ आती है तो सपा और बसपा को कौन सी और कितनी सीट छोड़नी पड़ेंगी ।





हालांकि यह सब समय ही बताएगा ।


घुसपैठ की कोशिश में पाक

घुसपैठ की कोशिश में पाक

पाकिस्तान अपनी हरकतों से बाज नहीं आ रहा है।





एक बार फिर उसने राजस्थान की सीमा पर आज सुबह 11.30 बजे घुसपैठ करने की कोशिश की थी।





घटना राजस्थान के बीकानेर बॉर्डर के पास की है ।





पाकिस्तान ने फिर से भारतीय वायु क्षेत्र में घुसपैठ की ।





पाक सेना का एक मानव रहित विमान (यूएवी) बीकानेर सीमा पर उड़ान भरते हुए पकड़ा गया ।





जिसे वायुसेना के लड़ाकू विमान ने मिसाइल छोड़कर मार गिराया।





यूएवी (ड्रोन) का मलबा पाकिस्तान के इलाके में बहावलपुर के पास गिरा बताया गया है।